close
मणिपुर

मणिपुर में हजारों महिलाओं का विरोध प्रदर्शन, एक मां और सैनिक पति का दर्द सामने आया नावालिग सहित 6 गिरफ्तार, सियासत तेज

Manipur Women Protest
Manipur Women Protest

मणिपुर / मणिपुर में महिलाओं का गैंगरेप के बाद निवस्त्र परेड की शर्मनाक घटना के विरोध में 5 हजार महिलाओं ने काले कपड़े पहनकर चूड़ाचांदपुर में मशाल जुलूस निकाला, इधर पुलिस ने अभी तक इस घटना के 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि एक भूतपूर्व सैनिक ने कहा मैने कारगिल में दुश्मनों से युद्ध लड़ा लेकिन आज अपनी पत्नि को ही इन दरिंदो से नही बचा सका। जबकि बीजेपी और विपक्ष आपस में आरोप प्रत्यारोपों से घिरे दिखाई देते है और तुहारा अपराध मेरे अपराध से छोटा और बड़ा बताने में उलझे हुए है।

मणिपुर में मैतई और कुकी के बीच 3 मई से टकराव और हिंसा भड़की थी 19 जुलाई को जो वीभत्स और शर्मनाक वीडियो वायरल हुआ वह 4 मई का बताया जाता है। इसके सामने आने के बाद पूरा देश अवाक रह गया और सदमे में आ गया।पीएम नरेंद्र मोदी ने कड़ी कार्यवाही की बात कही उसके बाद पुलिस प्रशासन जागा और जो पुलिस ढाई महीने से सोई पड़ी थी उसने आनन फानन उसने कार्यवाही की और एक नाबालिग सहित 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया लेकिन सबाल है कि क्या इस कार्यवाही से मणिपुर सरकार और उसके मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी पूरी हों गई।

लेकिन इन दो महिलाओं के साथ अश्लील छेड़छाड़ और गैंगरेप के खिलाफ शुक्रवार 21 जुलाई को चूड़ाचांदपुर में 5 हजार महिलाएं सड़कों पर उतरी उन्होंने हाथों में मशाल लेकर काले कपड़ों में अपना विरोध दर्ज कराया और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की। इसी तरह गढ़ीमाखा लेइकाई और इंफाल में भी महिलाओं ने प्रदर्शन किए और सड़कों पर टायर जलाकर अपना रोष व्यक्त किया।

एक पीड़ित महिला के पति जो पूर्व सैनिक रहे है उनका बयान बड़ा ही दर्द और बेबसी भरा रहा उनका कहना हैं मैने कारगिल युद्ध में देश के दुश्मनों से लड़ा लेकिन दंगाईयों और हैवानों से अपनी पत्नी को नही बचा सका। यह असम राइफल्स में सूबेदार के पद पर थे। जबकि दूसरी पीड़ित युवती की मां का कहना मैं अंदर से बुरी तरह से टूट गई हूं हम अब अभी गांव में नही लोटेंगे वहां मेरे छोटे बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई मेरी बेटी का सब कुछ लुट गया उसे शर्मिंदा होना पड़ा मेरा सब कुछ खत्म हो गया।

लेकिन एक तरफ मणिपुर जल रहा है हिंसा आगजनी ने सब कुछ बरबाद कर दिया 150 लोगों की मौत हो गई 300 से अधिक घायल है और 60 हजार लोग बेघर हो गए और राहत कैंपों में रह रहे है। लेकिन गंभीर बात है कि विडियो सामने आने के बाद स्थिति एक बार फिर से बिगड़ने लगी है बीते दिन चूड़ाचांदपुर के एक गांव में दो गुटों में कई राउंड फायरिंग हुई और इंफाल में भी हिंसा होने की खबर है जबकि वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने फिलहाल 12 लोगों को आरोपी बनाया था लेकिन पुलिस ने अभी तक एक नावालिग सहित 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया हैं।

इधर राजनीति पूरे शबाब पर है बीजेपी और अन्य पार्टियों के बीच महिला अत्याचार को लेकर एक दूसरे पर कीचड़ उछाला जा रहा है जिसमें बीजेपी मणिपुर की घटना को लेकर अपने बचाव में कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों को घेरने में लगी है और राजस्थान और पश्चिम बंगाल में महिला उत्पीडन का हवाला दे रही है। इस में एक तरह से मेरा अपराध तुमसे छोटा है और तुम्हारा बड़ा अपराध है इसे दर्शाते की पुरजोर कोशिश दोनों ही तरफ से हो रही है। जो एक तरह से राजनेतिक रोटियां सैकने से ज्यादा कुछ नजर नहीं आता। लेकिन यह भी सही है कि पिछले ढाई महिने में मणिपुर में जो हुआ और अभी भी शांति नहीं हुई यह देश का बड़ा मामला हैं।

बीजेपी की महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर का आरोप है कि राजस्थान और पश्चिम बंगाल में महिलाओं के साथ जो हो रहा है उसके बारे में कांग्रेस और विपक्षी नेता कुछ नही कहते महिला तो महिला है वह चाहे वह राजस्थान बंगाल की हो या मणिपुर की। बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर ने आरोप लगाया राजस्थान लगातार महिला उत्पीड़न में देश में नंबर एक पर है जबकि पश्चिम बंगाल में भी लगातार महिलाओं के साथ रेप और निम्न स्तर की घटनाएं आए दिन हो रही हैं उन्होंने राजस्थान के करोली और जोधपुर और पश्चिम बंगाल के मालदा और हावड़ा की घटनाओं का जिक्र किया। लेकिन कांग्रेस और टीएमसी नेताओं ने राजस्थान और बंगाल में हुई घटनाओं पर कहा की इस मामलों में पुलिस ने तुरंत संज्ञान लेते हुए कार्यवाही की है और मालदा में 5 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है और करोली में 4 लोगों की गिरफ्तारी हुई जो एबीवीपी के कार्यकर्ता थे। ऐसा कांग्रेस का कहना हैं।

Leave a Response

error: Content is protected !!