close
भोपालमध्य प्रदेश

मध्यप्रदेश में भीषण बारिश 4 संभाग ज्यादा प्रभावित अधिकांश बांधों के गेट खुले नदिया उफान पर

  • मध्यप्रदेश में भीषण बारिश 4 संभाग ज्यादा प्रभावित अधिकांश बांधों के गेट खुले नदिया उफान पर…

  • 31 अगस्त तक रहेगी यही स्थिति मौसम विभाग ने किया अलर्ट जारी…

  • एनडीआरएफ़ एसडीआरएफ की टीमें मुस्तेद राहत और बचाव कार्य में जुटी …

  • मुख्यमंत्री ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे…

 

भोपाल– मध्यप्रदेश में लगातार हो रही भीषण बारिश ने कहर बरपा दिया है अनेक जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है अधिकांश बांधों के गेट खुलने से नदिया उफान पर है और ग्रामीण क्षेत्रों और निचले इलाकों में पानी भर गया है मौसम विभाग ने प्रदेश के 11 जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी करने के साथ 6 जिलों में रेड 20 जिलों में औरेंज और 4 में यलो अलर्ट जारी किया गया हैं।

वही मौसम विभाग ने 31 अगस्त तक वर्षा की यही स्थिति रहने की बात भी कही है जबकि नर्मदा नदी ने रौद्र रूप ले लिया है उस का जल स्तर बढ़ने से इंदौर और खंडवा के बीच सड़क संपर्क टूट गया हैं। बिगड़ते हालात को देखते हुए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीमों को तैयार रहने को कहा गया है वही कुछ इलाकों में टीमें भेजी भी गई हैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे कर जायजा भी लिया हैं।

जबलपुर भोपाल सागर और होशंगाबाद संभाग में पिछले 3 दिनों से भारी बारिश जारी हैं जिससे सभी नदिया उफान पर है तो डेम भी लबालब हो गये है यही बजह हैं कि मंडला के पैच बांध और बैतूल के सतपुड़ा बांध और तवा बांध के सभी गेट खोल दिये गए है और जबलपुर के बरगी डेम के 21 में से 17 खंडवा के इंदिरा सागर डेम के 22 गेट तो सिवनी में संजय सरोवर बांध के 10 गेट और छिंदवाड़ा के मायागोरा बांध के 4 गेट खोले गये है तो भोपाल में लगातार बारिश के चलते कलियासोत और भदभदा बांध के गेट खोल दिये गये हैं।

होशंगाबाद में नर्मदा तो सिवनी में बेनगंगा नदी तांडव मचा रही है नर्मदा का जल स्तर बढ़कर 950 फुट के ऊपर जा पहुंचा हैं जिससे मोरटक्का ब्रिज पर नर्मदा नदी का पानी आ जाने से आवाजाही रोक दी गई है जबकि खंडवा में ओंकारेश्वर बांध के 23 में से 21 गेट खोले गये है जिससे अनेक क्षेत्रों में जल भराव हो गया है जिससे खंडवा इंदौर के बीच सड़क संपर्क टूट गया हैं।

प्रदेश के भोपाल रायसेन इटारसी जबलपुर नरसिंगपुर छिंदवाड़ा सिवनी धार सीहोर और देवास में भारी बारिश दर्ज की गई हैं बरेली में पिछले 36 घंटे से लगातार बारिश रिकार्ड की गई है तो होशंगाबाद संभाग सहित 17 जिलों में औरेंज अलर्ट जबलपुर के 6 जिलों रेड अलर्ट और गुना अशोकनगर शिवपूरी और श्योपुर में मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया हैं। औरेंज अलर्ट वाले जिलों में बैतूल हरदा रायसेन होशंगाबाद नरसिंहपुर धार देवास नसरुल्लागंज सिवनी बालाघाट भोपाल इंदौर उज्जैन सागर शामिल हैं।

जहां तक नदियों की बात की जाये तो श्योपुर और गुना में पार्वती नदी सीहोर के नसरुल्लागंज की कालियादेव नदी मुरैना की आसन नदी टीकमगढ़ की बेतवा नदी उज्जैन में शिप्रा नदी होशंगाबाद में नर्मदा नदी उफान पर हैं जबकि बरेली में तेंदुनी नदी, सिवनी में बेनगंगा नदी उफान पर है जो अपने निर्धारित जल स्तर से ऊपर बह रही हैं। जिससे आसपास के गांवों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो रही हैं।

जबकि जलभराव और बाढ़ प्रभावित इलाकों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्यों में लगी हुई है इसके अलावा कुछ टीमें रिजर्व में तैयार रखी गई हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सीहोर होशंगाबाद और नर्मदा नदी के किनारे वाले ग्रामीण क्षेत्र के बाढ़ ग्रस्त इलाके का हवाई सर्वे किया और हालात की जानकारी ली।

 

Leave a Response

error: Content is protected !!