close
मध्य प्रदेशमुरैना

पायलट के समर्थन में मुरैना में गुर्जरों ने मुख्यमंत्री गहलोत का पुतला फूंका

  • पायलट के समर्थन में मुरैना में गुर्जरों ने मुख्यमंत्री गहलोत का पुतला फूंका…

  • उपचुनाव में कांग्रेस को होगा नुकसान …?

मुरैना – राजस्थान की बदलती राजनीति का असर क्या मध्यप्रदेश के 25 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव पर होगा, खासकर ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर जहां गुर्जर समाज के मतदाता एक अच्छी खासी संख्या में हैं।क्योंकि मुरैना में बीते दिन गुर्जर समाज ने सचिन पायलट के समर्थन में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला ही नही फूंका बल्कि कांग्रेस का विरोध करने की बात भी कही है।

इससे लगता हैं कांग्रेस को मध्यप्रदेश में चुनाव के दौरान गुर्जर समाज का विरोध झेलना पड़ सकता हैं।

राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम रहे सचिन पायलट के समर्थन में मुरैना का गुर्जर समाज सड़क पर उतर आया और आगरा मुंबई हाइवे पर गुर्जर समाज ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ जोरदार नारेबाजी कर मुर्दाबाद के नारे लगाये और गहलोत का पुतला भी जलाया|

जैसा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार संकट में है और उसने सचिन पायलेट पर भाजपा से मिलकर सरकार गिराने का षडयंत्र रचने का आरोप लगाते हुए उन्हें उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया है जिसको लेकर गुर्जर समाज मे गहरा आक्रोश है|

यही बजह है कि उन्होंने सचिन पायलट के समर्थन में राजस्थान के मुंख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला फूंका और कांग्रेस के खिलाफ यह आंदोलन किया। गुर्जर समाज के मुताबिक राजस्थान सहित मध्यप्रदेश के होने वाले विधानसभा उपचुनाब में वे खुलकर कांग्रेस का विरोध करेंगे।

जैसा कि जिन 25 सीटों पर हाल में मध्यप्रदेश में उपचुनाव होना हैं उनमें से 12 सीटें ऐसी हैं जहां गुर्जर समाज का वोटर हैं खास बात यह भी हैं कि इनमें से 5 से 6 विधानसभा ऐसी भी हैं जहाँ गुर्जर समाज के वोट निर्णायक स्थिति में हैं|

इससे साफ हैं कि मुरैना में शुरू हुई खिलाफत यह साफ इशारा कर रही है कि यदि राजस्थान में स्थिति नही सम्हलती और सचिन पायलट के खिलाफ कांग्रेस का रुख नरम नही होता तो ग्वालियर चंबल सहित गुर्जर बाहुल्य सीटों पर कांग्रेस को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता हैं।

 

रिपोर्ट – गिर्राज शर्मा

Leave a Response

error: Content is protected !!