close

चंडीगढ़

चंडीगढ़देश

हरियाणा में खट्टर की छुट्टी, नायब सैनी बने हरियाणा के नए मुख्यमंत्री, ली शपथ, अनिल विज नाराज

Nayab Saini new Haryana CM

चंडीगढ़ / हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष नायब सैनी हरियाणा के नए मुख्यमंत्री बन गए है आज शाम उन्हें राज्यपाल ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इसके अलावा मूलचंद शर्मा, रणजीत सिंह चौटाला, जेपी दलाल, कंवरपाल गुर्जर, डॉ. बनवारी लाल, को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। इससे पहले बीजेपी विधायक दल की बैठक में सैनी को नेता चुना गया था और उन्होंने सीएम का अपना दावा पेश किया था। इस तरह मनोहर लाल खट्टर की बीजेपी नेतृत्व ने छुट्टी कर दी है। लेकिन इस निर्णय से गृहमंत्री अनिल विज नाराज हो गए और उनके नेता चुनने की घोषणा से पहले ही वह उठकर चले गए। लेकिन नायब सैनी का मुख्यमंत्री बनना कही न कही बीजेपी की रणनीति का एक बड़ा हिस्सा बताया जाता है।

हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर सरकार के खिलाफ एक बड़ी एंटीएनकमबेंसी को देखते हुए लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी नेतृत्व ने बड़ा फैसला लिया है ओमप्रकाश चौटाला की पार्टी जेजेपी से गठबंधन टूटने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राजभवन जाकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया था उसके उपरांत बीजेपी विधायक दल की बैठक में नायब सैनी को विधायक दल का नया नेता चुना गया, इस मौके पर मनोहर लाल खट्टर ने उनको बधाई दी बताया जाता है सैनी मनोहर लाल खट्टर के काफी नजदीकी है साथ ही सैनी कुरुक्षेत्र से सांसद और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी है। लेकिन उनके नेता चुने जाने की घोषणा से पहले ही अचानक खट्टर सरकार में गृहमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता अनिल विज इस निर्णय से नाराज होकर चले गए चूकि अनिल विज पार्टी के एक सीनियर नेता होने के साथ जनता के लिए हमेशा खड़े नजर आते रहे और उनका अनुमान रहा होगा कि पार्टी उन्हें जिम्मेदारी देगी लेकिन ऐसा नहीं होने पर वह नाराज हो गए।

लेकिन दूसरी तरफ बीजेपी नेतृत्व जो हमेशा दूर की सोच रखता है और वह हमेशा पार्टी के हित के साथ जातिगत समीकरणों पर खास ध्यान देता रहा है उसके मद्देनजर ही उसका यह निर्णय लगता है हरियाणा की राजनीति जाट वर्सिज अन्य जातिवर्गो के बीच बटी हुई है नायब सैनी ओबीसी वर्ग से आते है साफ है अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने पिछड़े वर्ग को लुभाने के लिए एक ओबीसी को मुख्यमंत्री बनाया है साथ ही खट्टर सरकार के खिलाफ एंटी इनकमबेंसी का तोड़ भी निकाल लिया।

खास बात है कि ओमप्रकाश चौटाला की जेजेपी से बीजेपी का गठबंधन समाप्त होने के बाद बीजेपी का यह नया प्रयोग सामने आया है जेजेपी के अलग होने के बाद बीजेपी को फिलहाल 7 निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल हो गया है। जैसा कि मनोहर लाल खट्टर पंजाबी वर्ग से आते है पंजाबी वर्ग के अलावा हरियाणा में जाट और ओबीसी वर्ग का ही प्रभाव है जबकि खबर यह भी है कि नायब सैनी के साथ अनिल विज जो पंजाबी समाज से आते है उन्हें और भव्य विश्नोई को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है। इस तरह लगता है बीजेपी हाईकमान जातिगत समीकरणों के आधार पर एक तीर से कई निशाने साधने की फिराक में है जिसके बलबूते वह हरियाणा में लोकसभा के साथ विधानसभा चुनावों की बिसात भी बिछाता नजर आ रहा हैं। लेकिन सबाल भी खड़े हो रहे है कि इस राजनैतिक कवायद के बाद क्या बीजेपी डेमेज कंट्रोल करने में सफल होगी। आगे हो सकता है अब मनोहर लाल खट्टर केंद्र की राजनीति करें और उन्हें लोकसभा का टिकट भी दिया जा सकता है।

read more
चंडीगढ़देशपंजाब

एसकेएम खुलकर आया आंदोलन के साथ, कल ब्लैक डे, 26 फरवरी को ट्रैक्टर मार्च, 14 मार्च को रामलीला मैदान पर किसान पंचायत

Farmers protest at shambhu border

चड़ीगढ़ / सयुक्त किसान मोर्चा अब किसान आंदोलन के साथ खुलकर आ गया हैं आज चंडीगढ़ में हुई मोर्चे की मीटिंग में फैसला लिया गया 23 फरवरी को पूरे देश में ब्लैक डे मनाया जायेगा और 26 फरवरी को देश के किसान ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे साथ ही 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान पर किसान महापंचायत करने की घोषणा एसकेएम ने की हैं। इससे साफ होता है कि यह आंदोलन अब लंबा चलेगा।

सयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में तय किया गया कि फिलहाल शंभू बॉर्डर पर जो किसान संगठन आंदोलन चल रहा है उसकी सभी मांगों पर हमारी सहमति है लेकिन एसकेएम उनसे अलग होकर इन्ही मांगो पर अपने स्तर पर संघर्ष करेगा। मोर्चे से अन्य पुराने साथियों और किसान संगठनो को जोड़ने के लिए एक 6 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया जिसमें जोगिंदर सिंह उगराहां दर्शन पाल, रविंदर सिंह पटियाला, बलवीर सिंह राजेवाल, युद्धवीर सिंह और हनन मौला को सदस्य बनाया गया हैं। इस अवसर पर भारतीय किसान संघ के नेता राकेश टिकैत ने कहा एसकेएम आंदोलन के साथ एकजुटता से खड़ा है पुलिस की किसानों पर की जा रही बर्बर कार्यवाही पूरी तरह से गलत है हम सभी किसान नेता इसकी घोर निंदा करते है और सभी किसान नेता किसानों के साथ हैं।

सयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में बालवीर राजेवाल ने कहा कि हरियाणा पुलिस ने पंजाब में घुसकर गोलियां चलाई हमारे किसानों के ट्रेक्टर तोड़े एसकेएम की मांग है कि इसके खिलाफ हरियाणा पुलिस और गृहमंत्री के खिलाफ केस दर्ज हो और इसकी न्यायायिक जांच कराई जाएं इसके अलावा युवा किसान शुभकरण के परिवार को एक करोड़ का मुआवजा सरकार दे।

एसकेएम के नेताओं ने बैठक के बाद आयोजित सयुक्त प्रेस कान्फ्रेस में बताया कि मोर्चे की बैठक में निर्णय लिया गया कि 23 फरवरी को किसानों पर अत्याचार और किसानों की मौत के विरोध में ब्लैक डे के रूप में घरों पर किसान काले झंडे लगाकर आक्रोश दिवस मनायेंगे इस दौरान सभी जिलों में सरकार और मंत्रियों के पुतलों का दहन किसान संगठन करेंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि 26 फरवरी को किसान देश में ट्रेक्टर मार्च निकालेंगे साथ ही बलवीर राजेवाल ने बताया कि 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान पर किसान पंचायत का आयोजन सयुक्त किसान मोर्चा करेगा।

read more
चंडीगढ़दिल्ली

भारत ने कनाडा की वीजा सेवा सस्पेंड की, पंजाब में छापेमारी, भारतीय छात्रों लिए एडवाइजरी जारी, निज्जर की हत्या के बाद संबंध बिगड़े

Canada PM Trudeau and Modi

दिल्ली, चंडीगढ़/ भारत और कनाडा के बीच रिश्ते लगातार लगता है बिगड़ने जा रहे है इसका बड़ा कारण है खालिस्तानी आतंकी हरपाल सिंह निज्जर की हत्या और कनाडा के पीएम टूडो का हाल का बयान, जिसमें उन्होंने इसकी हत्या में भारत की एजेंसियों का हाथ बताया था। जबकि धमकी के बाद भारत ने कनाडा में रह रहे छात्रों की सुरक्षा के लिए एक एडवाइजरी जारी करने के साथ कनाडा की वीजा सेवा पर आज रोक लगाते हुए फिलहाल इसे सस्पेंड कर दिया है। इधर पंजाब सरकार ने अनेक जिलों में खालिस्तानी समर्थको और कनाडा से भारत में अपना गैंग चलाने वालों के खिलाफ बड़ी मुहिम चलाते हुए आज व्यापक पैमाने पर छापामारी की।

भारत और कनाडा के बीच रिश्ते बिगड़ने का बड़ा कारण है कनाडा के पीएम ट्रूडो का भारत के खिलाफ जहर उगलने वाले खालिस्तानियों का यह कहकर बचाव करना कि यह उनकी स्वतंत्रता में दखल होगा लेकिन जी 20 की बैठक के दौरान कनाडा के पीएम ट्रुडो ने पीएम नरेंद्र मोदी से इस बारे में चर्चा की थी लेकिन अब भारत ने कनाडा में रहने वाले खालिस्तानी और उनके समर्थक गैंगो पर नकेल कसने के साथ भारतीय उच्चायोग ने एक बड़ी कार्यवाही भी की है अब कनाडा आने जाने वालों के खिलाफ बड़ा कदम उठाते हुए अगले आदेश तक अपनी वीजा सेवा को ही सस्पेंड कर दिया है। इस तरह कनाडा से आने वालों की अब भारत में नो एंट्री हो गई है।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरंदिम बागची ने प्रेस कान्फ्रेस में एक एक मुद्दे पर विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि कनाडा के आरोप राजनीति से प्रेरित है हमें पता है कि पाकिस्तान आतंकवाद का मददगार है जबकि कनाडा आतंकियों को संरक्षण देने के साथ उन्हें नापाक मंसूबे पूरे करने के लिए अपने यहां जगह देता है यदि भारत निज्जर की हत्या मामले में दोषी है तो वह इसके सबूत दे जबकि हमने बताया लेकिन कनाडाई सरकार ने कोई एक्शन नहीं लिया, हमने कहा डिप्लोमेट्स की तादाद दोनों देशों में बराबर होना चाहिए यह वियना कनवेक्शन के तहत जरूरी है। उन्होंने कहा जी 20 की बैठक के दौरान पीएम ट्रुडो ने पीएम नरेंद्र मोदी के सामने हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का मामला रखा था लेकिन भारतीय प्रधानमंत्री ने उसे सिरे से खारिज कर दिया था। भारत ने कनाडा को बता दिया है कि भारत के भगोड़े अपराधियों को कानूनी प्रक्रिया के तहत भारत लाया जायेगा और इंटरनेशनल लॉ के तहत यह मेंडेटरी है। उन्होंने बताया कि करीब 20 लोग ऐसे है जिनके बारे में हमने कनाडा सरकार को सबूत दिए है और उन्हे भारत को सौंपने को कहा है यह संख्या 25 भी हो सकती है। हमने ई-वीजा की प्रोसेस पूरी तरह से बंद कर दी है जबकि वीजा धारकों की सुरक्षा की बात है तो भारतीय नागरिकों की सुरक्षा की जिम्नदारी कनाडा सरकार की है। वही भारत सरकार ने सुरक्षा और सतर्कता के मद्देनजर एक एडवाइजरी भी जारी की है।

भारत की चिंता का कारण है कि बुद्धवार को खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने धमकी दी थी कि कनाडा में जो भारतीय नागरिक इस समय रह रहे है वे तुरंत देश छोड़ दे इसको लेकर भारतीय लोगों ने पीएम ट्रुडो को चिट्ठी लिखकर इसे हेट क्राइम का मानक मानते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग उनसे की है।

पिछले दिनों खालिस्तानी समर्थक हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कर दी गई थी जिसको लेकर भारतीय एजेंसियों पर आरोप लग रहै थे लेकिन बुद्धवार को कनाडा में सुखदिल सिंह नामक एक ए केटेगिरी के गैंग के सदस्य की हत्या हो जाती है यह बदमाश पंजाब के मोगा का रहने वाला था जो कमरिया गैंग से जुड़ा था जबकि गोल्डी बरार और कमरिया गैंग में ठनी हुई है।

एक तरफ एनआईए खालिस्तानी और उनके समर्थकों के खिलाफ पंजाब सहित राजस्थान यूपी और हरियाणा में अभियान चला रहा है साथ ही उनकी बेनामी संपत्ति का पता लगा रहा है वहीं आज से पंजाब सरकार ने भी सभी जिलों में करीब 5 हजार पुलिस कर्मी लगाकर छापेमारी शुरु कर दी है जिसके तहत वह गोल्डी बरार उसके गैंग के सदस्यों के साथ अन्य टेरर गैंगों पर शिकंजा कसने की फिराक में है और आज अनेक जिलों में करीब एक हजार स्थानों पर छापेमारी की गई जैसा कि गोल्डी बरार सिद्धू मूसवाला हत्याकांड का मुख्य आरोपी है और कनाडा में रहकर भारत में अपने गैंग को कंट्रोल कर अपना नेटवर्क चलाता है।

read more
चंडीगढ़देशपंजाब

4 दिन बाद भी अमृतपाल पुलिस की गिरफ्त से बाहर, हाईकोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार, CCTV फुटेज में भेष बदलकर मोटर साइकिल से फरार होता दिखा अमृतपाल

चंडीगढ़, जालंधर / खालिस्तान समर्थक और इसके नाम से लोगों को बरगलाकर देश के खिलाफ एकजुट करने वाला अमृतपाल सिंह 4 दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है जबकि पूरी पंजाब पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया हैं वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हे पुलिस ने सुरक्षा के व्यापक प्रबंध के साथ उसके चाचा, फायनेंसर और ड्राईवर सहित 116 खालिस्तानी समर्थक और सहयोगियों को गिरफ्तार किया है साथ ही उसके संगठन “वारिश पंजाब द” के नशा मुक्ति केंद्रों से हथियारों का जखीरा भी बरामद किया हैं। पुलिस के मुताबिक उसकी घेराबंदी के लिए बॉर्डर्स पर पुलिस के साथ बीएसएफ को तैनात किया गया है।

पुलिस का दावा है कि अमृतपाल प्राईवेट आर्मी, आनंदपुर खालसा फोर्स (एकेएफ) भी बना रहा था अमृतपाल सिंह की संस्था “बारिश पंजाब दे” के नशा मुक्ति केंद्रों पर रेड में 12 बोर की राइफले अन्य हथियारों सहित कारतूस बरामद किए है जब्त किए हथियारों पर एकेएफ का निशान बना था हाल में उसने दिल्ली से 33 बुलेट प्रूफ जोकेट भी खरीदी थी पुलिस का कहना है उसके इरादे नेक नहीं थे,चंडीगढ़ के डीसी विनयप्रताप सिंह के मुताबिक पंजाब में हाई अलर्ट के साथ शहर में धारा 144 लगा दी गई है साथ ही इंटरनेट और एमएसएस बंद है और धरना प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है उन्होंने बताया चंडीगढ़ मोहाली सहित 9 सीमाओं पर पुलिस के साथ बीएसएफ की टुकड़ी भी तैनात की गई है उनके के मुताबिक पुलिस ने अमृतलाल के कथित सलाहकार और फायनेंसर दलजीत सिंह कलसी उर्फ सरबजीत सिंह को गुरुग्राम से गिरफ्तार कर लिया साथ ही अमृतपाल के चाचा और ड्राइवर की भी गिरफ्तारी हो चुकी है इस तरह अभी तक पुलिस ने 116 खालिस्तानी समर्थक और अमृतपाल के सहयोगियों को गिरफ्तार लिया है। पुलिस ने अमृतापाल सिंह पर अभी तक एनएसए सहित 4 एफआईआर दर्ज की है। साथ ही उसके 4 खास साथियों को पुलिस ने असम की डिब्रूगढ़ की जेल भेजा है।

बताया जाता है अमृतपाल सिंह अब पुलिस बचकर से भागता फिर रहा है जालंधर से वह पहले मर्सडीज कार से भागकर शाहकोट पहुंचता है और वहां से गाड़ी बदलकर ब्रेजा कार में सबार होकर एक अंदरूनी गांव के अंदर के रास्ते पर पहुंचता है इस दौरान कार में यह पीछे बैठता है और उसके साथ उसके चाचा सहित 3 अन्य लोग भी थे ब्रेजा कार में कपड़े बदलता है धार्मिक चोला उतार कर डार्क पेंट शर्ट पहनता है नीली पगड़ी उतार कर गुलाबी रंग की पगड़ी पहनता है और अपनी लंबी दाढ़ी को भी चेहरे पर चिपका कर छोटी कर लेता है साथ ही शरीर एक डार्क शॉल से ढक लेता है जिससे पुलिस उसे इस बदली हुई हुलिया में पहचान नहीं पाएं जिस ब्रेजा कार से यह गांव पहुंचा वहां उसके चार सहयोगी बुलेट और लोकूना मोटरसाइकिल लिए मिले और वह कार से उतारकर एक मोटरसाइकिल पर बिठाकर गांव की लिंक रोड से भगा ले गए एक मोटर साइकिल पर तीन दूसरी पर एक साथी के साथ अमृतपाल चश्मा लगाकर बैठकर फरार होते देखा गया। नेशनल चैनल एनडीटीवी को यह सीसीटीवी फुटेज हाथ लगे है जो तस्वीर सामने आई है वह शनिवार 18 मार्च की बताई जाती है जिसमें अमृतापाल सिंह एक के बाद एक गाड़ियां बदलता हुआ मोटर साइकिल से फरार हो गया।

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में अमृतापाल केस की सुनवाई के दौरान अदालत ने पंजाब पुलिस को कड़ी फटकार लगाई है अदालत ने कहा कि 80 हजार पुलिस कर्मी होने के बावजूद अमृतापाल सिंह वह कैसे फरार हो गया और उसे पुलिस की कहानी पर भरोसा नहीं है क्योंकि इतनी ज्यादा पुलिस बल होते हुए वह कैसे भाग गया।

पुलिस ने अमृतपाल सिंह के 5 खास और भरोसेमंद लोगों पर एनएसए लगाया है इनमें उसका फायनेंसर दलजीत सिंह, चाचा हरजीत सिंह, गुरमीत सिंह, भगवंत सिंह और पीएम बजोक शामिल हैं।

खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल केस में अब NIA की एंट्री हो गई हैं उसके पास इसके खास और खालिस्तानी समर्थकों की पूरी लिस्ट है जिनकी जांच एनआईए की 8 टीमें कर रही है जो इसका ISI लिंक और उनसे रिश्ते का भी पता चला रही है एनआईए ने 458 करीबियों की अभी तक पहचान की है और उन्हे A,B,C तीन केटेगिरी में बांटा है A केटेगिरी में 142 लोग है B केटेगिरी में 231 लोग है जबकि बाकी 85 लोग C केटेगिरी में शामिल है।

NIA टीम की लगातार छापेमारी चल रही है जो फिलहाल पंजाब के अमृतसर तरन तारन, जालंधर और गुरूदासपुर में रेड मार रही है साथ ही एनआईए विदेशी फंडिंग की भी जांच कर रही है और यूनाइटेड स्टेट इंग्लैंड जर्मनी आस्ट्रेलिया इटली सहित अन्य देशों से आनंदपुर खालसा फोर्स (AKF) के संबंध और उसको दी फंडिंग का पता लगा रही है। इसके अलावा उन फायनेंस कंपनियों की पहचान एनआईए कर रही है जिससे इसको करोड़ों का ट्रांजेक्शन हुआ है साथ ही 2 हवाला कारोबारियों का भी पता चला है साथ ही इसके संगठन से जुड़े समर्थकों की 9 राज्यों में खोजबीन की जा रही है इसके लिए एनआईए की 28 टीमें कार्यरत हैं।

read more
चंडीगढ़पंजाब

पंजाब के सीएम भगवंत मान और गुरप्रीत हुए एक दूजे के, चंडीगढ़ में हुआ विवाह

Bhagwant Mann Married

चंडीगढ़ / पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान आज डा गुरप्रीत कौर के साथ वैवाहिक बंधन में बंध गए यह विवाह चंडीगढ़ में काफी सादगी के साथ संपन्न हुआ इस दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा सहित उनके खास रिश्तेदार ही मोजूद रहे।

आज 48 साल के भगवंत मान और 32 साल की डा गुरप्रीत कौर का आज मुख्यमंत्री आवास में समारोह पूर्वक सिख धर्म के मुताबिक विवाह हुआ खास बात है दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिता की भूमिका अदा की तो राघव चड्ढा गुरप्रीत के भाई बने बाहर से माहोल शांत जरूर देखा गया लेकिन अंदर सभी वैवाहिक रीति रिवाज पूरे जोरशोर से निभाए गए। इस मौक़े वर वधू दोनों ही पक्ष काफी उत्साह और खुशी से भरे हुए थे विवाह में दोनो ओर के केवल खास खास रिश्तेदार ही शामिल हुए।

जैसा कि भगवंत मान और गुरप्रीत की पहली मुलाकात 2019 में हुई थी उस समय मान संगरूर के सांसद थे दोनो मिलते जुलते भी रहे है भगवंत की मां हरपाल कौर चाहती थी कि उनका बेटा अपना घर फिर से बसाए और दोनो के बीच शादी की पहल भगवंत मान की बहन और मां ने की थी। खास बात है भगवंत मान की यह दूसरी शादी है पहली पत्नी इंद्रजीत कौर से उनका 2016 में तलाक हो गया था उनके दो बच्चे भी हैं लेकिन अब दोनो कई सालो से अलग है और उनकी पहली पत्नी और बच्चे अमेरिका में रहते हैं।

read more
चंडीगढ़पंजाब

पंजाबी गायक मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी बिश्नोई गैंग ने ली तिहाड़ में रची गई साजिश, पहली गिरफ्तारी, आज हुआ अंतिम संस्कार, भारी भीड़ जुटी

Sidhu Moose Wala

चंड़ीगढ़ – सुप्रसिद्ध पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या की साजिश दिल्ली की तिहाड़ जेल में रची गई थी और उसके पीछे कुख्यात गैंगेस्टर लारेंस बिश्नोई का हाथ था पुलिस ने इस गैंग के 6 गुर्गों को हिरासत में लिया था जिनसे वह पूछताछ कर रही है आज इस मामले में एक गुरफ्तारी भी पुलिस ने की है। खास बात है सिद्धू की हत्या में रशियन असाल्ट रायफल AN 94 का भी इस्तेमाल हुआ था जो एक साथ 1800 गोलियां दागने की क्षमता रखती हैं।

रविवार को सिंगर सिद्धू मूसेवाला की बड़ी बेरहमी से हत्या की गई थी उनके ऊपर 30 से 40 राउंड फायरिंग की गई जिसमें 24 गोलियां उसे लगी एक गोली उसके सिर में भी लगी थी जबकि बोलेरों सहित दो गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया था और हत्या की साजिश पुख्ता तरीके रची गई थी। पंजाब पुलिस ने तहकीकात के दौरान उत्तराखंड के देहरादून से 6 संदिग्ध बदमाशों को हिरासत में लिया है जिनका संबंध बिश्नोई गैंग से हैं जबकि इस हत्या में एक बदमाश की गिरफ्तारी भी पुलिस ने की हैं ऐसा पंजाब पुलिस के डीजीपी कहना हैं कि गैंगवार में मूसेवाला की जान गई है पुलिस बरामद बोलेरों वाहन की फॉरेंसिक जांच भी करा रही हैं। पुलिस के मुताबिक इस हत्याकांड में 90 mm की पिस्टल, 7.52 mm और 30 mm की पिस्टल के साथ रशियन गन असाल्ट रायफल AN 94 से फायरिंग किये जाने के पुख्ता सबूत मिले है खास बात है रायफल AN 94 से एक साथ 1600 से 1800 गोलियां दागी जा सकती है बदमाशों पर इसकीं मौजूदगी पुलिस की चिंता का बड़ा कारण हैं।

इधर सिद्धू के पिता बलकोर सिंह का कहना है रविवार को उनका बेटा अपने दो दोस्तों जोगेन्दर और गुरप्रीत सिंह के साथ थार गाड़ी में बिना सुरक्षा के पास के गांव जवाहरपुर गया था जैसा कि उसे गेंगेस्टरो की लगातार धमकी के चलते मैं भी उंसके पीछे गया मेने देखा एक आल्ट्रो गाड़ी उसकी गाड़ी के पीछे उसे कवर कर रही थी जिसमें 3 – 4 लोग थे और जब वह गांव के बाहरी हिस्से में था तो पहले से ही वहाँ एक बोलेरों गाड़ी खड़ी थी जिसमें बैठे 4 लोगों ने सामने से उस पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर उसकी हत्या कर दी।

मूसेवाला की हत्या और तिहाड़ जेल का नाम सामने आने पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच सक्रिय हो गई और उंसने तत्काल कार्यवाही करते हुए पहले जेल में बंद बिश्नोई से पूछताछ की और आज उसे कोर्ट में पेश कर एक अन्य मामले में 5 दिन की रिमांड पर लिया है अब पुलिस उससे मूसेवाला की हत्या के सिलसिले में भी पूछताछ करेगी। पुलिस ने आज एक अल्ट्रो कार भी बरामद की हैं बताया जाता है हत्या के बाद आरोपी इसी कार में फरार हुए थे। इधर बिश्नोई ने कोर्ट में एक अर्जी लगाई है जिसमें उसने अपने को पंजाब पुलिस को नही सोपने की मांग कोर्ट से की हैं।

जबकि दिल्ली पुलिस ने काला जठेड़ी और गोल्डी गैंग से भी पूछताछ की है बताया जाता है लारेंस बिश्नोई गैंग के एक सदस्य विक्की का मर्डर गत साल हुआ था बिश्नोई गैंग का मानना था कि उसमें मूसेवाला और उसके सेकेट्री का हाथ था तभी से मूसेवाला उनकी हिट लिस्ट में था सेकेट्री पिछले दिनों आस्ट्रेलिया भाग गया लेकिन सिद्धू को इस गैंग ने निशाना बना कर बदला ले लिया यह भी चर्चा में हैं।

इधर पंजाब पुलिस ने इस हत्याकांड की जांच को लेकर एसआईटी का गठन किया है जबकि सिद्धू के पिता ने पंजाब सरकार से इस मामले की न्यायायिक जांच की मांग की हैं। वही मुख्यंमंत्री भगवंत मान का कहना है कि सिंदधू मूसेवाला के हत्यारों को बख्शा नही जायेगा कोई भी हो पुलिस जल्द उसे गिरफ्तार कर सजा दिलायेगी

मृत सिद्धू मूसेवाला का 5 डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया सिंदधू के सिर सहित शरीर मे 24 गोलियां लगी है। पीएम के बाद पुलिस ने आज सिद्धू का शव उसके परिजनों को सौप दिया और सिद्दधू के गांव मूसा में उंसका अंतिम संस्कार किया गया इस दौरान ग्रामीणों के साथ उसके चाहने वालों की भारी भीड़ मौजूद रही। जिसमें युवा काफी संख्या में थे।

read more
चंडीगढ़देशपंजाब

पंजाब की 117 सीटों पर हुआ चुनाव, 5 बजे तक 63.44 फीसदी मतदान, केजरीवाल, सुखबीर और चन्नी पर आचार संहिता उल्लंघन का केस

Election On

चंड़ीगढ़ – पंजाब की 117 सीटों पर आज मतदान हुआ शाम 5 बजे तक करीब 63.44 फीसदी मतदान हो चुका था जिसके 70 फीसदी के आसपास पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा हैं लेकिन इससे पहले मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी आप नेता अरविंद केजरीवाल और शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखवीर सिंह बादल पर आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लघन के तहत मामला दर्ज किया गया हैं।

पंजाब में आज सुबह 7 बजे से सभी 117 सीटों पर मतदान शुरू हुआ जो शाम 6 बजे तक जारी रहा खास बात रही शाम 5 बजे तक 63.44 प्रतिशत मतदान हो चुका था जैसा कि पंजाब में सत्तासीन कांग्रेस के अलावा आप शिरोमणि अकाली दल और बीएसपी गठबंधन , बीजेपी और केप्टिन अमरिंदर सिंह की पार्टी साथ मिलकर चुनाव में उतरी हैं।

यदि 2017 के नतीजों पर नजर डाले तो 117 में से कांग्रेस को 77, शिरोमणि अकाली दल 15 आप को 20 और 2 सीटों पर अन्य जो जीत मिली थी। कैप्टिन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस ने सरकार बनाई थी लेकिन कांग्रेस ने कैप्टिन को मुख्यमंत्री पद से हटाकर चरणजीत सिंह चन्नी को करीब 4 माह पहले मुख्यमंत्री बनाया था नाराज कैप्टिन ने कांग्रेस छोड़ नई पार्टी बनाई और आज बीजेपी के साथ चुनाव लड़ रहे हैं। पंजाब में 32 फीसदी दलित वोटर है और कांग्रेस दलित वर्ग के चन्नी को सीएम चेहरा बनाकर चुनावी समर में कूदी हैं। वही आप अपने बलबूते चुनाव में उतरी है जो सांसद भगवंत मान को सीएम चेहरा बनाकर चुनाव लड़ रही हैं।

जहां तक दिग्गज नेताओं के राजनीतिक भविष्य का सबाल है शिरोमणि अकाली दल के सुखवीर सिंह बादल कांग्रेस के नवजोत सिंह सिद्धू सीएम चरणजीत सिंह चन्नी, आप के भगवंत मान,बीजेपी के विक्रम सिंह मजीठिया कैप्टन अमरिंदर सिंह चुनाव मैदान में है जिन्हें कड़ी टक्कर मिल रही हैं।

शाम 5 बजे तक पंजाब में 63.44 फीसदी मतदान हो चुका था चूंकि मतदान का समय 6 बजे तक का है जिसके चलते मत प्रतिशत बड़ने के आसार है जिसके 70 प्रतिशत के आसपास पहुंचने का अनुमान व्यक्त किया जा रहा है जबकि 2017 में पंजाब में 70.2 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था।

read more
चंडीगढ़देशपंजाब

भगवंत मान होंगे पंजाब में आप का मुख्यमंत्री चेहरा, यूपी में जेडीयू की एंट्री

AAP and JDU

चंड़ीगढ़ – आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने आज पंजाब विधानसभा चुनाव से पूर्व अपनी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे का ऐलान कर दिया है दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि पार्टी ने पंजाब की जनता से अपने मुख्यमंत्री के नाम को सुझाने का आग्रह किया था और उन्होंने 93 फीसदी मतों के साथ भगवंत मान को अपने मुख्यमंत्री चुना है इसीलिए वही पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के चेहरा होंगे और उनके नेतृत्व में ही आप पंजाब विधानसभा के चुनावी मैदान में उतरेगी और पार्टी के सत्ता में आने पर वे पंजाब के मुख्यमंत्री बनेंगे आप नेता केजरीवाल ने कहा उनके नाम की भी चर्चा लोग कर रहे थे लेकिन ऐसा कुछ नही हैं।

यूपी में जेडीयू अकेले दम पर चुनाव में उतरेगी –

उत्तर प्रदेश में जनता दल यूनाइटेड विधानसभा चुनाव लड़ेगी, जेडीयू नेता के.सी. त्यागी ने प्रेस कांफ्रेंस में यह घोषणा करते हुए कहा हमारा किसी अन्य दल से कोई समझौता नही हुआ है पार्टी अपने दम पर चुनाव में उतरेगी उन्होने साफ करते हुए कहा कि हमारे चुनाव लड़ने से बिहार में कोई फर्क नही पड़ेगा बिहार में हमारा और बीजेपी के साथ सरकार बनाने का जो गठबंधन हैं वह बरकरार रहेगा उसपर कोई संकट नही हैं। एक सबाल पर जेडीयू नेता त्यागी ने कहा यह पहली बार नही है हमारी पार्टी उत्तर प्रदेश से पहले भी चुनाव लड़ती रही हैं।

read more
चंडीगढ़पंजाब

पंजाब के सीएम चन्नी और सिद्धू के बीच लंबी बैठक, सहमति बनी इस्तीफा बापस ले सकते है, सिद्धू एआईसीसी कर सकती हैं बयान जारी

Siddhu and Channi

चंड़ीगढ़ – चंड़ीगढ़ स्थित पंजाब भवन में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और पीसीसी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले नवाजोत सिंह सिद्धू के बीच आज एक मीटिंग हुई समझा जाता है बैठक में सिद्धू ने जिन बातों को लेकर अपनी आपत्ति दर्ज कराई थी उसपर खास तौर पर चर्चा हुई और अधिकारियों को बदले जाने के साथ कुछ अन्य मुद्दों पर दोनो के बीच सहमति बन गई हैं। साथ ही सिद्धू चुनाव तक अध्यक्ष बने रहेंगे ऐसी जानकारी सामने आई है लेकिन दोनों के औपचारिक इस बारे में कोई बयान नही दिया बताया जाता हैं एआईसीसी इस बारे जल्द कोई स्टेटमेंट जारी कर सकती है।

जैसा कि मंत्रिमंडल में कुछ लोगों को पोर्टफोलियो दिये जाने और डीजीपी और एडवोकेट जनरल बनाने को लेकर विश्वास में नही लिये जाने से नाराज होकर नवाजोत सिद्धू ने 28 सितंबर को प्रदेश अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा दे दिया था जिससे पंजाब में कांग्रेस की सियासी स्थिति बिगड़ गई थी और तरह तरह की बातें सामने आ रही थी लेकिन आज मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और सिद्धू के बीच पंजाब भवन में बैठक हुई जो करीब ढाई घंटे तक चली। सिद्धू खुद सीएम से मिलने पंजाब भवन पहुंचे।

बैठक के बाद पहले सीएम चन्नी मीडिया के सामने बिना कोई इस्टेटमेंट दिये मुस्कराते हाथ हिलाते निकल गये कुछ समय बाद सिद्धू भी बिना कुछ कहे अपनी गाड़ी में पंजाब भवन से चले गये जिससे क्या निर्णय हुआ उंसकी ओपचारिक रूप से कोई जानकारी सामने नही आई।

लेकिन सूत्रों से जो जानकारी मिली है उंसके मुताबिक दोनो के बीच कुछ मुद्दों पर चर्चा के बाद सुलह हो गई है और डीजीपी को बदले जाने के साथ मंत्रिमंडल में भी कुछ फेरबदल संभव है। साथ ही पंजाब में चुनाव तक सिद्धू अपने प्रदेश अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे जबकि सिद्धू के नजदीकी कहे जाने वाले नेता भूपेंद्र बोरा के मुताबिक सिद्धू मान गये है।

इस तरह दोनों नेता बिना कोई बयान दिये पंजाब भवन से चले गए अब एआईसीसी बैठक के बारे में बयान जारी कर सकता है लेकिन डीजीपी और एडवोकेट जनरल को बनाने या बदलने के साथ मंत्रिमण्डल में फेरबदल का अधिकार मुख्यमंत्री के पास होता है यदि इसके विरुद्ध सिद्धू की बात मानकर कोई बदलाव होता है तो सीएम के अधिकारों का हनन होने के साथ उनकी साख पर बट्टा लगेगा। साथ ही सिद्धू के हौसले भी बढ़ेंगे और सिद्धू की जो फितरत है आगे क्या गारंटी है कि भविष्य में वे मुख्यमंत्री के निर्णयों में हस्तक्षेप नही करेंगे।

read more
चंडीगढ़पंजाब

नवजोत सिद्धू ने पंजाब प्रदेश अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

Navjot singh siddhu

चंड़ीगढ़ – नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा दे दिया है उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बाबत जानकारी दी हैं उन्होंने अपना इस्तीफा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिया है जैसा कि हाल में ही कांग्रेस हाईकमान ने उन्हें अध्यक्ष बनाया था। लेकिन सिद्धू के इस्तीफे से पंजाब में कांग्रेस की राजनीति में एक बार फिर से उबाल आ गया हैं।

प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की चिट्ठी सिद्धू ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दी है अपने छोटे से पत्र में उन्होंने कहा है कि मैं कम्प्रोमाइज नही कर सकता इसलिए अध्यक्ष पद छोड़ रहा हूं लेकिन मैं कांग्रेस में बना रहूंगा।

जैसा कि अध्यक्ष बनने के बाद भी उनकी पटरी पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से नही बैठी और आपस की खींचातानी और विधायकों के सिद्धू के पाले में जाने से दबाब के चलते कैप्टन को अपनी कुर्सी गवाना पड़ी और कांग्रेस हाईकमान की रजामंदी के बाद चरणसिंह चन्नी पंजाब के नये मुख्यमंत्री बन गये। लेकिन कैप्टन के हटने के बाद कही ना कही सिद्धू की सीएम बनने की अति महत्त्वकांक्षा भी कही ना कही आहत हो गई।

जहां तक सिद्धू की नाराजी का सबाल है उनका इस्तीफे की चिट्ठी में कंप्रोमाईज नही करने की बात से लगता है कि वे कांग्रेस हाईकमान के हाल में लिये निर्णयों से सहमत नही रहे, जिसमें नये मंत्रिमंडल में डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा को गृहमंत्री पद का प्रभार देने से नाराज है। वही राणा गुरजीत सिंह जो कैप्टन की केबीनेट में मंत्री रह चुके है उन्हें चन्नी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाना भी सिद्धू को रास नही आया। साथ ही मंत्रिमंडल में शामिल मंत्रियों के चुनाव में उनको तवज्जों नही दिये जाने से वह कांग्रेस हाईकमान से नाराज हो सकते हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री के चेहरे पर पंजाब में अगला चुनाव लड़ा जायेगा इसको लेकर भी सिद्धू नासाज हो सकते हैं। जैसा कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के प्रयास से सिद्धू का अध्यक्ष बने थे अब लगता है पांसा उलटा पड़ गया।

इधर दिल्ली जा रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा कि, मैंने पहले ही कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू स्थिर व्यक्ति नही हैं। जानकारी के मुताबिक कैप्टन दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और अन्य नेताओं से मुलाकात करने वाले है ऐसी खबरें निकल कर आ रही हैं लेकिन पंजाब में सिद्धू के इस्तीफे से क्या अब नये समीकरण बन सकते है यह भी देखना होगा।

read more
error: Content is protected !!