close
महाराष्ट्रमुंबई

सुशांत केस – रिया पर सीबीआई का शिकंजा कसा

  • सुशांत केस – रिया पर सीबीआई का शिकंजा कसा …

  • सायक्लोजिकल ऑटोप्सी का सहारा लेगी सीबीआई…

मुंबई– अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई रिया चक्रवर्ती पर लगातार शिकंजा कसती जा रही हैं सीबीआई अब साइक्लोजिकल ऑटोप्सी करायेगी जिससे सुशांत सिंह के अंतिम समय की मनस्थिति का पता चलेगा जिससे उसे इस केस में नई लाइन लेंथ मिलेगी और इस मामले का पर्दाफाश होगा।

सायक्लोजिकल ऑटोप्सी का तीसरी बार सहारा ले रही हैं सीबीआई –

यह तीसरी बार है जब सीबीआई सुशांत केस में सायक्लोजिकल ऑटोप्सी का सहारा ले रही हैं इससे पहले सीबीआई सुनन्दा पुष्कर मामले में और बुराड़ी में सामूहिक आत्महत्या कांड जिसमें 11 लोगों की मौत हुई थी उसमें सायक्लोजिकल ऑटोप्सी का उपयोग कर चुकी है।

अंतिम समय मे सुशांत की दिमागी मनस्थिति क्या थी –

सीबीआई हर उस छोटे छोटे बिंदु पर ध्यान दे रही है जिससे उसे इस केस में आगे बढ़ने की राह मिल रही है उंसने अब इस सायक्लोजिकल ऑटोप्सी थेरेपी से इस केस की तह तक पहुंचने का फैसला लिया हैं जिसके तहत वह सुशांत सिंह राजपूत के दिमाग की स्टेडी करेगी कि घटना से पहले उनकी मनस्थिति क्या थी क्या सोच रहे थे उनके करीबी लोगों से कैसे रिश्ते थे उनके बारे में वे क्या सोच रखते थे साथ ही उनके रहन सहन व्यवहार और रोजाना के रूटीन में क्या बदलाव आये। इसके अलावा सीबीआई सुशांत के दिमाग की स्टेडी के साथ उसके सोशल मीडिया ट्वीट चैट और नोटस मैसेज को जोड़कर भी तफ्तीश करेगी।

हत्या आत्महत्या या कुछ और –

सीबीआई यह मालूम करना चाहती है कि 13 और 14 की दर्मियानी रात को ऐसा क्या हुआ जिससे सुशांत सिंह राजपूत की मनस्थिति में बदलाव आया साथ ही फिलहाल वह आत्महत्या हादसा और हत्या तीनों पॉइंट्स पर अपनी जांच को आगे बढ़ा रही हैं।

ड्रग कनेक्शन भी आया सामने –

सूत्रों के हवाले से यह खबर भी सामने आई है कि इस कांड में ड्रग कनेक्शन भी हो सकता है क्यूटिपिन नामक एक दवाई सुशांत को दी जाती थी यह हाई डोज खतरनाक डिप्रेशन में मरीज को दिया जाता है और यह दवाई रिया के पिता सुशांत को ख़िलाते थे जानकार बताते है यदि यह दवाई एकाएक बंद करदी जाती है तो वह भी काफी घातक होता हैं।

क्या है सायक्लोजिकल ऑटोप्सी- –

सायक्लोजिकल ऑटोप्सी क्या है यह सबाल उठना लाजमी है तो आपको बतादे यह एक ऐसी तकनीकि प्रक्रिया है है जिसके तहत मरने वाले के अंतिम समय की तस्वीर साफ होती है कि वह मरने से पहले क्या सोच रहा था उंसके मन मैं क्या चल रहा था और अपने किस करीबी से उनके रिश्ते कैसे थे और उसके बारे में उनके दिमाग में आखिरी समय में क्या ख्याल आ जा रहे थे।

Leave a Response

error: Content is protected !!