close

इंफाल

इंफालदेशमणिपुर

मणिपुर के थोबल से “भारत जोड़ों न्याय यात्रा” शुरू, बीजेपी RSS के लिए मणिपुर देश का हिस्सा नहीं, पीएम आंसू पोछने नहीं आए, कहा राहुल ने

Bharat Jodo Nyay Yatra Starts

इंफाल/ कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में आज मणिपुर के थोबल से “भारत जोड़ों न्याय यात्रा” की शुरूआत हुई। इस मौके पर देश के अनेक हिस्सों से आए सीनियर कांग्रेस नेता और आम लोग भी भारी संख्या में जुटे। इस दौरान राहुल गांधी ने कहा आज मणिपुर के हालात काफी खराब है यहां कोने कोने में हिंसा फैली हुई है लेकिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज तक मणिपुर नहीं आए उन्होंने सबाल किया कि बीजेपी और आरएसएस मणिपुर को देश का हिस्सा ही नहीं समझते यह शर्म की बात है।

मणिपुर के थोबल में न्याय यात्रा की शुरूआत से पहले राहुल गांधी ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा मणिपुर में भाई बहन माता पिता एक दूसरे की आंखों के सामने मरे लेकिन आज तक देश के प्रधानमंत्री आपके आंसू पोछने और गले मिलने मणिपुर नही आए वह मणिपुर का दर्द ही नहीं समझते यह शर्म की बात है। कांग्रेस नेता ने कहा हम आपकी सुनने आए है मन की बार सुनाने नही आए है। उन्होंने कहा 2004 से मैं राजनीति में हूं पहली बार में देश के एक हिस्से में गया जून 2023 के बाद सारे हालात ही बदल गए जहां गवर्नेंस का पूरा स्ट्रक्चर बिगड़ गया कोने कोने में नफरत और हिंसा फैली है सभी का काफी नुकसान हुआ हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा पीएम नरेंद्र मोदी यहां वोट के लिए आते है लेकिन जब मणिपुर के लोग मुसीबत में होते है तब वे नहीं आते, वे समंदर की सैर करते है, राम राम जपते है साफ है उनके मुंह में राम बगल में छुरी, जैसा है यह वे जनता के साथ नहीं करे उन्हें वोट के लिए यह ढौंगबाजी नही करना चाहिए। उन्होंने कहा जब पंडित नेहरू मणिपुर आए थे तो उन्होंने इसे देश का गहना बताया था वही श्रीमती इंदिरा गांधी और राजीव गांधी भी यही कहते थे यह मणिपुर की भूमि है जो आजादी के लिए लड़ी उसका योगदान अहम हैं। इस मौके पर उन्होने एक शेर भी पढ़ा… “जब हौंसला बना ऊंची उड़ान का, फिर देखना फिजूल है कद आसमान का”

इस अवसर पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर यह यात्रा शुरू हो रही है यह न्याय की लड़ाई है आज मणिपुर से प्रारंभ हो रही है यह सफल हो या असफल यह कांग्रेस की विचारधारा की लड़ाई है और यह विचारधारा ही देश को बचा सकती है इस यात्रा का चुनाव की जीत हार से कोई लेना देना नही हैं।

राहुल गांधी के साथ ही वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा अशोक गहलोत दिग्विजय सिंह राजीव शुक्ला सचिन पायलट सलमान खुर्शीद मणिपुर पहुंचे और यात्रा में शामिल हुए। इसके अलावा मध्यप्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी सहित अन्य प्रांतीय अध्यक्ष और सीनियर नेता भी यात्रा में मौजूद रहे। यात्रा के दौरान राहुल गांधी जगह जगह बस से उतरे और सड़क किनारे खड़े लोगों से मिले साथ ही उन्होंने बच्चों को गोद में लेकर प्यार किया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी की अगुआई में मणिपुर के इंफाल के नजदीक थोबल से भारत जोड़ो न्याय यात्रा का रविवार को आगाज हुआ। यह यात्रा 65 दिन तक चलेगी जो 15 राज्यों और 110 जिलों से गुजरेगी इस यात्रा का समापन 20 मार्च को महाराष्ट्र के मुंबई में होगा। 6700 किलोमीटर की यह न्याय यात्रा राहुल गांधी बस और कही कही पैदल चलकर पूरी करेंगे।

read more
इंफालदेशमणिपुर

मुख्यमंत्री के घर पर हमले की कोशिश, दो स्टूडेंट्स के मर्डर की तस्वीर वायरल होने पर मणिपुर में स्थिति बिगड़ी, प्रदर्शन जारी एक छात्र गंभीर, AFSPA का फैसला विवादों में

Manipur Protesters Attack on CM House

इंफाल / मणिपुर में जातिगत हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है दो स्टूडेंट्स के किडनेप और मर्डर के बाद शवों की तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल होने से फिर टकराव की नोबत पैदा हो गई है बुद्धवार को छात्रों और सुरक्षा बल आमने सामने आ गए और पैटन गन से एक छात्र गंभीर रूप से घायल हो गया लेकिन गुरुवार को भीड़ ने मुख्यमंत्री बीरेन सिंह के निवास पर हमले की कोशिश की जिसे सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया। इधर सुरक्षा बल दोषियों के साथ शवों की खोजबीन कर रहे है लेकिन फिलहाल कुछ पता नहीं चला है। जबकि सीबीआई की एक टीम मामले की जांच के लिए पहुंच गई है सरकार ने इंटरनेट पर रोक के साथ स्कूल कॉलेज 29 सितंबर तक बंद करने के आदेश जारी करने के साथ कुछ इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया है साथ ही सरकार ने सभी से शांति और संयम रखने की अपील की है। लेकिन सरकार का AFSPA लागू करने का फरमान विवादों में आ गया है।

23 सितंबर को मोबाइल इंटरनेट से बैन हटने के बाद दो स्टूडेंट्स के शवो की फोटो सामने आई थी बताया जाता है यह दोनों जुलाई माह से लापता थे फ़ोटो में दोनों के शव जमीन पर पड़े थे और छात्र का सिर कटा हुआ दिख रहा था। इसके बाद इस मामले से जुड़ी दो तस्वीरें भी सामने आई जिसमें 17 वर्षीय छात्रा हिजाम लीनथोइंगबी और 20 साल का छात्र फिजाम हेमाजीत बैठे हुए है तस्वीर में छात्रा सफेद टीशर्ट में है और छात्र हेमजीत चेक की शर्ट पहने दिख रहा है जो बेकपेक पकड़े हुए है तस्वीर में पीछे की तरफ दो बंदूकधारी साफ दिखाई दे रहे है। दूसरी तस्वीर में दोनों स्टूडेंट्स के शव झाड़ियों में पड़े दिखाई दे रहे हैं।

इसके बाद सुरक्षा बल सक्रिय हुए उन्होंने आरोपियों की तलाशी के साथ शवों की खोजबीन शुरू की लेकिन सुरक्षा बल और पुलिस अभी तक अंधेरे में ही है शवों का कोई पता तो नही चला बल्कि यह तस्वीर किस इलाके की है इसकी भी जानकारी फिलहाल सुरक्षा बलों पर नही है। शव तो नही मिले लेकिन जुलाई में दोनों स्टूडेंट्स बाजार की एक दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में जाते दिखाई दे रहे है। लेकिन उसके बाद दोनों लापता हो गए थे संभवत उनको अगवा कर लिया गया था।

लेकिन इंटरनेट पर 23 सितंबर को इन दोनों की हत्या की तस्वीरें सामने आने के बाद एक बार फिर पूरा मणिपुर सुलग उठा इसके विरोध में 26 सितंबर को इंफाल में हजारों छात्र छात्राएं सड़कों पर उतर आए और उन्होंने जोरदार प्रदर्शन किया, जो बुद्घवार को भी जारी रहा भाजपा के थोबुल जिले के कार्यालय को भीड़ ने आग के हवाले कर दिया तो बीजेपी अध्यक्ष शारदा देवी के घर को प्रदर्शनकारियों ने घेर लिया इस बीच पुलिस और सुरक्षा बलों ने जब प्रदर्शनकारियों के रोकने की कोशिश की तो दोनों के बीच तेज झड़प शुरू हो गई और आपस में भिड़ंत हो गई जिसमें एक शिक्षक सहित 54 स्टूडेंट्स घायल हो गए जिन्हें बाद में अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। बुधवार को भी छात्रों ने जोरदार प्रदर्शन किया इस दौरान उनकी पुलिस सुरक्षा बलों के बीच तीखी झड़प हो गई इस दौरान भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस छोड़ी साथ ही नकली बम फैंकने के साथ पेंटेन गन का भी इस्तेमाल किया इस बीच इंफाल के जोमई इलाके में एक 20 साल के छात्र एस उत्तम के सिर में पेंटेंन गन के कई छर्रे लगे जिसको गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि डीजीपी राजीव सिंह ने पेंटेन गन चलाने के मामले में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया है।

इसके बाद सरकार ने मणिपुर को अशांत क्षेत्र घोषित करते हुए इंटरनेट सेवा पर फिर से बेन लगा दिया और 19 थाना क्षेत्र छोड़कर पूरे मणिपुर में कर्फ्यू की घोषणा कर दी इस दौरान सभी निजी एवं सरकारी स्कूल कॉलेज 29 सितंबर तक बंद रखने के आदेश भी जारी किए गए है। साथ ही बीरेन सिंह सरकार ने सभी से शांति और संयम बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि पूरे मामले की जांच सीबीआई करेगी किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा। इस बीच मणिपुर के 24 विधायकों ने गृहमंत्री अमित शाह को एक पत्र भेजकर सीबीआई जांच के साथ दोनों स्टूडेंट्स के हत्यारोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है। बताया जाता है सीबीआई की टीम मणिपुर पहुंच गई है और उसने अपनी तफ्तीश शुरू कर दी है।

लेकिन गुरुवार को स्थिति तब गंभीर हो गई जब इंफाल में प्रदर्शनकारी छात्रों की भीड़ अचानक मुख्यमंत्री बीरेन सिंह के इंफाल पूर्व में लुवांग सांगबाम स्थित निजी निवास की ओर बड़े लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें बीच में ही रोक लिया और अश्रु गैस के गोले छोड़कर भीड़ को तितर बितर कर इस हमले की कोशिश को नाकाम कर दिया।

लेकिन मणिपुर सरकार ने प्रदेश में 6 माह के लिए फिर से AFSPA लगा दिया है यह फैसला विवादों में आ गया है क्योंकि जिन इलाकों में हिंसा हो रही है उन्हें आर्म्ड फोर्सेज एक्ट से दूर रखा गया है। खबर यह भी मिली है कि मणिपुर में बिगड़ते हालातों के मद्देनजर केंद्र सरकार ने श्रीनगर के एसएसपी राकेश बलवाल का जम्मूकशमीर से हिंसा के बीच मणिपुर तबादला कर दिया है। एसएसपी बलवाल ने ही पुलवामा आतंकी हमले की जांच की थी।

read more
इंफालदेशमणिपुर

इंफाल में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस स्टेशन और अदालतों पर किया हमला, पुलिस अश्रुगैस छोड़ी 10 घायल, इंफाल में लगा कर्फ्यू

Manipur Violence Shots

इंफाल/ मणिपुर में एक समुदाय ने गिरफ्तार 5 लोगों को छोड़ने के लिए जोरदार प्रदर्शन किया और पुलिस थानों और अदालतों पर भी हमला बोल दिया पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए टियर गैस छोड़ने के साथ स्टंट बम का इस्तेमाल किया जिससे 10 लोग घायल हो गए है। इस प्रदर्शन के बाद इंफाल में कर्फ्यू लगा दिया गया हैं।

मणिपुर में हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही पिछली 8 सितंबर को टेगनोपोल के पल्लोल में हुई हिंसा में 3 लोग मारे गए और 50 लोग घायल हुए थे उसे बाद 12 सितंबर को कांगपोकपी में एक हथियारबंद लोगों व्दारा की गई फायरिंग में 3 लोगों की मौत हुई थी इस मामले में 16 सितंबर को पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया था उनके पास से वे हथियार भी बरामद हुए जो मई में पुलिस थानों से लूटे गए थे।

इस गिरफ्तारी के विरोध में इंफाल में सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर आएं और प्रदर्शन के दौरान उन्होंने तीन चार पुलिस थानों और अदालतों पर भी हमला बोल दिया, प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस बल भी मैदान में उतर गया जिससे दोनों के बीच गहरी झड़प हो गई पुलिस ने उन्हें रोकने के साथ खदेड़ने के लिए पहले अश्रु गैस के गोले छोड़े लेकिन पीछे नहीं हटने पर उनपर स्टंट बम भी चलाए जिससे 10 से अधिक लोग घायल हो गए है।

इस घटना के बाद इंफाल में कर्फ्यू लगा दिया गया है जबकि उसके दो जिलों में पहले दी गई ढील भी समाप्त कर दी गई हैं।

read more
इंफालमणिपुर

मणिपुर में सेना के एक जवान की गोली मारकर हत्या, छुट्टी पर अपने घर आया था जवान

Indian Army Soldier Killed in Manipur

इंफाल / मणिपुर की राजधानी इंफाल के गांव तरुंग स्थित अपने घर छुट्टी पर आए भारतीय सेना के एक जवान को अगवा करने के बाद गोली मारकर उसकी हत्या कर दी गई मृतक जवान आदिवासी समुदाय का बताया जाता है।

इंफाल में आपसी हिंसा लगातार जारी है वही सेना के जवानों को भी आताताई छोड़ नही रहे है पुलिस को इंफाल के गांव खुनिंगथेक के पास एक व्यक्ति का शव मिला जिसकी शिनाख्त इंफाल पश्चिम के तरुंग में रहने वाले सेरतो थांगथांग के रूप में हुई जो सेना की डिफेंस सिक्योरिटी कोप्स (डीएसपी) में कार्यरत थे और कांगपोकपी जिले के लेमाखोंग में तैनात थे और पिछले दिनों छुट्टी पर अपने घर आए थे।

मृतक सेना के जवान के 10 साल के बेटे ने बताया कि शनिवार को अचानक तीन हथियारबंद लोग हमारे घर में घुस आए और उन्होंने उसके पिता के सिर पर पिस्टल अड़ाते हुए घमकाया और उन्हें जबरन अगवा करके ले गए और रविवार को उनका शव मिला । समझा जाता है कि अगवा करने वालों ने उनके सिर में गोली मारकर हत्या करदी।

read more
इंफालमणिपुर

मणिपुर में हालात फिर बिगड़े हिंसा और फायरिंग में 5 की मौत तीन दिन में 8 लोगों की मौत

Manipur Violence Shots

इंफाल/ मणिपुर में हालात फिलहाल पूरी तरह से ठीक नहीं है टकराव के बीच हिंसा लगातार जारी है हाल में चूराचांदपुर और विष्णुपुर के बॉर्डर इलाके में हुई हिंसा के दौरान हुई गोलाबारी में 3 लोगों की मौत हो गई बताया जाता है मैतईं और कुकी समुदाय के बीच हुए संघर्ष और टकराव के दौरान एक दूसरे पर जमकर फायरिंग की गई जिसमें 3 लोगों की मौत हो गई और 20 से अधिक लोग घायल हो गए है। घायलों में सुरक्षा बल और पुलिस के जवान भी शामिल है। मणिपुर में पिछले तीन दिन में हुई हिंसा में अभी तक 8 लोगों की मौत होने की खबर है।

असम राइफल्स के लेफ्टिनेंट जनरल पीसी नायर का कहना है मणिपुर में स्थिति काफी बिगड़ी हुई है बीच में शांति दिखती है लेकिन ऐसे हालात आज तक नही हुए।

read more
इंफालमणिपुर

मणिपुर में म्यांमार के नागरिकों की घुसपैठ, असम राइफल्स ने सरकार को दी जानकारी

Asam Rifles

इंफाल / एक तरफ मणिपुर में नस्लीय हिंसा और टकराव लगातार जारी है स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही, लेकिन अब और एक और परेशानी आ खड़ी हुई है भारत के पड़ोसी देश म्यांमार के 718 नागरिकों ने पिछले दिनों अवेध तरीके से मणिपुर में घुसपेठ कर ली है इसकी जानकारी असम राइफल्स ने मणिपुर सरकार और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को दे दी हैं।

भारत के राज्य मणिपुर से म्यांमार देश की सीमा लगती है जिसका दायरा 400 किलोमीटर तक फैला है इस सीमा से 22 और 23 जुलाई को चोरी छुपे 718 म्यांमार के नागरिक मणिपुर में दाखिल हुए है जो हथियारों से लैस है असम राइफल्स के अधिकारियों को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने सीमा पार चौकसी बड़ाने के साथ इसकी जानकारी मणिपुर सरकार और उसके मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को दी है।

भारत के राज्य मणिपुर से म्यांमार देश की सीमा लगती है जिसका दायरा 400 किलोमीटर तक फैला है म्यांमार के इस बॉर्डर पर सुरक्षा और निगरानी के लिए असम राईफल्स की तैनाती की गई है इस सीमा से 22 और 23 जुलाई को चोरी छुपे 718 म्यांमार के नागरिक मणिपुर में दाखिल हुए है असम राइफल्स के अधिकारियों को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने सीमा पर चौकसी बड़ाने के साथ इसकी जानकारी मणिपुर सरकार और उसके मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को दी है।

इस खबर के बाद मुख्यमंत्री ने असम राइफल्स को निर्देश दिए है कि वह जल्द से जल्द इन घुसपैठ करने वाले लोगों को चिन्हित करके मणिपुर की सीमा से बाहर म्यांमार में पहुंचाए। मणिपुर सरकार तो कड़ी कार्यवाही करना चाहती है लेकिन केंद्रीय सरकार क्या रुख अख्तियार करती है यह देखना होगा।

मणिपुर मे इनदिनों जब हालात ठीक नहीं है और हथियारबंद लोगों की घुसपैठ चिंता का बड़ा कारण है कि उनकी मंशा क्या है वह मणिपुर में चोरी छुपे क्यों घुसे और वे कही उग्रवादी तो नही है इस बारे में भी देखना होगा कही यह किसी एक पक्ष के साथ मोर्चाबंदी करने तो भारत की सीमा में दाखिल नहीं हुए।

read more
इंफालमणिपुर

राहुल गांधी मणिपुर पहुंचे, सड़क से रोका हेलीकॉप्टर से पहुंचे चूड़ाचांदपुर, रिलीफ केंद्र में पीड़ितों से की मुलाकात

Rahul Gandhi at Manipur

इंफाल / कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज दो दिन के दौरे पर आज मणिपुर पहुंच गए है वे यहां वह हिंसा पीड़ितों और सोशल एक्टिविस्ट से मिलने के साथ ही रिलीफ केंपों में भी जाएंगे। लेकिन जब वे सड़क मार्ग से चूड़ाचांदपुर जा रहे थे तब उन्हें जाने से बीच में ही रोक दिया गया प्रशासन का कहना है सुरक्षा के मद्देनजर उन्हे रोका गया उसके बाद वे हेलीकॉप्टर से वहां पहुंचे और राहत शिविरों में पीड़ितों से मिले।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज विमान द्वारा मणिपुर पहुंचे है उनके साथ कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल भी साथ है विमान तल से उनका काफिला स्थानीय वरिष्ठ नेताओं के साथ वे अपने लाव लश्कर के साथ सड़क मार्ग से दंगा प्रभावित क्षेत्र चूड़ाचांदपुर रवाना हुए लेकिन इंफाल से करीब 20 किलोमीटर आगे प्रशासन और पुलिस ने उन्हें रोक दिया और बताया कि आगे विष्णुपुर में हाईवे पर महिलाएं सड़क जाम कर प्रदर्शन कर रही है और सुरक्षा की दृष्टि से आगे जाना खतरनाक है यदि आपको चूड़ाचांद पुर जाना ही है तो हेलीकॉप्टर से जा सकते हैं। बात की गंभीरता को समझते हुए राहुल गांधी और उनके साथ गाड़ियों में जा रहा कांग्रेसजनों का काफिला वापस इंफाल के एयरपोर्ट लौट पड़ा और वहां पहुंचकर राहुल गांधी और प्रमुख नेता हेलीकॉप्टर से चूड़ाचांदपुर पहुंचे और वहां उन्होंने राहत शिविरों का दौरा किया और सभी से बातचीत कर उनकी स्थिति जानी। बताया जाता है राहुल गांधी आज रात इंफाल में ही रुकेंगे। जानकारी यह भी सामने आई है कि राहुल गांधी को मोईरांग जाने की इजाजत भी नहीं मिली है।

लेकिन पुलिस क्या सुरक्षा की बात कह कहकर राहुल गांधी को विष्णुपुर की तरफ जाने से रोक रही है ? क्योंकि इस प्रदर्शन में शामिल एक महिला एक न्यूज एजेंसी के चैनल को दिए बयान में कह रही है कि राहुल गांधी यहां हम लोगों की जानकारी लेने आया है वह जांच करने आया है हमें देखने आया है कि हम लोग किस हालत में है वह कोई राजनीति फैलाने नही आया है और यह सरकार उसे रोकना चाहती हैं। इस बीच भीड़ राहुल गांधी जिंदाबाद के नारे भी लगाती दिख रही है।

जैसा कि मणिपुर में गत 3 मई से दो जातिवर्गो के बीच संघर्ष और हिंसा जारी है जिसमें अभी तक 125 से अधिक लोगो की मौत हो चुकी है और चूड़ाचांदपुर भी हिंसाग्रस्त क्षेत्र है और इसके रास्ते के बीच विष्णुपुर में महिलाएं प्रदर्शन कर रही है इस दौरान पुलिस और सुरक्षा बलों के बीच झड़प भी हुई और आंदोलन कर रही महिलाओं को नियंत्रित इस दौरान अश्रु गैस के गोले भी छोड़ना पड़े।

इधर बीजेपी ने राहुल गांधी की मणिपुर यात्रा पर सबाल उठाएं है बीजेपी प्रवक्ता संविद पात्रा ने कहा कि हमें उनके मणिपुर जाने पर कोई ऐतराज नहीं है लेकिन वहां की स्टूडेंट यूनियन और महिला विंग ने राहुल गांधी की यात्रा का बायकॉट करने का ऐलान किया हैं और कहा है कि वह मणिपुर नही आएं,राहुल गांधी वहां चिंगारी भड़काने का काम करेंगे,उन्होंने कहा हम मानते है कि उन्हें मोहब्बत की दुकान खोलने की जल्दी है लेकिन सबाल है उनके वहां जाने से कोई रोक नहीं रहा लेकिन उनकी जिद्द ठीक नहीं है स्थिति कही बिगड़ ना जाएं।

इधर प्रियंका गांधी ने उन्हें रोके जाने पर कहा कि राहुल गांधी शांति का संदेश लेकर मणिपुर गए है लेकिन सत्ता में बैठे लोगों को लगता है शांति और भाई चारे से नफरत हैं वही कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मणिपुर को नफरत की नहीं बल्कि शांति की जरूरत हैं।

read more
इंफालदेशमणिपुर

मणिपुर के हालात बेकाबू, कुकी मैतई में एसटी आरक्षण को लेकर टकराव, बीरेन सरकार फेल, हिंसा आगजनी सैकड़ों घर गांव फूंके, 125 की मौत 3 हजार घायल, मंत्री भी महफूज नही, 70 हजार ने मणिपुर छोड़ा

Manipur Violence Shots

Exclusive | इम्फाल (स्पेशल रिपोर्ट)/ भारत के मणिपुर राज्य के हालात लगातार बेकाबू होते जा रहे है अभी तक दो समुदायों के बीच हुई हिंसा में सैकड़ों गांव और घरों को आग के हवाले कर दिया गया और इस दौरान 125 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 3 हजार नागरिक घायल हो गए जबकि 70 हजार नागरिक प्रदेश से पलायन कर चुके है और सबसे गंभीर बात है कि केंद्र और प्रदेश के 4 मंत्रियों के घरों को आताताइयो ने जलाकर राख कर दिया। जबकि इस बेहद बुरी स्थिति के लिए जिम्मेदार बीरेन सरकार इस टकराव और हिंसा को रोकने में पूरी तरह से अक्षम साबित हुई है केंद्र सरकार के गृहमंत्री अमित शाह भी यहां का दौरा कर चुके है लेकिन लगता है उससे भी कोई फर्क नहीं पड़ा आज भी स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई हैं।

आदिवासी कुकी और मैतई समाज में टकराव का कारण …

मैतई हाइव यूनियन वर्षो से अपने समुदाय को जनजाति वर्ग का दर्जा और आरक्षण की मांग करता रहा है उनकी याचिका पर कोर्ट ने पिछले दिनों उन्हें एसटी में आरक्षित करने के आदेश मणिपुर सरकार को दिए थे जिससे कुकी समाज भड़क गये और विरोध में उतर आये। इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मामला गया एससी ने कोर्ट के आदेश पर फिलहाल रोक लगा दी उसके साथ यह भी कह दिया हम रिजर्वेशन के मुद्दे पर नही जायेंगे। दूसरा कारण रहा सरकार की अवेध अतिक्रमण के खिलाफ कार्यवाही इसका सीधा सीधा प्रभाव पहाड़ी इलाकों में रहने वाले आदिवासी कुकी समुदाय पर पड़ा। जिसने आग में घी का काम किया इसके बाद कुकी मैतई समाज को अपना कट्टर शत्रु समझने लगे और दोनों के बीच टकराव की नोबत आ गई और जो आज बड़ा रुप अख्तियार कर चुकी हैं।

हिंसा और दंगे को आज डेढ़ माह हो गया और कैसे हुई शुरूआत …

मणिपुर में 3 मई को कुकी और नगा समुदाय ने आदिवासी एकता रैली की थी वहां से इस हिंसा बलवा और टकराव की शुरूआत हुई थी। कुकी और नगा समुदाय ने यह मार्च मैतई समाज को एसटी का दर्जा दिए जाने के विरोध में निकाला था। जैसा कि मणिपुर हाईकोर्ट ने सरकार के 10 साल पुराने प्रस्ताव पर मैतई समाज को 29 मई तक जनजाति (आदिवासी) वर्ग में आरक्षण देने का सरकार को आदेश दिया था यह मार्च इसके विरोध में था यहां अभी अनुच्छेद सी लागू है उसके मुताबिक मैतई समुदाय कुकी बाहुल्य पहाड़ी स्थानों की जमीन नही खरीद सकता ना ही वहां स्थाई रूप से रहने का हकदार है, लेकिन यदि वह एसटी की श्रेणी में आ जाता है तो वह पहाड़ी इलाकों में जमीन खरीद सकता है और कुकी समाज को उनकी अपनी जमीनों पर कब्जे होने का डर है। उसके विरोध में भीड़ के रूप में हज़ारों की संख्या में मोजूद आंदोलनकारियों पर पुलिस और सुरक्षा बलों ने जब बल प्रयोग किया तो स्थिति बिगड़ गई और उसके बाद आपस में हुए टकराव के बाद लगातार तीन दिनों तक तांडव चला जिसमें दोनों समुदायों के बीच आपसी टकराव अग्निकांड हिंसा और एक दूसरे पर हमले शुरू हो गए।

चूकि दोनों समुदायों पर हथियार बंद उग्रवादी संगठन थे तो इसे नया मोड़ मिल गया और दोनों के बीच हिंसक झड़पें शुरू हो गई। आज स्थिति यह है कि कुकी समुदाय मैतई बाहुल्य इलाकों में नही जाते तो मैतई लोग कुकी के क्षेत्रों में नहीं जा सकते। जो यहां की गंभीर स्थिति को बताता है आज दोनों समुदाय एक दूसरे की जान के दुश्मन बन गए है इससे नौकरीपेशा और दूसरी जगह काम करने वालों पर अपनी जान का खतरा बना रहता है लेकिन उनकी मजबूरी हैं।

मणिपुर सरकार में दोनों समाजों की भागीदारी और अपने अपने तर्क …

मेघालय राज्य में कुल 60 विधानसभा है जिनमें से मैतई समुदाय के 40 विधायक है जबकि कुकी और नगा समाज के विधायकों की तादाद उनसे आधी यानि 20 हैं जिससे साफ है सरकार में मैतई समाज का प्रभुत्व है। जिसके चलते कुकी समुदाय का तर्क है कि मैतई समाज संपन्न होने के साथ राजनेतिक रूप से पॉवर फुल है । उसे एसटी आरक्षण नही दिया जाना चाहिए इसके उलट मैतई समाज का कहना है 1949 में मणिपुर के भारतीय संघ में विलय से पूर्व उन्हें रियासत काल में आदिवासी जनजाति का दर्जा मिला हुआ था पिछले 70 साल में उनकी जनसंख्या 62 फीसदी से घटकर अब 50 फीसदी रह गई है अपनी सांस्कृतिक पहचान बचाने के लिए आज मेतई समाज आरक्षण की मांग कर रहा हैं। इधर बीजेपी सरकार को समर्थन देने वाली नेशनल पीपुल्स पार्टी (11 विधायक) ने चेतावनी देते हुए कहा है कि वह मूक दर्शक बनकर नहीं देख सकती वह सरकार से बाहर हो जायेगी पार्टी के नेताओं ने कहा मणिपुर में अनुच्छेद 355 लागू है इसलिए उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य के साथ केंद्र की उतनी ही है।

मणिपुर राज्य की भौगोलिक स्थिति …

भारत का मणिपुर राज्य एक पहाड़ी बहुल प्रदेश है जिसका 90 फीसदी क्षेत्र पहाड़ी और केवल 10 फीसदी मैदानी है पहाड़ी इलाके में कुल आबादी के 42 प्रतिशत लोग रहते है जो कुकी आदिवासी है जबकि 53 फीसदी लोग मैतई समुदाय से आते है जो मैदानी इलाकों और इम्फाल की घाटी में रहते हैं। इम्फाल मणिपुर के केंद्र में आता हैं अन्य जातिवर्गों ने नगा सनमही और मुस्लिम शामिल हैं।

सिलसिलेबार टकराव हिंसा आगजनी और मौत …

मणिपुर में बिगड़े हालात और हिंसा में अभी तक 125 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है करीब 3 हजार लोग घायल और जख्मी हुए है और करीब 70 हजार लोग अपना सब कुछ छोड़कर पलायन कर चुके है तो कई लोग सुरक्षा केंपो में रह रहे हैं।

संक्षिप्त में एक नजर डालते हैं।

27 अप्रैल .. मुख्यमंत्री बीरेन सिंह चुराचंदपुर में जिस जिम का उद्घाटन करने वाले थे उस जिम में आताताईयो ने आग लगा दी।
28 अप्रैल .. चुराचांदपुर सहित मणिपुर के 5 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद करने के साथ ही धारा 144 लागू, इस दौरान सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारी के साथ झड़प हुई
3 मई .. ऑल ट्राइबल स्टूडेंट यूनियन ऑफ़ मणिपुर ने इंफाल में रैली की इस दौरान तोरबंद इलाके में हिंसा भड़की और 11 लोग घायल हुए
4 मई.. टकराव और हिंसा को रोकने लिए सेना सीआरपीएफ असम राइफल्स रेपिड एक्शन फोर्स और भारी तादाद में पुलिस बल की तैनाती
5 मई .. इंफाल में भारी बलवा और हिंसा हुई इस दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई और 1700 घरों को आग के हवाले कर दिया गया जिसमें सैकड़ों वाहन भी राख हो गए
12 मई.. चुराचांदपुर में भीड़ ने पुलिस पर घात लगाकर हमला किया जिसमें एक पुलिस अफसर की मौत हो गई जबकि 5 पुलिस कर्मी घायल हो गए
14 मई .. सीएम बीरेन सिंह के नेतृत्व में राज्य के मंत्रियों का एक प्रतिनिधिमंडल दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मिला और स्थिति की जानकारी दी
28 मई .. दो जिलों सुगनू और फायेंग में फिर हुई हिंसा एक पुलिस कर्मी सहित 5 लोग मारे गए
29 मई .. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह मणिपुर की राजधानी इंफाल पहुंचे
30 मई .. ओलंपिक पदक विजेता मीरा बाई चानू सहित अन्य विजेता खिलाड़ियों ने इस हिंसा के विरोध में अपने पदक लौटाने की चेतावनी दी
1 जून .. गृहमंत्री अमित शाह ने राहत शिविरों का दौरा किया साथ ही हिंसा करने वालों से शांति और हथियार सरेंडर करने की अपील की
2 जून .. गृहमंत्री की अपील के बाद करीब 145 हथियार सरेंडर हुए
4 जून .. काकचिंग जिले के सेरो गांव में काफी संख्या में आए लोगो ने करीब 100 घरों और कुछ गिरजा घरों में आग लगा दी, साथ बीएसएफ की पोस्ट पर मोर्टार से हमला किया इस तारीख तक मणिपुर हिंसा में अभी तक 98 लोगों की जान जा चुकी थी।
5 जून से आज तक .. अभी तक अलग अलग इलाकों में हुई हिंसा में करीब 25 लोगों की मौत हो चुकी है और कई गांव और घरों को आग के हवाले कर दिया गया पहले एक हिंसात्मक हमले में 9 लोगों की मौत हुई उसके बाद 3 को मौत के घाट उतार दिया गया इसके अलावा एक बस में आग लगाकर एक महिला और उसके मासूम बच्चे को जला कर खाक कर दिया गया।

केंद्रीय और प्रदेश मंत्री और विधायक भी सुरक्षित नहीं …

यदि इसके घटना क्रम पर गौर करे तो आम तो आम खास भी आज मणिपुर में सुरक्षित नहीं है सभी यहां की आग में जल रहे है 28 मई को कांग्रेस विधायक रंजीत कुमार का घर जला दिया गया 8 जून को बीजेपी विधायक सोरई साम के घर पर आईईडी बम से ब्लास्ट किया गया 13 जून को मणिपुर की उद्योग मंत्री नेमचा किपजेम का सरकारी बंगला आताताईयों ने फूंक दिया जो कुकी समाज से आती है हद तो जब हो गई जब 15 जून को केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री आरके रंजन सिंह के बंगले पर हमला हुआ उसमें तोड़फोड़ के साथ उनका घर और सभी वाहनों को जला कर राख कर दिया गया। ताजा घटना में उग्रवादियों ने एकसाथ 5 जगहों को निशाना बनाया जिसमें इम्फाल के पश्चिम इरिंग पुलिस थाने पर हथियार बंद लोगों का हमला, बीजेपी एमएलए विश्वजीत पर हमला इम्फाल के बीजेपी दफ्तर पर आग लगाने की कोशिश और पोरमपैर में बीजेपी की महिला अध्यक्ष के घर हमला और विष्णुपुर में हमला शामिल है। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय मंत्री ने तो यहां तक कह दिया कि मणिपुर स्टेट फेल कर गया है और यहां की सरकार फेल साबित हो गई हैं एक केंद्रीय मंत्री का अपनी पार्टी की सरकार को फेल बताना काफी मायने रखता हैं।

भारी फ़ोर्स की तैनाती और आताताईयो ने हथियार छीने या दिए गए ?

प्रदेश में स्थानीय पुलिस के साथ मणिपुर रेपिड एक्शन फोर्स पेरा मिलिट्री फोर्स सीआरपीएफ और असम राईफल्स के जवानों की तैनाती की गई है जिनकी कुल संख्या 60 हजार के करीब बताई जाती है लेकिन खास बात है केंद्रीय सुरक्षा बल और स्थानीय पुलिस को अलग अलग बांट लिया गया है कुकी समुदाय स्थानीय पुलिस पर भरोसा करता है जबकि मैतई समुदाय केंद्रीय सुरक्षा बलों को अपना संरक्षक मानता है यही वजह है कि कुकी लोग यहां तक उनकी महिलाएं भी रात के वक्त अपने इलाकों खासकर हाईवे पर पहरा देती है कि कहीं केंद्रीय बल के जवान उनके क्षेत्र में ना घुस आएं यह अजीब और अविश्वनीय स्थिति भी यहां देखी जा रही है जो आपस में अविश्वास और आपस में बड़ती खाई का परिचायक हैं। बताया जाता है कुकी नगा और मैतई समाज के उग्रवादी संगठनों पर 4 से 5 हजार आधुनिक हथियार और राइफल्स है मणिपुर के एक वरिष्ठ पत्रकार के मुताबिक यह हथियार स्वेच्छा से इन उग्रवादी संगठनों को पुलिस और सुरक्षा बलों में शामिल इन्ही समुदाय के लोगों ने सौप दिए और कह दिया कि छीन लिए गए। जबकि अभी तक केवल एक हजार हथियार ही सरेंडर हुए हैं। इस तरह अभी भी भारी तादाद में इन उग्रवादी संगठनों पर हमारे ही सरकारी हथियार हैं।

मिलीटेंस दोनों ही समुदायों में …

प्राचीन काल से मणिपुर और आसपास के पहाड़ी क्षेत्रों में उग्रवादियों की मौजूदगी एक बड़ी समस्या रही है आज भी कुकी और मैतई समुदायों में मिलीटेंस के संगठन है अधिकांश पहाड़ी इलाकों में रहने वाले कुकी समुदाय में करीब 40 उग्रवादी संगठन है खास बात है दोनों के महिला विंग भी है जो पुरुष उग्रवादी संगठनों से ज्यादा तेज तर्रार है और यह महिला संगठन हमेशा आगे रहते है लेकिन यह पहला मौका नहीं है कि इनमें टकराव हुआ हो लेकिन इस बार कुछ ज्यादा ही हो गया जबकि इन संभावित उग्रवादियों के पास वही हथियार है जो पुलिस या सुरक्षा बलों से इन्हे मिले हैं यदि अभी भी स्थिति को जल्द नहीं सम्हाला गया तो इसके परिणाम और भी भयानक हो सकते हैं।

क्या म्यांमार और वर्मा की मदद मिल रही है उग्रवादियो को …

भारत के मणिपुर राज्य से म्यामार और वर्मा की सीमा लगी हुई है जब यह टकराव जारी था तो पिछले दिनों म्यांमार से मणिपुर के विष्णुपुर में 300 हथियारबंद लोगों के घुसने की जानकारी मिली है गोपनीय सूत्रों के मुताबिक इन्होंने तोरबुंग के जंगली इलाके को अपने छुपने का ठिकाना बनाया, और उसके बाद हिंसा फैलाने यह ग्रुप चूराचांदपुर की और बड़े इनके समूह में चिन और कुकी भी शामिल है जब सुरक्षा एजेंसियों को यह पता चला तो वह सक्रिय हुए और ड्रोन की सहायता से इनका पता लगा रहे है। इस बीच गुरुवार को दोपहर में विष्णुपुर के त्रोंगला ओबी में कुकी हमलावरों ने अचानक पुलिस वाहन पर फायरिंग की जिसमें पुलिस का एक कमांडो शहीद हो गया और दो पुलिस कर्मी गोली लगने से जख्मी हो गए। जबकि इन समुदाय पर यह भी आरोप लगते है कि मणिपुर को नार्को टेरेरिस्ट स्टेट बनाने में इनका हाथ है सरहद से लगे वर्मा से काफी ड्रग मणिपुर आता है और पूरे भारत में सप्लाई होता है इस काम में अनेक राजनेता, संपन्न लोग और इन समुदायों के काफी लोग लगे है और उनकी आय का एक बड़ा स्रोत यह ड्रग माफिया हैं।

डबल इंजन की सरकार मणिपुर में नही कर पा रही शांति की बहाली …

मणिपुर में दिनों दिन बिगड़ते हालात और बड़ती हिंसा पर काबू पाने के लिए पहले असम के मुख्यमंत्री हेमंता विसबा सरमा और बीजेपी नेता राम माधव को वहां भेजा गया लेकिन वह मुख्यमंत्री और समुदाय के नेताओं और अन्य लोगों से मुलाकात और मीटिंग करके लौट आएं जबकि कुकी के एक उग्रवादी संगठन ने तो दोनों नेताओं से यहां तक कह दिया कि हमने आपकी सरकार बनवाने में आपकी मदद की थी। उसके बाद गृहमंत्री अमित शाह 29 मई को पहुंचे 4 दिन रुके दोनों पक्षों के संगठन और नेताओं से मिले और समझाइश दी राज्यपाल के नेतृत्व में शांति कमेटी बनाने के निर्देश दिए जिसमे दोनो समुदाय के प्रमुख लोग, संगठन सांसद और प्रबुद्ध नागरिक शामिल होंगे जिससे समस्या सुलझाने का भरोसा दिया साथ ही शांति बहाली की अपील के साथ दोनों हथियार वापस करने को भी कहा लेकिन उनके जाने के बाद भी हिंसा रुकी नही लोगों के घर जला दिए चर्च पर हमला और आगजनी हुई कई लोग मारे गए।

बताया जाता है कुकी समुदाय मुख्यमंत्री को फूटी आंख नहीं सुहाते वह उन्हें अपना पक्का दुश्मन समझते है और उन्हें शांति कमेटी में शामिल करने पर कुकी समाज शांति बैठक का वहिष्कार करने का मन बनाया हुआ है साफ है स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया वह आज भी ज्यों की त्यों है लेकिन प्रमुख बात है इस सबके बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिपुर को लेकर आज तक एक भी बयान नही दिया ना ही वहां के नागरिकों से शांति की अपील करना ही मुनासिब समझा ।

देश के विपक्ष ने प्रधानमंत्री से मणिपुर मसले पर की सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग …

देश की 10 विपक्षी राजनेतिक पार्टियों ने गत 10 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिठ्ठी भेजकर मणिपुर में बिगड़ते हालातों को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए शीघ्र एक सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है जिसमें कांग्रेस जेडीयू आरजेडी आप नेशनल कांफ्रेस टीएमसी समाजवादी पार्टी एनसीपी और शिवसेना (उद्धव गुट) प्रमुख रूप से शामिल है लेकिन केंद्रीय सरकार ने अभी तक विपक्ष के पत्र पर कोई संज्ञान नही लिया इस मामले में एक पीसी के माध्यम से कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता जयराम नरेश ने कहा कि आज से 22 साल पहले जब मणिपुर में इसी तरह हालात बिगड़े थे तब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी और सभी से इस मामले में सुझाव लिए थे और मिलजुलकर समस्या का हल निकाला और शांति बहाल हुई थी लेकिन ना जाने क्यों आज विपक्ष की बात नही मानी जा रही।

पीएम अटल बिहारी वाजपेई के समय में भी हुआ था बलवा, हिंसा…

सन 2001-02 में भी मणिपुर में इन दोनों समुदायों के बीच बर्चस्व की लड़ाई हुई थी जिसमें झड़प और हिंसा में करीब 100 लोगों की मौत हुई थी लेकिन उस समय मुश्किल होने के बावजूद वाजपेई सरकार ने संवाद और समझाइश के बाद स्थिति पर नियंत्रण पा लिया था। उस समय की राजनेतिक स्थिति भी अलग थी कांग्रेस सहित विपक्षी पार्टियों ने 18 जून 2001 को मांग की थी और 6 दिन बाद प्रधानमंत्री वाजपेई ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी उसके बाद 8 जुलाई को दोबारा मीटिंग हुई जिसमें गंभीरता से मनन चिंतन कर सभी ने सरकार को अपने अपने सुझाव भी दिए थे।

क्या कहते है देश के रक्षा विशेषज्ञ पूर्व सैन्य अधिकारी और प्रबुद्धजन…

मणिपुर की समस्या विकराल होती जा रही इसका हल कैसे निकले और शांति कायम हो इसको लेकर एक नेशनल चैनल की डिवेट में लेफ्टीनेंट जनरल (रिटायर्ड) संजय कुलकर्णी, मेजर जनरल (रिटायर्ड) विशंभर दयाल, आईबी के पूर्व स्पेशल डीजी यशोवर्धन आजाद और मणिपुर के वरिष्ठ पत्रकार सुधीर भौमिक ने सयुक्त रूप से अपने सुझाव देते हुए कहा कि वहां की सरकार को शीघ्र बर्खास्त कर मणिपुर में राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए,साथ वहां अब टफ एक्शन की जरूरत पुलिस सहित जो सुरक्षा बल कुकी या मैतई समुदाय को अपना समर्थन दे रहे है उन्हें तत्काल हटाया जाएं वहां के डीजी पुलिस सख्ती से आदेश जारी कर हथियार वापसी को कहे अन्यथा जिनके पास हथियार है उनपर केस दर्ज कर कड़ी कार्यवाही करें, केंद्रीय सरकार और प्रधानमंत्री की तरफ से जल्द राजनेतिक प्रोसिज शुरू किया जाएं एक ऐसे नेता को वहां भेजा जाएं जो सर्वमान्य हो वरिष्ठ हो और जिसपर सभी विश्वास करते हो उन्होंने इसके लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का नाम भी सुझाया, प्रधानमंत्री को विपक्ष को साथ लेकर एक सर्वदलीय शांति की अपील भी की जानी चाहिए और वहां जो भी पार्टियों के नेता जाएं वह रुके नहीं वापस आ जाएं।

जबकि भारत के पूर्व आर्मी चीफ वीपी मलिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ट्वीट कर कहा है कि मणिपुर की कानून व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है शीर्ष नेतृत्व को जल्द उचित कदम उठाने की जरूरत है उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को भी टैग किया है।जबकि एक रिटायर्ड लेफ्टीनेंट कर्नल निशिंका सिंह जो मणिपुर में ही रहते है उन्होंने बड़ी गंभीर टिप्पड़ी की है कहा है आज मणिपुर स्टेट स्टेटस हो गया है और राज्यविहीन हो गया है लाइफ और प्रॉपर्टी (जानमाल) कभी भी लिए जा सकते है आज मणिपुर लेबनान नायजीरिया लीबिया सीरिया जैसी स्थिति में आ गया है उच्च स्तर पर ध्यान देने की जरूरत हैं।

Image Source: Twitter
read more
इंफाल

मणिपुर में सुरक्षा बलों से मुठभेड़ में 40 आतंकी मारे गए

Terrorist Killed in Encounter

इंफाल / जातीय संघर्ष से जूझ रहे मणिपुर में आज आतंकवादियों और पुलिस सुरक्षा बल के साथ हुई मुठभेड़ में 40 आतंकी मारे गए बताया जाता है यह आतंकी भारी मात्रा में आधुनिक हथियारों से लैस थे।

मणिपुर के मुखमंत्री एन बीरेंद्र सिंह ने बताया कि सेना और सुरक्षा बलों के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान करीब 40 आतंकी मारे गए है उनका कहना है कि यह आतंकवादी भीड़ की शक्ल में कुछ गांवों में घरों को जलाने आए थे और स्थानीय लोगों को।मार रहे थे इनके पास एके 47 और एम 16 जैसे आधुकिन हथियार भी थे मालूम होने पर सेना और सुरक्षा बलों ने उन्हें घेर लिया उनके व्दारा फायरिंग करने पर सेना और सुरक्षा बलों के जवानों ने भी फायरिंग की जिसमें 40 हमलावर मारे गए हैं। फिलहाल इलाके में तनाव बना हुआ है और कोमिंग ऑपरेशन जारी हैं।

जैसा कि मणिपुर में पिछले दिनों जातिगत वैमनस्य फैलने से कई इलाकों में हिंसा हुई है जिसमें अभी तक 20 से अधिक लोगों की मौत हो गई है यह टकराव कुकी समुदाय और मैतई समुदाय के बीच शुरू हुआ है मणिपुर हाईकोर्ट ने कुकी समुदाय को अनुसूचित जनजाति (एसटी) में शामिल करने के निर्देश सरकार को जारी किए थे जिससे कुकी समुदाय बुरी तरह नाराज हो गया था और उसने मैतई समझ के लोगों पर हिंसात्मक हमला और उनके घर जलाना शुरू कर दिए जिससे धीरे धीरे इस हिंसा ने भीषण रूप ले लिया था। इस मणिपुर संकट के बीच नगा उग्रवादी और अलगाववादी संगठनों ने ईसाई समुदाय का हितेशी बताकर कुकी समाज से सहानुभूति जताना शुरू कर दिया था। अब दो समुदायों के टकराव के बीच नगा उग्रवादी और अलगाववादी संगठनों के हस्तक्षेप से सरकार की चिंता और बड़ गई थी और जिससे यह उग्रवादी और अलगाववादी संगठन सरकार के निशाने पर आ गए थे।

read more
error: Content is protected !!