close
ग्वालियरमध्य प्रदेश

100 करोड़ के जेवरातों से सजे कृष्ण कन्हैया

  • 100 करोड़ के जेवरातों से सजे कृष्ण कन्हैया …

  • हीरे, पन्ना माणिक जड़े सोने के गहनों से दमकते भगवान बाल गोपाल के दुर्लभ दर्शन

  • कहा है यह मंदिर …

ग्वालियर – आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का धार्मिक पर्व है जो देश में हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है हम आपको देश के एकमात्र ऐसे मंदिर के दर्शन करा रहे है, जहां श्री राधा गोपाल का खास श्रृंगार 100 करोड़ के गहनों से होता हैं।

जहां कृष्ण कन्हैया और राधा रानी हीरे, पन्ना, माणिक रत्न जड़ित सोने के हार कंगन, कुंडल, अँगूठी और हीरे जड़ा मुकुट पहनते है, इस तरह सौ करोड़ से भी अधिक कीमत के जेवरातों से होता है। भगवान के जन्मोत्सव पर यह अनोखा श्रृंगार और तब कृष्ण कन्हैया माणिक पन्ना जड़ित सोने की मुरलिया धारण करते हैं।

यह सभी गहनों को धारण करने के बाद श्री गोपाल और उनकी प्रेयसी राधारानी की सुंदर और आकर्षक छटा देखते ही बनती है जो हीरे माणिक मोतियों से दमदम दमकती सी परिलक्षित हो रही है आप सोच रहे होंगे कि ऐसा मंदिर कहा है तो आपकी जानकारी के लिये बता देते है यह विलक्षण और अनूठा गोपाल मंदिर मध्यप्रदेश के ग्वालियर में हैं।

सिंधिया रियासत कालीन यह गोपाल मंदिर ग्वालियर शहर के फूलबाग परिसर में हैं खास है साल में एक बार एक दिन श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर ही यह 100 करोड़ का भगवान का खजाना खुलता है और यह जेवरात बैंक लॉकर से निकाले जाते है और उनसे श्रीराधा और कृष्ण भगवान का श्रृंगार किया जाता है और 24 घंटे बाद उन्हें सहेजकर फिर से बैंक लॉकर में रख दिया जाता है। इस दौरान मंदिर और आसपास भारी सुरक्षा व्यवस्था होती हैं।

इस बार कोरोना संकट में भी आस्था का बंधन अटूट रहा जिसके चलते आम दर्शनार्थियों के मंदिर में प्रवेश पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध तो रहा लेकिन श्रद्धांलुओं के दर्शनार्थ बाहर एलईडी लगाई गई तो फेस बुक के जरिये भी श्रद्धालुओ ने भगवान श्री राधाकृष्ण के बड़े भक्तिभाव से दर्शन किये। जबकि जन्माष्टमी के पावन पर्व पर गोपाल मंदिर में आज विशेष पूजा अर्चना के बाद नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन ने भगवान बाल गोपाल की महाआरती की।

 वीडियो

Leave a Response

error: Content is protected !!