close

शहडोल

मध्य प्रदेशशहडोल

मध्यप्रदेश में रेत माफिया के हौंसले बुलंद, अब पटवारी की ट्रेक्टर से कुचलकर हत्या, आइपीएस और अन्य हत्याओं से भी नही ली सीख, नही की ठोस कार्यवाही

Sand mafia shehdol

शहडोल, भोपाल/ मध्यप्रदेश में रेत माफिया बेलगाम हो चुके है पिछले कुछ सालों में एक आईपीएस अधिकारी सहित दर्जनों सरकारी अधिकारी कर्मचारी की रेत माफिया के इशारे पर हत्याएं और हमले हो चुके है लेकिन सरकार और उसका वरिष्ठ प्रशासन हाथ पर हाथ रखें बैठा है इससे साफ होता है कि इस करोड़ों के अवैध गोरखधंधे में कही ना कही सरकार और उसके बड़े हाथ हिस्सेदार है यदि ऐसा नहीं है तो सैकड़ों शिकायत और हत्या की वारदातों के बाद भी उसने कड़ी और ठोस कार्यवाही क्यों नहीं की? अब प्रदेश के शहडोल में एक पटवारी की रेत माफिया के इशारे पर बलि ले ली गई जिसकी ट्रेकर से कुचलकर निर्ममता से हत्या कर दी गई।

शहडोल के ब्योहारी तहसील के खड्डा में पदस्थ पटवारी प्रसन्न सिंह सहित अन्य तीन चार पटवारी कर्मचारी शनिवार रविवार की दरमियानी रात सोन नदी से अवेध रेत खनन रोकने गोपालपुर क्षेत्र में पहुंचे थे इसी बीच उन्हें नदी के घाट पर एक रेत से भरी ट्रेक्टर ट्राली को देखा जब उन्होंने पूछताछ के लिए उसे रोकना चाहा तो ड्राइवर ने एकाएक ट्रेक्टर तेज गति से चलाते हुए जानबूझकर उसे सीधा पटवारी प्रसन्न सिंह पर चढ़ा दिया सिर कुचलने से उनकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई इस बीच ट्रेक्टर चालक वहां से फरार हो गया।

साथ में मोजूद अन्य पटवारियों ने प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों को इस घटना की पूरी जानकारी दी। लेकिन असंवेदनहीनता देखिए रात में मौके पर कोई भी संबंधित प्रशासनिक अधिकारी या कर्मचारी नहीं आया और पटवारी का शव नदी के घाट पर रात भर पड़ा रहा। सुबह देवलोंद थाना पुलिस मौके पर पहुंची और उसने कार्यवाही शुरू की और शव को पीएम के लिए रवाना किया।

घटना के बाद कलेक्टर वंदना वैध ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी साथ ही पीड़ित परिवार को सहायता राशि के साथ हरसंभव मदद दी जायेगी। जबकि एसपी कुमार प्रतीक ने बताया पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और सूचना मिलते ही एएसपी दिनेश चंद्र सागर ने फरार आरोपी की गिरफ्तारी के लिए 30 हजार का इनाम घोषित कर दिया था और आरोपी शुभम विश्वकर्मा को समीप के दूसरे जिले मैहर से गिरफ्तार कर लिया है साथ ही उसका ट्रैक्टर भी जब्त कर लिया गया है।

शहडोल में रेत और कोयले का अवैध उत्खनन का गोरखधंधा लंबे समय से लगातार जारी है तमाम शिकायतें भी की गई एक दिन पहले शनिवार को खनिज विभाग ने 250 घन मीटर रेता जब्त की थी सूत्रो के मुताबिक खनन माफिया के खिलाफ प्रशासन ने कोई कड़ी कार्यवाही नही की जिससे खनन माफिया के हौसले बुलंद हैं जिसकी परिणीति में एक पटवारी को अपनी जान गंवाना पड़ी।

मध्यप्रदेश में यह कोई पहली घटना नहीं है जब किसी प्रशासन के कर्मचारी को अवैध खनन माफिया ने मौत के घाट उतारा हो इससे पहले ग्वालियर चंबल सहित प्रदेश के अनेक जिलों में रेत का अवेध कारोबार करने वाले यह माफिया आईपीएस डिप्टी कलेक्टर पुलिस ऑफीसर पुलिस कर्मचारी फॉरेस्ट रेजर वन कर्मचारी और खनिज कर्मचारी और प्रशासनिक कर्मचारियों को भी मौत की नींद सुला चुके है। मध्यप्रदेश के मुरैना भिंड श्योपुर ग्वालियर शिवपुरी गुना नर्मदापुरम (होशंगाबाद) सिंगरोली शहडोल उमरिया सीहोर सहित अनेक जिले अवेध रेत कारोबार के लिए कुख्यात है यहाँ बाहुवली रेत माफिया सक्रिय है जो भारी मात्रा में रेत और कोयले का अवेध उत्खनन करते है और उनके बीच जो भी रोड़ा बनता है उसे यह जान से खत्म करने से भी नही चूकते फिर चाहे वह कोई भी हो रेत माफियाओं के बुलंद हौंसले देखिए मुरैना के बानमोर में तो उन्होंने एक आईपीएस नरेंद्र कुमार को ट्रेक्टर से कुचलकर मार डाला था। उसके बाद क्या हुआ, क्या रेत के अवेध उत्खनन पर अंकुश लगा ? नहीं, आज भी ग्वालियर चंबल में यह अवेध कारोबार उसी तरह फल फूल रहा है।

कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक ट्वीट में कहा कि, शहडोल में रेत माफिया द्वारा अवैध खनन रोकने गए पटवारी श्री प्रसन्न सिंह को ट्रैक्टर से कुचलकर मार देने की जघन्य वारदात सामने आई है। यह पहला मौका नहीं है जब मध्यप्रदेश में रेत माफिया ने इस तरह से किसी सरकारी व्यक्ति को कुचल कर मार दिया हो। मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार के दौरान पनपा भ्रष्टाचार और घोटालों के कारण यह स्थिति बनी है। मैं दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं। ईश्वर उनके परिजनों को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करे। मैं प्रशासन से मांग करता हूं कि दिवंगत पटवारी के परिवार को समुचित आर्थिक सहायता प्रदान की जाए।ओम शांति।

इधर नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविंद सिंह ने इस घटना के बाद भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए गंभीर आरोप लगाए है उन्होंने कहा है कि शिवराज के राज्य में प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है पटवारी, मायनिंग और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के कर्मचारियों पर लगातार जानलेवा हमले हो रहे है रेत माफिया पत्थर माफिया और शराब बेचने वाले खुलकर गुंडागर्दी कर रहे है सरकार का संरक्षण मिलने से ही उनकी हिम्मत बढ़ गई है।

read more
मध्य प्रदेशशहडोल

मोदी ओबीसी की सरकार नहीं आरएसएस का एजेंडा चलाते है महिला आरक्षण का लाभ 10 साल बाद, मध्यप्रदेश भ्रष्टाचार का एपिसेंटर बना – राहुल गांधी

Rahul Gandhi at PC

शहडोल/ मध्यप्रदेश के शहडोल से चुनावी आगाज करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रदेश की शिवराज और केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है उन्होंने कहा कि मोदी जी ओबीसी की सरकार नहीं चलाते ना ही वे दलितों आदिवासियों के लिए काम करते है उनका काम बस देश की जनता का ध्यान भटकाना और नफरत और हिंसा फैलाना है और यह काम उन्हें आरएसएस ने दिया है उन्होंने यह कहा कि महिला आरक्षण का लाभ आज नही दस साल बाद मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा मध्यप्रदेश आज हिंदुस्तान में भ्रष्टाचार का एक बड़ा एपिसेंटर बन गया हैं।

प्रदेश के शहडोल जिले के पोलायकलां में आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी जन आक्रोश रैली में शामिल हुए इस दौरान उनके साथ पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी मोजूद थे, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने यहां आयोजित सभा में शिवराज सरकार को घेरते हुए कहा कि प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है उज्जैन के महाकाल कोरिडोर और पटवारी घोटाला हो या व्यापम का मामला हो एक नही कई घोटाले है पेपर लीक हो रहे है एमबीबीएस की सीटें बेची जा रही है उन्होंने आरोप लगाया आज मध्यप्रदेश हिंदुस्तान में भ्रष्टाचार का एपिसेंटर बन गया है। कांग्रेस नेता ने कहा कि मध्यप्रदेश में मैने यहां 370 किलोमीटर की पद यात्रा की माता बहनों अन्य से बात की सभी परेशान है आज किसान और युवा बीजेपी से नफरत करने लगा है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा मध्यप्रदेश का किसान भारी परेशान है यहां किसान देश में रिकार्ड तौर पर सुसाईड कर रहे है औसत करीब तीन किसान हर रोज आत्महत्या कर रहे है। जबकि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने किसानों से जो वायदे किए पूरे किए धान खरीदी रेट 2500 तक बढ़ाया उन्होंने कहा मप्र में कमलनाथ ने सीएम रहते 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया लेकिन बीच में उनकी सरकार गिरा दी गई, आज पहली बार किसान पर जीएसटी लगाई गई और केंद्र सरकार तीन काले कानून लाई उसके खिलाफ हिंदुस्तान के किसान खड़े हो गए मोदी सरकार को वापस लेने पड़े वही पीएम का कहना था कि किसानो में समझ नही वे अपना हित नहीं जानते वह कहना चाहते थे कि वह देश के केवल दो तीन लोगों के लिए काम करना चाहते है। उन्होंने कहा हिमाचल कर्नाटक और छत्तीसगढ़ में हमने जो वादे किए पूरे किए कर्नाटक में 5 गारंटी दी महिलाएं फ्री में बस में घूम रही है छत्तीसगढ़ में किसानों को सही दाम मिल रहे है। राजस्थान में स्वास्थ्य योजनाओं से लोग खुश है उन्होंने कहा सरकार लोगों के लिए चलाना चाहिए दो लोगो के लिए नही।

कांग्रेस सांसद ने कहा कि सरकार जनता के लिए होना चाहिए किसी संगठन या एक दो उद्योगपतियों के लिए नही लेकिन आज रेल्वे स्टेशन हो एयरपोर्ट इंफ्रास्ट्रेकचर हो हर जगह अडानी दिखाई पड़ते है जो किसान आम लोगों की जेब से रोजाना पैसे निकाल रहे है मीडिया का रिमोट भी अडानी के हाथ में है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा आज देश की विचित्र स्थिति है देश का कानून आरएसएस बनाती है बीजेपी के सांसदों को भी नही पूछा जाता। उन्होंने कहा हमारी लड़ाई गांधी और गोडसे की विचाराधारा की है एक तरफ कांग्रेस है दूसरी तरफ आरएसएस और बीजेपी है एक तरफ गांधी है दूसरी तरफ गोडसे है एक तरफ नफरत हिंसा और अहंकार है तो दूसरी तरफ मोहब्बत आदर भाई चारा है यह जहां भी जायेंगे गुस्सा और नफरत फैलाएंगे।

राहुल गांधी ने कहा बीजेपी कहती है हमारे कई सांसद और विधायक ओबीसी वर्ग के है तो कांग्रेस के तीन मुख्यमंत्री ओबीसी के है देश के केबिनेट सेकेट्री और सेकेट्री ऑफ इंडिया 90 है उसमें से केवल 3 ओबीसी के है इस तरह बजट में ओबीसी अफसरों की भागीदारी केवल 5 फीसदी हैं राहुल ने कहा मोदी जी ओबीसी की सरकार नहीं बल्कि आरएसएस का एजेंडा चलाते हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि हाल में महिला आरक्षण बिल पास हुआ कांग्रेस और विपक्ष ने समर्थन किया लेकिन हमारी मांग थी कि इसमें से फिलहाल दो बिंदु जनगणना और परसीमन हटा दे जिसका लाभ मिल सके लेकिन उन्होंने नही माना अब इस बिल का लाभ दस साल बाद मिलेगा। उन्होंने कहा हमारी मांग यह भी थी कि महिला आरक्षण में ओबीसी को आरक्षण क्यों नही दिया गया मोदीजी आप ओबीसी के नेता है। लेकिन आप ओबीसी का मान नही रखते अब आप देश का एक्सरे और एमआरआई कराएंगे।

कांग्रेस सांसद ने कहा ओबीसी की कितनी आबादी है कोई नही जानता जबकि देश में 50 फीसदी आबादी ओबीसी की है देश के सामने एक ही मुद्दा है ओबीसी कितने है और उनकी भागीदारी कितनी होना चाहिए पता चले इसके लिए देश में जातिगत जनगणना हो, लेकिन हम जब भी जातिगत जनगणना की बात उठाते है बीजेपी वाले कांपने लगते है अमित शाह हिंदू मुस्लिम करने लगते है लेकिन हम विश्वास दिलाते है कांग्रेस की सरकार बनने पर हम जातिगत जनगणना कराएंगे।

read more
मध्य प्रदेशशहडोल

कांग्रेस की गारंटी का मतलब “नियत में खोट गरीब पर चोट”, पीएम मोदी ने विपक्ष को घेरा कहा झूठी गारंटी देने वालों से सावधान रहे

Narendra Modi In Shehdol

शहडोल / प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस और विपक्ष को घेरते हुए जोरदार हमला किया और कहा जिसकी कोई गारंटी नहीं वह गारंटी की नई नई स्कीम ला रहा है इस झूठी गारंटी से आपको सावधान रहना है क्योंकि कांग्रेस की गारंटी का साफ मतलब है नियत में खोट गरीब पर चोट। जो आज एक मंच पर दिखाई दे रहे है उनके पास भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने की कोई गारंटी नहीं हैं। पीएम मोदी ने मप्र के शहडोल के लालपुर में राष्ट्रीय सिमल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन 2047 को लॉन्च करने के साथ एक क्लिक से साढ़े तीन हजार करोड़ डिजिटल आयुष्मान कार्ड भी वितरित किए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रानी दुर्गावती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया इस अवसर पर उन्होंने कहा कि 5 अक्टूबर को रानी दुर्गावती की 500 वी जन्म शताब्दी है इसको मध्यप्रदेश सहित पूरे देश में उत्साह पूर्वक मनाया जायेगा इस मौके पर एक चांदी का सिक्का और पोस्टल स्टेंप जारी किया जाएगा साथ ही इनपर एक फिल्म भी बनाई जायेगी जिससे उनके वीरता पूर्ण जीवन से लोग प्रेरणा ले सके।

पीएम मोदी ने कांग्रेस और विपक्ष पर हमला करते हुए कहा जिसकी कोई कोई गारंटी नहीं वह गारंटी की नई नई स्कीम ला रहे है आप इसके पीछे छुपे खोट और धोखे को पहचानिए,उन्होंने कहा यदि ये बिजली की गारंटी दे तो समझ जाइए कि बिजली के दाम बड़ने वाले है ये मुफ्त सफर की गारंटी दे तो समझ जाएं कि यातायात व्यवस्था बर्बाद होने वाली है यदि पेंशन की गारंटी देते तो समझ ले कि यह आपकी जेब से पैसे निकालने की तैयारी में है और यदि नोकरी देने की बात करें तो समझे यह उद्योग धंधे चौपट करने वाली नीति लाने वाले है।

प्रधानमंत्री ने विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए कहा जो आज एक साथ आने का दावा कर रहे है उनके वायरल हो रहे पुराने बयान देखे तो एक दूसरे को यह बुरी तरह कोसते नजर आ रहे है उन्होंने कहा यह सभी आपको झूठी गारंटी देकर अपने परिवारों को आगे ले जायेंगे और आप पीछे रह जाएंगे आपको कांग्रेस के साथ साथ हर राजनेतिक दल की गारंटी से सावधान रहने की ज़रूरत है जो 70 साल में गरीब को भोजन की गारंटी नहीं दे सके हमने गरीब कल्याण योजना से 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दे रहे है वह महंगे इलाज से 70 साल में छुटकारा नहीं दिला सके लेकिन हमने आयुष्मान योजना से 50 करोड़ लोगों को अच्छे स्वास्थ्य की गारंटी दी जो 70 साल में महिलाओं को घुएं से छुटकारे की गारंटी नहीं दे सके हमने उज्जला योजना से देश की 10 करोड़ महिलाओं को धुआं मुक्त जीवन की गारंटी दी जो 70 सालों में गरीब को अपने पैरों पर खड़ा होने की गारंटी नहीं दी हमने मुद्रा योजना से 8 करोड़ लोगों को सम्मान से रोजगार की गारंटी दी।

पीएम ने कटाक्ष करते हुए कहा जो राजनेतिक दल के नेता जमानत पर है घोटालों को लेकर सजा काट रहे है वही आज एक मंच पर इकट्ठा दिखाई दे रहे है यानि उनके पास भ्रष्टाचार मुक्त शासन की कोई गारंटी नहीं है साथ ही जो देश विरोधी तत्वों के साथ बैठते हो उनसे आतंक मुक्त भारत की गारंटी की आशा कैसे की जा सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने इससे पूर्व राष्ट्रीय सिमल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन 2047 के शुभारंभ अवसर पर कहा कि एनिमिया की बीमारी अनुवांशिक होती है यह माता पिता से मिलती है आदिवासी समाज को इससे छुटकारा दिलाने का हमारा संकल्प है मैने आदिवासी समाज के बीच काफी समय बिताया है इसलिए मैं जानता हूं इस बीमारी से शरीर को कितना असहनीय कष्ट होता है पिछली सरकारों के लिए यह बीमारी कभी मुद्दा ही नहीं रही 70 सालों से इस बीमारी को समाप्त करने के लिए कोई ठोस कार्यवाही नही हुई लेकिन आज हमारी सरकार इस बीमारी को खत्म करने के लिए कृतसंकल्पित है।

read more
मध्य प्रदेशशहडोल

मप्र के शहडोल में रेल दुर्घटना दो मालगाड़ी भिड़ी, तीसरी ट्रेन पर गिरी बोगियां, इंजन में लगी आग 2 लोको पायलट की मौत 5 घायल

Goods train collide

शहडोल / मध्यप्रदेश के शहडोल जिले के सिंहपुर रेल्वे स्टेशन पर खड़ी एक मालगाड़ी में दूसरी मालगाड़ी के टकराने के बाद इंजनों में आग लग गई और इन ट्रेनों की बोगियां तीसरी ट्रेन पर जा गिरी इस ट्रेन दुर्घटना में दो लोको पायलटों की मौत हो गई जबकि जबकि 5 अन्य रेल्वे कर्मी के घायल हो गए है इस रेल दुर्घटना की वजह से कई रेल गाड़ियों का रूट बदलने के साथ करीब 10 रेलगाड़ियों को रद्द कर दिया गया हैं।

यह रेल दुर्घटना बुद्धवार सुबह 7 बजे की है सिंहपुर रेल्वे स्टेशन पर एक कोयले से भरी मालगाड़ी खड़ी थी तभी उसी ट्रेक पर बिलासपुर की तरफ से सिगनल ओवर शूट (रेड सिगनल के बावजूद ट्रेन नही रुकना) कर दूसरी मालगाड़ी तेजी से आई और ट्रेक पर खड़ी पहली मालगाड़ी से जोर से टकरा गई तेज आवाज के साथ दोनों ही रेलगाड़ियां डिरेल हो गई और उनके डब्बे उड़ते हुए दूसरी ओर से आ रही तीसरी ट्रेन पर जा गिरे जिससे इंजनों में आग लग गई, बताया जाता है इन मालगाड़ियों पर कोयला लदा था।

इस ट्रेन दुर्घटना के बाद स्थानीय प्रशासन की मदद से रेल्वे विभाग ने राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया इस दौरान जीएम आलोक कुमार और डीजीएम प्रवीण पाण्डेय के अलावा बिलासपुर रेल मंडल के अधिकारी सिंहपुर रेल्वे स्थित दुर्घटना स्थल पहुंच गए है बताया जाता है इस रेल दुर्घटना का कारण सिगनल ओवर शूट ( लाल सिगनल के बावजूद रेल का आगे बड़ना) होना हैं।

इस घटना में जो मालगाड़ी पहले से सिंहपुर रेल्वे स्टेशन पर खड़ी थी उसके पीछे लगे इंजन में भी आग लग गई इस दुर्घटना ने उसके लोको पायलट राजेंद्र प्रसाद की बुरी तरह जल जाने से मौके पर ही मौत हो गई जबकि सहायक लोको पायलट सहित 6 रेलवे कर्मचारी घायल हो गए जिन्हें शहडोल मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया जहां गंभीर रूप से घायल सहायक लोको पायलट ऋतुराज सिंह की इलाज के दौरान मौत हो गई।

इस ट्रेन एक्सीडेंट से इस रूट का रेल यातायात बुरी तरह से प्रभावित हुआ है और कटनी बिलासपुर रेल यातायात पूरी तरह से ठप्प हो गया है इस रूट की सभी ट्रेंन को रोक दिया गया है बिलासपुर इंदौर एक्सप्रेस रद्द कर दी गई तो संपर्क क्रांति ट्रेन को नोरोजाबाद रेलवे स्टेशन पर रोक दिया गया है जबकि दूसरी ओर की संपर्क क्रांति और नर्मदा एक्सप्रेस में फंसे यात्रियों को बस से अनूपपुर जंगशन भेजा जा रहा है यहां से सभी पैसेंजर्स को स्पेशल ट्रेन से उनके गंतव्य तक भेजा जायेगा। शहडोल कलेक्टर वंदना वैद्य ने बताया कि प्रशासन ने 15 बसों की व्यवस्था की है जो यात्रियों को नोरोजाबाद तक पहुंचाएंगी।

रेल्वे प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक यह तीनों मालगाड़ी थी जिसमें कोयला लदा था इस समय रेड सिगनल था सिंहपुर स्टेशन पर खड़ी मालगाड़ी से उसी समय कटनी की ओर से कोयला लोडेड रेलगाड़ी तेजी से आई और उसी ट्रेक पर पहले से खड़ी मालगाड़ी से जा टकराई जिससे दोनों रेलगाड़ी डीरेल हो गई अर्थात पटरी से उतर गई और इंजनों में आग लग गई यह दोनों ही गाड़ी बुढ़ार स्टेशन की ओर जा रही थी। इस बीच इनकी बोगियां इधर से गुजर रही तीसरी ट्रेन के ऊपर जा गिरी। जिससे पूरे ट्रेक बुरी तरह प्रभावित हुए और रेल यातायात फिलहाल बंद करना पड़ा क्षतिग्रस्त बोगियां हटाने के साथ जल्द ट्रेक को सुधारकर यातायात शुरू किया जायेगा।

read more
मध्य प्रदेशशहडोल

मध्यप्रदेश में आज भी शरीर दागने की कुप्रथा जारी, शहडोल में 3 महिने की दो दुधमुंही बच्चियों को गर्म सरिये से दागा, एक की मौत, एक कर रही है जीवन से संघर्ष

three month baby burnt

शहडोल / मध्यप्रदेश के आदिवासी बाहुल्य जिला शहडोल में अंधविश्वास के चलते शरीर को दागने की पुरानी कुप्रथा आज भी कायम है जिसके चलते एक तीन माह की दुधमुंही बच्ची के शरीर पर गर्म लोहे के 51 घांव देने से उसने दम तोड दिया जबकि दूसरी बच्ची जिसको 24 जगह दागा गया है वह अस्पताल में जीवन और मौत के बीच झूल रही हैं।

शहड़ोल के आदिवासी अंचल में इलाज के नाम पर गर्म सलाखों से बच्चो को दागने की कुप्रथा आज भी जारी है जो प्रदेश के साथ यहां के शासन प्रशासन के लिए शर्म की बात है तो समाज के चेहरे पर एक बदनुमा दाग कहा जा सकता है। हाल में एक नही दो तीन महिने की मासूम बच्चियां इस अंधविश्वास और कुप्रथा का शिकार हो गई।

पहला मामला शहडोल जिले के सिंहपुर कठोतिया गांव का है यहाँ रहने वाले रोहित कोल की 3 माह की बच्ची रुचिका को ठंड के साथ निमोनिया हो गया था गरीब आदिवासी परिवार उसे लेकर एक नीम हकीम के यहां जा पहुंचा उसने इलाज के नाम पर इस छोटी सी बच्ची के पेट को 51 जगह लोहे की गर्म छड़ से दाग दिया बेचारी की बीमारी तो दूर नहीं हुईं बल्कि शरीर दागने से चमड़ी जल गई और जख्म से संक्रमण हो गया और झटके आ आ कर उसने मौत को गले लगा लिया। इसकी मौत के बाद उसके परिजनों ने उसे जमीन में दफना दिया।

इसी के साथ दूसरी इसी तरह की दिल को कंपा देने वाली घटना जिले के सिंहपुर समातपुरा गांव की है यहां भी 3 माह की बच्ची शुभी कोल की तबियत खराब हुई उसे सांस लेने में दिक्कत आ रही थी इसके परिजन भी एक झोला छाप डॉक्टर के पास जा पहुंचे उसने इस बच्ची के पेट को 24 जगह सलाखों से दागा जिससे उसकी हालत बिगड़ गई लेकिन किसी तरह यह मासूम अस्पताल पहुंच गई बाद में उसे शहडोल के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है जहां वह जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही हैं।

यह खबर जब बाहर आई तो प्रशासन में हड़कंप मच गया आनन फानन जिला प्रशासन गहरी नींद से जागा और पुलिस सक्रिय हुई और दो दिन पहले गर्म सलाखों से 51 जगह दागने के बाद उपचार के दौरान जिस 3 माह की बच्ची रुचिता की मौत हुई थी उसके मृत शरीर को पुलिस ने शनिवार को जहां उसे परिजनों ने दफनाया था वहां से कब्र खोदकर बाहर निकलावाया और मृत शरीर को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज भेजा है जिससे पता चल सके कि उसकी मौत का असल कारण क्या है।

इधर मृत बच्ची के पिता रोहित कोल का कहना है कि उनकी मृतक बेटी के शव को पुलिस के निर्देश पर नगर निगम कर्मियों ने पोस्टमार्टम के लिए कब्र से बाहर निकाला है।

जबकि कलेक्टर वंदना वैध का कहना है कि दो घटनाएं सामने आई है जिसमें शरीर दागने से एक बच्ची की मौत हो गई है जिसका पोस्टमार्टम हम करा रहे है जिससे मौत की असली बजह मालूम होगी उन्होंने कहा दोषियों के खिलाफ कार्यवाही होगी कलेक्टर के मुताबिक शरीर दागने की कुप्रथा जिले के आदिवासी क्षेत्र में पुराने समय से चली आ रही है समय समय पर प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का अमला इसके खिलाफ अभियान भी चलाता है हम इसे लेकर फिर से जनजागरण अभियान चलाएंगे एक सवाल पर उन्होंने कहा आगनवाडी कार्यकर्ता इनके घर भी गई थी और उसने परिजनों को समझाइश भी दी ।

कब्र से बाहर निकली इस मासूम बच्ची की आंखें बोलती नजर आ रही है जैसे कह रही हो… ऐ मां तुमने मुझे लाख पीड़ा सहकर 9 महिने गर्भ में रखा और जन्म दिया उसके बाद तुम और हमारा समाज इतना बेरहम कैसे हो गया कि उसने मुझे वह पीड़ा दी जो मैं सहन नही कर सकती मेरे छोटे से शरीर पर असंख्य जख्म दिए और इस असहनीय दर्द और कष्ट के साथ आखिर मुझे अपनी देह का त्याग करना पड़ा यदि मुझे तुम्हें जिंदा रखना ही नही था तो मुझे जना ही क्यों… क्या यह पीड़ा देने के लिए तुम मुझे इस बेरहम दुनिया में लाई … बताओं … बताओं ना मां…

read more
शहडोल

मप्र के शहडोल स्थित SECL की खदान में 3 और शव मिले, 7 की मौत

Poison Gas

शहडोल / मध्यप्रदेश के शहडोल जिले की धनपुरी स्थित SECL की बंद पड़ी यूजी माइंस में शनिवार को 3 और युवकों के शव बरामद हुए है इनको मिलाकर अभी तक इसमें 7 लोगों के शव बरामद हो चुके है बताया जाता है किसी जहरीली गैस के कारण दम घुटने से इन लोगों की मौत हो गई है। पुलिस ने SECL प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

धनपुरी स्थित SECL की यह यूजी माइंस पिछले काफी समय से बंद पड़ी है हाल में 26 जनवरी को इसमें 4 शव मिले थे बताया जाता है यह सभी कवाड़ बीनने माइंस के अंदर दाखिल हुए थे और फिर वापस नहीं आए बताया जाता है इन सभी की जहरीली गैस के कारण दम घुटने से मौत हो गई थी। लेकिन इसके आसपास रहने वाले कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि इनके अलावा 3 अन्य युवक भी इसी खदान में अंदर गए थे जो भीतर ही रह गए इस खबर के बाद शनिवार को पुलिस और प्रशासन चेता और उन्होंने SECL की 5 सदस्यीय टीम को सुरक्षा संसाधनों के साथ इस खदान के अंदर रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए उतारा टीम के सर्च ऑपरेशन के दौरान तीन युवकों के शव और बरामद हुए। बताया जाता है इन तीनों मृतक युवको की अलग अलग पुलिस थानों में पहले से ही गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज थी पुलिस ने जब इनकी शिनाख्त की तो मालूम पड़ा मरने वालों के नाम रोहित वर्मन गणेश मिश्रा और मनोज पादरी हैं।

इस हादसे के बाद शहडोल में सनसनी फेल गई वहीं वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर शहडोल पुलिस ने SECL प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है साथ ही मृतकों का पोस्टमार्टम।कराने के साथ मामले की गहन जांच शुरू कर दी है जबकि शहडोल के पुलिस अधीक्षक ने धनपुरी थाने के थाना प्रभारी और एक एएसआई को लाइन अटैच कर दिया है।

read more
error: Content is protected !!