close
दिल्लीदेश

कोरोना वायरस- प्रधानमंत्री की राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, कहा केंद्र राज्य मिलकर लड़ेंगे

PM Narendra Modi
PM Narendra Modi
  • कोरोना वायरस- प्रधानमंत्री की राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक,

  • कहा केंद्र राज्य मिलकर लड़ेंगे, वैक्सीन पर काम जारी है

  • वैज्ञानिक तय करेंगे वैक्सीन कब आयेंगी

नई दिल्ली – देश में कोरोना महामारी के यू टर्न लेने के बाद सरकार की चिंता में इजाफा होना लाजमी है इसी को लेकर आज नवी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से ऑन लाइन चर्चा की और कोविड 19 की स्थिति आ रही परेशानी की जानकारी लेने के साथ इन प्रदेशों को किस तरह की मदद की जरूरत हैं यह भी जाना। प्रधानमंत्री ने कहा वैक्सीन कब आयेगी यह वैज्ञानिक तय करेंगे लेकिन वैक्सीन हर एक को उपलब्ध हो यह हमारी प्राथमिकता होगी उन्होंने कहा कि कुछ लोग इसको लेकर राजनीति कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी से चर्चा में देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री जुड़े, इस मौके पर गृहमंत्री अमित शाह और केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रमुख रूप से मोजूद थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि मौसम के बदलाव के साथ वायु प्रदूषण की बजह से दिल्ली में कोरोना के मामले बड़े है उन्होंने किसानों व्दारा पराली जलाने से हो रहे प्रदूषण पर भी प्रधानमंत्री का ध्यान दिलाया और पराली को लेकर एक नीति बनाने का आग्रह भी किया केजरीवाल ने कोरोना के बड़ते मामलों को लेकर केंद्र से मदद के साथ 1 हजार बेड की मांग भी की।

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि अमेरिका सहित यूरोप में कोरोना फिर पैर पसार रहा है भारत में इसका ज्यादा प्रभाव नही पड़े इसके लिये हमें विशेष सावधानी रखने की जरूरत है उन्होंने कहा जब तक वैक्सीन नही आती मास्क लगाने के साथ सोशल डिस्टेंस और हाथ धोने की प्रक्रिया जारी रखना जरूरी है।

जबकि स्वास्थ्य सचिव ने यू तो इन सभी आठ राज्यों को चेतावनी दी लेकिन दिल्ली और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों को अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत भी बताई उन्होंने कहा अभी जो लापरवाही हुई उन्हें अगला दूसरा स्प्रेड आने से पहले ही हमें दूर करना जरूरी हैं नही तो बचना मुश्किल होगा।

अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कुछ राज्यों में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि हमें कोरोना पाजिटिविटी रेट को 5 फीसदी से कम लाना होगा इसके लिये केंद्र और राज्य मिलकर काम करेंगे । आपदा के गहरे समुद्र से निकलकर आज हम किनारे पर आ गये है लेकिन अब हमें और अधिक सावधानी रखने की जरूरत है क्योंकि सावधानी ही इसका समाधान हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले 6 साल में देश ने विकास के मामले में एतिहासिक उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने कहा वैक्सीन को लेकर कुछ लोग राजनीति कर रहे है परंतु उन्हें रोका भी नही जा सकता लेकिन वैक्सीन कब आएंगी और इसका कीमत और डोज कितना होगा फिलहाल हम यह नही बता सकते यह वैज्ञानिक तय करेंगे हमारी पहली प्राथमिकता होगी कि सभी व्यक्ति तक वैक्सीन पहुंचे और उसे उपलब्ध कराने का काम पूरी पारदर्शिता से करना होगा।

Tags : Corona
Alkendra Sahay

The author Alkendra Sahay

A Senior Reporter

Leave a Response

error: Content is protected !!