close
उड़ीसाकोलकाताबंगाल

“यास” चक्रवाती तूफान भद्रक से टकराया, तूफान का कहर शुरू, तेज हवाओं के साथ बारिश समंदर का रौद्र रूप, एक व्यक्ति की मौत, 6 राज्यों में अलर्ट, सुरक्षा के व्यापक इंतजाम

Cyclone
Cyclone

भुवनेश्वर/ कोलकाता- देश मे चक्रवाती तूफान “यास” ने आज दस्तक दे दी हैं जो ओडिशा और बंगाल के तटीय इलाकों में ज्यादा प्रभावी रहेगा फिलहाल तेज हवाओं और बारिश के साथ समंदर में तेज लहरें उठना शुरू हो गई हैं यह तूफान ओडिसा के बालासोर के नजदीक पहुंच गया है और भद्रक के समुद्र तट से टकराया हैं। तास तूफान के मद्देनजर ओडिसा और बंगाल सहित 6 राज्यों को एलर्ट पर रखा गया है जहां 115 एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीमें और वायु सेना को तैनात कर दिया गया है हवाई सेवाएं रोकने के साथ ही कई ट्रेनें रद्द करदी गई है । सुरक्षा के मद्देनजर करीब 11 लाख लोगों को तटीय क्षेत्रों से हटाकर सुरक्षित जगह विस्थापित किया गया है जबकि ओडिशा के भद्रक में एक व्यक्ति की मौत की खबर सांमने आई हैं।

जैसा की संभावना जताई जा रही थी आज सुबह 9 बजे चक्रवाती तूफान यास ओडीशा के भामरा और बालासौर के बीच भद्रक तट से टकराया अब इसके दोपहर तक पाराद्वीप और सागर आयरलैंड होते हुए बंगाल में पहुंचने की संभावना मौसम वैज्ञानिकों ने जताई हैं लेकिन इस तूफान के ओडीशा पहुंचने से पहले ही सुबह तड़के से ही इसने तबाही मचाना शुरू कर दिया था। ओडीशा और पश्चिम बंगाल के साथ झारखंड उत्तर प्रदेश बिहार और आंध्रप्रदेश इन 6 राज्यों में इस तूफान के मद्देनजर सरकार ने एलर्ट जारी किया हैं।

यास तूफान के कहर को देखते हुए ओडीशा के चार जिलों में एलर्ट घोषित किया गया है लेकिन आज सुबह से ही ओडीशा के दीघा चांदीपुर,भद्रक,भुवनेश्वर बालासौर और भामरा में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई सैकडों पेड़ गिरने से आवागमन में अवरोध उत्पन्न हो।गया साथ ही नेहटी में 40 मकानों के क्षतिग्रस्त होने और भद्रक में एक व्यक्ति की मौत की जानकारी सामने आई हैं।

जबकि पश्चिम बंगाल के कई जिलों और शहरों में यास तूफान का व्यापक असर देखा जा रहा है फिलहाल दीघा के अंदरूनी इलाकों में समुद्र का पानी घुस आया है सड़के पानी से लबालब हो गई है जबकि मालदा हावड़ा जलपाईगुड़ी वीरभूमि मुर्शीदाबाद पूर्वी मिदनापुर पुरुलिया दीनारपुर 24 परगना जिलों को भी यह तूफान प्रभावित कर रहा है यहां तेज वारिश आंधी अंधड़ और पेड़ो के टूटने का सिलसिला जारी हैं। वही समंदर में उठती ऊंची लहरे डर पैदा कर रही हैं।

इस चक्रवाती तूफान से निबटने के लिये ओडीशा और बंगाल में 115 एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें तटीय क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य के लिये तैनात कर दी गई है साथ ही 66 डिजास्टर फोर्स की टीमें और वायु सेना भी नजर बनाये हुए है जिसमें 11 परिवहन विमान सहित 25 हेलीकॉप्टर किसी भी आपदा से निबटने के लिये तैयार हैं।जबकि प्रभावित राज्यों में हवाई सेवाओं को निरस्त करने के साथ ही 30 रेलगाड़ियां रद्द करदी गई हैं।

Alkendra Sahay

The author Alkendra Sahay

A Senior Reporter

Leave a Response

error: Content is protected !!