close

पंजाब

चंडीगढ़देशपंजाब

एसकेएम खुलकर आया आंदोलन के साथ, कल ब्लैक डे, 26 फरवरी को ट्रैक्टर मार्च, 14 मार्च को रामलीला मैदान पर किसान पंचायत

Farmers protest at shambhu border

चड़ीगढ़ / सयुक्त किसान मोर्चा अब किसान आंदोलन के साथ खुलकर आ गया हैं आज चंडीगढ़ में हुई मोर्चे की मीटिंग में फैसला लिया गया 23 फरवरी को पूरे देश में ब्लैक डे मनाया जायेगा और 26 फरवरी को देश के किसान ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे साथ ही 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान पर किसान महापंचायत करने की घोषणा एसकेएम ने की हैं। इससे साफ होता है कि यह आंदोलन अब लंबा चलेगा।

सयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में तय किया गया कि फिलहाल शंभू बॉर्डर पर जो किसान संगठन आंदोलन चल रहा है उसकी सभी मांगों पर हमारी सहमति है लेकिन एसकेएम उनसे अलग होकर इन्ही मांगो पर अपने स्तर पर संघर्ष करेगा। मोर्चे से अन्य पुराने साथियों और किसान संगठनो को जोड़ने के लिए एक 6 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया जिसमें जोगिंदर सिंह उगराहां दर्शन पाल, रविंदर सिंह पटियाला, बलवीर सिंह राजेवाल, युद्धवीर सिंह और हनन मौला को सदस्य बनाया गया हैं। इस अवसर पर भारतीय किसान संघ के नेता राकेश टिकैत ने कहा एसकेएम आंदोलन के साथ एकजुटता से खड़ा है पुलिस की किसानों पर की जा रही बर्बर कार्यवाही पूरी तरह से गलत है हम सभी किसान नेता इसकी घोर निंदा करते है और सभी किसान नेता किसानों के साथ हैं।

सयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में बालवीर राजेवाल ने कहा कि हरियाणा पुलिस ने पंजाब में घुसकर गोलियां चलाई हमारे किसानों के ट्रेक्टर तोड़े एसकेएम की मांग है कि इसके खिलाफ हरियाणा पुलिस और गृहमंत्री के खिलाफ केस दर्ज हो और इसकी न्यायायिक जांच कराई जाएं इसके अलावा युवा किसान शुभकरण के परिवार को एक करोड़ का मुआवजा सरकार दे।

एसकेएम के नेताओं ने बैठक के बाद आयोजित सयुक्त प्रेस कान्फ्रेस में बताया कि मोर्चे की बैठक में निर्णय लिया गया कि 23 फरवरी को किसानों पर अत्याचार और किसानों की मौत के विरोध में ब्लैक डे के रूप में घरों पर किसान काले झंडे लगाकर आक्रोश दिवस मनायेंगे इस दौरान सभी जिलों में सरकार और मंत्रियों के पुतलों का दहन किसान संगठन करेंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि 26 फरवरी को किसान देश में ट्रेक्टर मार्च निकालेंगे साथ ही बलवीर राजेवाल ने बताया कि 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान पर किसान पंचायत का आयोजन सयुक्त किसान मोर्चा करेगा।

read more
देशपंजाब

किसान आंदोलन में युवा किसान की मौत, दो दिन टला दिल्ली कूच, वार्ता टली, हरियाणा पुलिस पर कार्यवाही, मृतक को शहीद का दर्जा देने की मांग

Farmers Leader Sarvan Singh Pander PC

अंबाला, खनौरी/ चार दौर की वार्ता फेल होने के बाद बुद्धवार को किसानों ने दिल्ली कूच का ऐलान किया था लेकिन शंभू और खनौरी बॉर्डर पर पुलिस और किसानों के बीच संघर्ष और टकराव हुआ और रबर की गोलियां की फायरिंग के साथ पुलिस ने लगातार ड्रोन से आंसू गैस के गोले बरसाए, इस बीच खनौरी बॉर्डर पर एक युवक की गोली लगने से मौत होने के बाद किसान पीछे हट गए और उन्होंने फिलहाल दो दिन के लिए दिल्ली कूच का कार्यक्रम रोक दिया है साथ ही एक निश्चित कार्ययोजना के साथ 23 फरवरी को आगे बड़ने का फैसला लिया है। बताया जाता है आगे बड़ने के दौरान अन्य लोगों के साथ किसान नेता सरबन सिंह पढ़ेंर और जगजीत सिंह डल्लेवाल भी घायल हुए डल्लेवाल को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जबकि सरकार ने 5वी वार्ता का न्यौता भी दिया कृषिमंत्री ने कहा बातचीत से ही समाधान निकल सकता हैं। जबकि किसान नेताओं ने पंजाब सरकार से किसानों पर बर्बरता बरतने वाली हरियाणा पुलिस के खिलाफ कार्यवाही और मृतक किसान को शहीद का दर्जा देने की मांग की हैं। जबकि अभी तक 167 किसान जख्मी हुए है जिसमें 6 की हालत गंभीर है 6 किसान लापता हो गए है किसान नेताओं का आरोप है कि पुलिस ने किसानों पर पेलेट गन का भी इस्तैमाल किया।

पिछले 10 दिन से किसान एमएसपी और अन्य मांगों को लेकर सड़कों पर है और वार्ता फेल होने के बाद 21 फरवरी बुद्धवार को उन्होंने दिल्ली की ओर बड़ने का ऐलान किया था पंजाब हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर पोकलेन मशीन और जेसीबी का इंतजाम भी कर लिया था किसान हेलेमेट के साथ अश्रु गैस से बचने और उसे निष्क्रिय करने के साधन भी साथ लिए देखे गए थे।

इधर भारी संख्या के हरियाणा पुलिस और पेरा मिलिट्री फोर्स भी बॉर्डर पर तैनात थी 5 लेयर की सीमेंट की दीवार की बेरीगेटिंग के अलावा पुलिस ने भारी अवरोध सड़कों पर रखकर उन्हें जामकर दिया था।

जब किसान बॉर्डर की और बड़े तो उनपर पुलिस और फोर्स ने लगातार ड्रोन से आंसू गैस के गोले दागने शुरू कर दिए साथ ही रबर की गोलियों से फायरिंग होती रही जिससे किसान बेरेगेट नही हटा सके लेकिन पुलिस की इस कार्यवाही ने अनेक किसान घायल हो गए इस बीच जगजीत सिंह डल्लेवाल जब आगे निकले तो अश्रु गैस के कुछ गोले उनके करीब फटे जिससे वह घायल हो गए बेहोशी की हालत में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

इधर दूसरे खनौरी बॉर्डर के मोर्चे पर सैकड़ों किसान दिल्ली की ओर बड़ने की कोशिश कर रहे थे यहां भी पुलिस उन्हें रोकने के लिए रबर की बुलट और आंसू गैस का इस्तेमाल कर रही थी तभी एक गोली शुभकरण ( 23 साल) नामक युवक को लगी घायल अवस्था में उसे अन्य किसान पटियाला के अस्पताल ले कर भागे लेकिन अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया बताया जाता है उसके सिर में गोली लगी है पोस्टमार्टम के बाद ही साफ होगा कि यह गोली रबर की है या दूसरी गोली से उसकी मौत हुई है।

बताया जाता है किसान नेता सरबन सिंह पंढेर सहित अन्य कई किसान भी घायल हुए हैं। जब किसान और पुलिस के बीच यह संघर्ष हो रहा था इस बीच सरकार की तरफ से बातचीत का फिर से न्यौता आया। कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा बातचीत से ही समाधान निकल सकता है सरकार एमएसपी पराली एफआईआर और अन्य मांगो पर हम फिर से वार्ता करने को तैयार है किसान टकराव का रास्ता छोड़े और सरकार से चर्चा करें।

लेकिन इस संघर्ष के बाद किसान संगठन और नेताओं के बीच बुद्धवार को एक बंद ट्रेक्टर ट्राली में बने कंट्रोल रूम में मीटिंग हुई जिसमें आगे की रणनीति पर विचार विमर्श हुआ और दो दिन तक आंदोलन रोकने पर सहमति बनी जिसमें सरकार के बुलावे पर भी चर्चा हुई, लेकिन अधिकांश किसानों का मत था कि हमारे एक युवा किसान की मौत हो गई अब सरकार से वार्ता किस मुंह से करेंगे।

जबकि जगजीत डल्लेवाल ने कहा कि पंजाब सरकार खनोती बार्डर पर जिस युवा किसान शुभकरण की मौत हुई है उसे शहीद का दर्जा दे,उन्होंने कहा केंद्र और हरियाणा सरकार से हमारी लड़ाई है लेकिन पंजाब की सीमा में घुसकर हमला करने के मामले में हरियाणा पुलिस और उसके गृहमंत्री के खिलाफ पंजाब सरकार केस दर्ज कर कार्यवाही करे।

जबकि सरबन सिंह पंढेर ने आज एक तस्वीर जारी की जिसमें पुलिस फायरिंग कर रही है उन्होंने कहा है कि यह तस्वीर दिखाती है कि पुलिस किसानों पर सीधी फायरिंग कर रही है पंजाब सरकार को हमला करने वालों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करना चाहिए। जबकि किसान नेता बलदेव सिंह ने कहा है कि पुलिस ने हमारे केंपो और ट्रैक्टरो पर हमला किया उन्होंने कहा इसमें हमारे 167 किसान घायल हुए है 6 की हालत गंभीर है और 6 किसान लापता है अधिकांश घायलों के चेहरे और आंखों में गोलियां धसी है कई किसानों की आंखों की रोशनी भी जाती रही है उन्होंने पुलिस पर पेलेट गन के इस्तैमाल का आरोप भी लगाया है।

किसान मजदूर संघर्ष समिति के नेता सरबन सिंह पंढेर ने आज पत्रकार वार्ता में कहा किसानों पर अत्याचार और जुल्म के खिलाफ दोनों मोर्चो ने कल ब्लैक डे मनाने का निर्णय लिया है देश के 140 करोड़ लोग शामिल हो है घर गली कूचे में विरोध में काले झंडे लगाए और केन्द्र सरकार के पुतले का दहन करे उन्होंने कहा संविधान ने हमें आंदोलन का हक दिया है पीस फुल हमारे आंदोलन में हमे रोका जा रहा है एक 22 साल के युवा किसान शुभकरण को अलग खेत में गोली मार दी गई उसकी मौत हो गई दो बहने में अकेला भाई था हमारे कैंप में आकर पेरा मिलिट्री फोर्स के जवानों ने तोड़फोड़ की सात किसानों को पकड़ कर ले गए उन्हें बोरे में बंद कर बुरी तरह से मारा इसके खिलाफ पंजाब सरकार से हमारी बात हुई है उन्होंने कहा गतिरोध कहा है कि वह बार वार्ता करती है लेकिन यह बातचीत निर्णय तक क्यों नहीं पहुंचती वी इसके लिए सरकार जवाबदेह है जबकि हमारी मांगे स्पष्ट है उन्होंने कहा जब तक सरकार हमारी मांग नही मानती यह मोर्चा जारी रहेगा।

खास बात है शंभू और खनोती बॉर्डर पर जख्मी किसानों के शरीर से पेलेटस निकले है मेडिकल रिपोर्ट में भी आया है लेकिन हरियाणा पुलिस ने इससे साफ इंकार करते हुए कहा कि पुलिस ने पेलेट गन नही चलाई। जानकारी के मुताबिक इस आंदोलन के दौरान किसी न किसी कारण से अभी तक 3 किसान और 3 पुलिस कर्मियों की मौत हो चुकी है

read more
देशपंजाब

किसान आंदोलन का चौथा दिन, बंद का खासा असर, तीसरे दौर की मीटिंग फेल, किसान और एसआई की मौत, किसान मोर्चे पर डटे, बीकेयू (उगराहां)भी साथ आया

Farmers protest at shambhu border

अंबाला / सयुक्त किसान मोर्चा और किसान मजदूर संघ के आव्हान पर ग्रामीण भारत बंद का खासा असर देखा गया खासकर पंजाब हरियाणा सहित उत्तर भारत के राज्यों में आवश्यक सेवाओं को छोड़कर व्यवसाय और बाजार के साथ यातायात के साधन भी बंद रहे। जबकि आज चौथे दिन पंजाब हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर किसानों और पुलिस सुरक्षा बलों साथ तनातनी जारी रही इस बीच आंसू गैस छोड़ी गई जिससे कई किसान घायल हो गए ।जबकि इस आंदोलन के दौरान अश्रु गैस से दम घुटने से एक सब इंस्पेक्टर और हार्ट अटैक से एक किसान की मौत हो गई है। इधर चंडीगढ़ में सरकार और किसान नेताओं के बीच तीसरे दौर की बैठक नाकाम हो गई और फिर से बैठक होने की खबर हैं। जबकि चढ़ूनी के बाद अब भारतीय किसान यूनियन (उगराहां) ने भी किसान आंदोलन को अपने समर्थन देने की घोषणा की है। शुक्रवार को हरियाणा में ट्रैक्टर मार्च निकालने के साथ ट्रोल नाके फ्री कराने का ऐलान भी किया गया हैं।

किसान संगठनों का आज ग्रामीण भारत बंद का चार राज्यों पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश और राजस्थान में खासा असर देखा गया बाजार और व्यापारिक प्रतिष्ठान स्कूल कॉलेज बंद रहे और रोडवेज कर्मियों के बंद को समर्थन देने से आज सभी सरकारी और प्राइवेट बसे भी नही चली साथ ही अन्य यातायात के साधन भी नही दिखे इस दौरान आवश्यक सेवाएं जरूर जारी रही। जबकि पश्चिम उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यो में इस बंद का प्रभाव कम रहा। लेकिन ज्यादातर राज्यों में किसान संगठनों के साथ राजनेतिक दलों ने प्रदर्शन के साथ प्रशासन को ज्ञापन दिए।

शुक्रवार को शंभू बॉर्डर पर मोजूद किसान दोपहर में आगे बड़े तो उन्हें बेरीगेट पर पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स ने रोकने की कोशिश की जब किसान नहीं रुके तो इनपर पुलिस ने अश्रु गैस के गोले दागना शुरू कर दिए जिससे कई किसान घायल हो गए।

इस बीच किसान आंदोलन को देश के 9 मजदूर संगठन और हरियाणा पंजाब और उत्तर प्रदेश के किसान संगठनों का समर्थन भी अब इसे मिलने लगा है साफ है यदि यह मुद्दा जल्द नही सुलझा तो उह आंदोलन लंबा खिच सकता है। इधर किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा है कि किसानों का आंदोलन शांति पूर्ण ढंग से आगे चलता रहेगा।

हरियाणा में भारतीय किसान यूनियन ( चढ़ूनी) के प्रमुख गुरनाम सिंह चढ़ूनी की कॉल पर शनिवार को 12 से दोपहर 3 बजे तक सभी ट्रोल नाके फ्री करने का काम किया जाएगा साथ ही हरियाणा में तहसील स्तर पर किसान ट्रैक्टर मार्च भी किसानों की मांगों के समर्थन में निकालेंगे।

इधर शुक्रवार को किसानों के सबसे बड़े संगठन भारतीय किसान यूनियन (उगराहां) के प्रधान जोगिंदर सिंह उगराहां ने आंदोलन में शामिल होने का ऐलान किया है उन्होंने कहा कि शनिवार को पंजाब के सभी ट्रोल फ्री कराएं जाएंगे इसके अलावा शनिवार को भाजपा नेता एवं पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब बीजेपी अध्यक्ष सुनील जा और केवल ढिल्लो के घरों का घेराव किया जायेगा। इधर पंजाब के बीजेपी नेता रवि ग्रेवाल ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अन्य पदों से इस्तीफा दे दिया है और बीजेपी अध्यक्ष सुनील जाखड़ को इस्तीफा भेज दिया है उनका कहना है हरियाणा पुलिस आंदोलनकारी किसानों पर बेवजह आंसू गैस छोड़कर उन्हें घायल कर उन्हें प्रताड़ित कर रही है।

जबकि हरियाणा पुलिस ने किसान नेता अभिमन्यु कोहाड़ सहित उनके 5 साथियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है उनपर आरोप है कि उन्होंने पंजाब हरियाणा के खनौरी बॉर्डर पर पुलिस पर हमला किया।

तीन साल पहले हुए किसान आंदोलन में करीब साढ़े सात सौ किसानों की मौत हुई थी अब इस आंदोलन में भी यह सिलसिला शुरू हो गया हैं पंजाब हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर एक बुजुर्ग किसान ज्ञानसिंह की हार्ट अटैक से मौत हो गई है वे गुरूदासपूर के चाचोकी गांव के रहने वाले थे और ज्ञान सिंह 11 फरवरी को किसान मजदूर संगठन के जत्थे के साथ शंभू बॉर्डर आए थे गांव के सरपंच जगदीश सिंह ने इसकी पुष्टि की है वही पंजाब के कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरहा ने भी X पर ज्ञान सिंह की जानकारी दी है। साथ ही लिखा है कि एक तरफ भाजपा सरकार मांगो को हल करने के लिए किसान नेताओं से बात कर रही है वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस किसानों पर अश्रु गैस के गोले दागने का काम कर रही है।

वहीं शंभू बॉर्डर पर जीआरपी के एक सब इंस्पेक्टर की भी जान चली गई है जिसकी पहचान हीरालाल मूल निवासी चुलकाना गांव पानीपत के रूप में हुई है बताया जाता है इनकी पोस्टिंग जीआरपी की सामलखा चौकी में थी लेकिन किसान आंदोलन के दौरान इनकी ड्यूटी अंबाला में लगाई गई है और शंभू बॉर्डर पर तैनाती के दौरान पुलिस के छोड़े जा रहे आंसू गैस के गोले के फटने के दौरान यह उसकी चपेट में आ गए और दम घुटने से इनकी मौत हो गई।

जबकि भाजपा नेता अनुराग ठाकुर ने आज कहा कि मुद्दों के हल के लिए हम आगे बढ़ रहे है मुझे आशा है अच्छे वातावरण में वार्ता होगी रविवार को किसानों से फिर से चर्चा होगी कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा का कहना है कि बातचीत से हर मसाले का समाधान होता है हमारी चर्चा जारी है किसानों के हित में हमने कई काम किए है जो संभव होगा हम करेंगे।

अभी तक किसान नेताओं और सरकार के बीच तीन दौर की बैठक हो चुकी है जिसमें सरकार की तरफ से तीन केंद्रीय मंत्री कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा केंद्रीय मंत्री मनीष गोयल, नित्यानंद राय और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान प्रमुख रुप से मोजूद रहे लेकिन कुछ मुद्दों पर सहमति बनी लेकिन किसानों के प्रमुख मांग एमएसपी की लीगल गारंटी स्वानीनाथन आयोग की रिपोर्ट के आधार पर सी टू प्लस 50 का फार्मूला और किसानों की कर्जमाफी जैसी मांगों पर सहमति नहीं बन सकी जिससे तीन दौर की यह बैठक एक तरह से असफल हो गई बताया जाता गई अब रविवार को फिर से चौथी बैठक होगी।

read more
खेलपंजाबमोहाली

पहला टी 20 ,भारत ने अफगानिस्तान को 6 विकेट से हराया, शिवम बने मेन ऑफ़ द मैच

Shivam Dube and Rinku

मोहाली/ भारत ने पहले टी 20 मैच में अफगानिस्तान को 6 विकेट से हरा दिया, इस तरह तीन मैचों की सीरीज में भारत एक शून्य से आगे हो गया हैं। अफगानिस्तान ने पहले खेलते हुए 5 विकेट पर 158 रन बनाएं थे भारत ने 4 विकेट खोकर 17.3 ओवर में 159 रन बनाकर लक्ष्य पूरा कर लिया। भारत के शिवम दुबे ने एक विकेट लेने के साथ अर्धशतक भी बनाया और वह मेन ऑफ द मैच रहे।

भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर फील्डिंग चुनी और अफगानिस्तान को बल्लेबाजी दी ओपनर रहमानतुल्लाह और इब्राहिम जादरान के बीच 50 रन की सांझेदारी हुई रहमानतुल्लाह 23 रन पर अक्षर की बॉल पर आउट हो गए जीतेश शर्मा ने विकेट के पीछे उनका कैच लिया उसके बाद लगातार 2 विकेट और गिरे पहले इब्राहिम जादरान ( 25 रन) को शिवम दुबे ने अपने पहले ओवर में रोहित के हाथों कैच कराया, उसके बाद रहमत शाह भी चलते बने और 57 रन पर अफगानिस्तान के 3 विकेट गिर गए लेकिन उसे बाद मोहम्मद नबी ने मोर्चा सम्हाला और उन्होंने अजमतुल्लाह ओमरजाई के चौथे विकेट के लिए 68 रन की पार्टनरशिप की लेकिन मुकेश कुमार ने एक ओवर में पहले अजमतुल्लाह 29 रन पर और उसके बाद नबी को 47 रन पर आउट कर 5 विकेट पर स्कोर 130 कर दिया बाद में नाबाद रहते हुए नबीबुल्लाह जादरान (19 रन ) और करीम जमत (9 रन) ने अफगानिस्तान का स्कोर 158 रन पर पहुंचा दिया।

भारत के तेज गैंदबाज मुकेश कुमार और अक्षर पटेल ने अफगानिस्तान के 2-2 विकेट लिए, जबकि 1 विकेट शिवम दुबे ने लिया।

भारत को जीत के लिए 159 रन बनाने का लक्ष्य मिला लेकिन भारत की शुरूआत खराब रही मिस अंडरस्टेंडिंग के चलते रोहित शर्मा पहले ओवर में ही रन आउट हो गए शुभमन गिल अपने छोर पर ही खड़े रहे और दोनों एक सिरे पर आ गए और विकेट कीपर रहमानुल्लाह ने गिल्लियां बिखेर दी। शून्य पर भारत एक विकेट खो चुका था। शुभमन गिल अच्छा खेल रहे थे लेकिन मुजीब उल रहमान की गुगली में फंस गए 2 चौके मारने के बाद वह आगे बडकर तेज शॉट मारने गए और विकेट कीपर ने उनको स्टम्प आउट कर दिया। भारत का स्कोर 28 रन दो विकेट हो गया उसके बाद तिलक वर्मा और शिवम दुबे के बीच 44 रन की सांझेदारी हुई तिलक (26 रन) को अजमतुल्लाह की बोल पर गुलबदीन ने कैच किया इसके बाद शिवम दुबे और जीतेश शर्मा के बीच 47 रन की सांझेदारी भारत को जीत के नजदीक लाई जीतेश को 31 रन के स्कोर पर मुजीब ने आउट किया। जीतेश के आउट होने पर भारत का स्कोर 4 विकेट पर 117 रन हो गया बाद में शिवम दुबे ने रिंकू सिंह के साथ भारत को 159 रन पर पहुंचाकर जीत हासिल कर ली शिवम दुबे 2 छक्को के साथ 60 रन पर और रिंकू सिंह 16 रन नाबाद रहे।

अफगानिस्तान के मुजीब उल रहमान ने दो और एक विकेट अजमरतुल्लाह ओमराजई ने लिया।

read more
अमृतसरदेशपंजाब

खब्बू स्पिनर बिशनसिंह बेदी नही रहे 77 साल की उम्र में निधन, उन्होंने कपड़े धोकर उगलियों को बनाया था मजबूत

Late Bishan Singh Bedi

अमृतसर/ भारतीय स्पिन चौकड़ी के प्रमुख बॉलर बिशनसिंह बेदी का सोमवार को निधन हो गया है बेदी भारत के दिग्गज स्पिन बॉलर और कप्तान रहे। उन्होंने बताया था कि उंगलियों को फ्लेग्जीबल बनाने और उन्हे मजबूती देने के लिए वह कपड़े धोते थे।

बिशनसिंह बेदी का जन्म 25 सितंबर 1946 में अमृतसर में हुआ था उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट केरियर का आगाज 1967 में 20 साल की उम्र में किया था और मंसूर अली खान पटौदी की कप्तानी में पहला टेस्ट मैच बेस्टइंडीज में बेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में खेला था और उसे जीता था। उन्होंने 20 टेस्ट मैच में भारत की कप्तानी की, बिशनसिंह बेदी के नेतृत्व में भारत ने न्यूजीलैंड से 2 – 0 से टेस्ट सीरीज जीती थी। एक साक्षात्कार में बिशन सिंह बेदी ने बताया था कि मेरी स्पिन बोलिंग में उगलियों की काफी अहमियत रही उन्हें फ्लेक्जीबल और मजबूत बनाने के लिए वह कपड़े धोते थे।

भारत में इस दौरान फास्ट बोलरो की कमी थी और पूरा दारोमदार स्पिन बोलर्स पर था और भारत की स्पिन चौकड़ी में बाएं हाथ के स्पिनर बिशनसिंह बेदी के साथ इरापल्ली प्रसन्ना चंद्रशेखर और वैंकटराघवन भारतीय क्रिकेट टीम का अहम हिस्सा थे। जहां तक भारतीय क्रिकेट में बिशनसिंह बेदी के योगदान का प्रश्न है बेदी 67 टेस्ट मैचों 656 रन देकर 266 विकेट लिए और उनका बेस्ट बोलिंग का रिकार्ड 98 रन देकर 7 विकेट का है जबकि उन्होंने केवल 10 वन डे मैच खेले जिसमें 7 विकेट हासिल किए उनका 44 रन पर उन्होंने 2 विकेट का बेस्ट परफोर्मेंस रहा। उन्होंने एक टेस्ट में आस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को खूब नचाया और 5 विकेट लिए। अपने फस्ट क्लास केरियर में बेदी ने 1560 विकेट लिए थे।

जहां तक बिशन बेदी के व्यक्तिगत जिंदगी का सबाल है उन्होंने आस्ट्रेलिया की नागरिक ग्लेनिथ से पहला विवाह किया था लेकिन बाद में उनका तलाक हो गया था उन्होंने अपने पहले बेटे का नाम सुनील गावस्कर के सरनेम के नाम पर गावस इंदर सिंह रखा था बेस्टइंडीज में खेली गई डेब्यू टेस्ट सीरीज में सुनील गावस्कर ने 774 रन बनाएं थे उनसे प्रभावित होकर उन्होंने अपने बेटे का नाम उनके सरनेम से जोड़ा था।

दिग्गज स्पिनर बिशनसिंह बेदी के निधन पर गृहमंत्री अमित शाह पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अकाली दल के नेता सुखवीर सिंह बादल कांग्रेस नेता मनीष तिवारी आप सांसद राघव चड्ढा और क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है और दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करने के साथ उनके परिवार को यह दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की हैं।

read more
चंडीगढ़दिल्ली

भारत ने कनाडा की वीजा सेवा सस्पेंड की, पंजाब में छापेमारी, भारतीय छात्रों लिए एडवाइजरी जारी, निज्जर की हत्या के बाद संबंध बिगड़े

Canada PM Trudeau and Modi

दिल्ली, चंडीगढ़/ भारत और कनाडा के बीच रिश्ते लगातार लगता है बिगड़ने जा रहे है इसका बड़ा कारण है खालिस्तानी आतंकी हरपाल सिंह निज्जर की हत्या और कनाडा के पीएम टूडो का हाल का बयान, जिसमें उन्होंने इसकी हत्या में भारत की एजेंसियों का हाथ बताया था। जबकि धमकी के बाद भारत ने कनाडा में रह रहे छात्रों की सुरक्षा के लिए एक एडवाइजरी जारी करने के साथ कनाडा की वीजा सेवा पर आज रोक लगाते हुए फिलहाल इसे सस्पेंड कर दिया है। इधर पंजाब सरकार ने अनेक जिलों में खालिस्तानी समर्थको और कनाडा से भारत में अपना गैंग चलाने वालों के खिलाफ बड़ी मुहिम चलाते हुए आज व्यापक पैमाने पर छापामारी की।

भारत और कनाडा के बीच रिश्ते बिगड़ने का बड़ा कारण है कनाडा के पीएम ट्रूडो का भारत के खिलाफ जहर उगलने वाले खालिस्तानियों का यह कहकर बचाव करना कि यह उनकी स्वतंत्रता में दखल होगा लेकिन जी 20 की बैठक के दौरान कनाडा के पीएम ट्रुडो ने पीएम नरेंद्र मोदी से इस बारे में चर्चा की थी लेकिन अब भारत ने कनाडा में रहने वाले खालिस्तानी और उनके समर्थक गैंगो पर नकेल कसने के साथ भारतीय उच्चायोग ने एक बड़ी कार्यवाही भी की है अब कनाडा आने जाने वालों के खिलाफ बड़ा कदम उठाते हुए अगले आदेश तक अपनी वीजा सेवा को ही सस्पेंड कर दिया है। इस तरह कनाडा से आने वालों की अब भारत में नो एंट्री हो गई है।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरंदिम बागची ने प्रेस कान्फ्रेस में एक एक मुद्दे पर विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि कनाडा के आरोप राजनीति से प्रेरित है हमें पता है कि पाकिस्तान आतंकवाद का मददगार है जबकि कनाडा आतंकियों को संरक्षण देने के साथ उन्हें नापाक मंसूबे पूरे करने के लिए अपने यहां जगह देता है यदि भारत निज्जर की हत्या मामले में दोषी है तो वह इसके सबूत दे जबकि हमने बताया लेकिन कनाडाई सरकार ने कोई एक्शन नहीं लिया, हमने कहा डिप्लोमेट्स की तादाद दोनों देशों में बराबर होना चाहिए यह वियना कनवेक्शन के तहत जरूरी है। उन्होंने कहा जी 20 की बैठक के दौरान पीएम ट्रुडो ने पीएम नरेंद्र मोदी के सामने हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का मामला रखा था लेकिन भारतीय प्रधानमंत्री ने उसे सिरे से खारिज कर दिया था। भारत ने कनाडा को बता दिया है कि भारत के भगोड़े अपराधियों को कानूनी प्रक्रिया के तहत भारत लाया जायेगा और इंटरनेशनल लॉ के तहत यह मेंडेटरी है। उन्होंने बताया कि करीब 20 लोग ऐसे है जिनके बारे में हमने कनाडा सरकार को सबूत दिए है और उन्हे भारत को सौंपने को कहा है यह संख्या 25 भी हो सकती है। हमने ई-वीजा की प्रोसेस पूरी तरह से बंद कर दी है जबकि वीजा धारकों की सुरक्षा की बात है तो भारतीय नागरिकों की सुरक्षा की जिम्नदारी कनाडा सरकार की है। वही भारत सरकार ने सुरक्षा और सतर्कता के मद्देनजर एक एडवाइजरी भी जारी की है।

भारत की चिंता का कारण है कि बुद्धवार को खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने धमकी दी थी कि कनाडा में जो भारतीय नागरिक इस समय रह रहे है वे तुरंत देश छोड़ दे इसको लेकर भारतीय लोगों ने पीएम ट्रुडो को चिट्ठी लिखकर इसे हेट क्राइम का मानक मानते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग उनसे की है।

पिछले दिनों खालिस्तानी समर्थक हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कर दी गई थी जिसको लेकर भारतीय एजेंसियों पर आरोप लग रहै थे लेकिन बुद्धवार को कनाडा में सुखदिल सिंह नामक एक ए केटेगिरी के गैंग के सदस्य की हत्या हो जाती है यह बदमाश पंजाब के मोगा का रहने वाला था जो कमरिया गैंग से जुड़ा था जबकि गोल्डी बरार और कमरिया गैंग में ठनी हुई है।

एक तरफ एनआईए खालिस्तानी और उनके समर्थकों के खिलाफ पंजाब सहित राजस्थान यूपी और हरियाणा में अभियान चला रहा है साथ ही उनकी बेनामी संपत्ति का पता लगा रहा है वहीं आज से पंजाब सरकार ने भी सभी जिलों में करीब 5 हजार पुलिस कर्मी लगाकर छापेमारी शुरु कर दी है जिसके तहत वह गोल्डी बरार उसके गैंग के सदस्यों के साथ अन्य टेरर गैंगों पर शिकंजा कसने की फिराक में है और आज अनेक जिलों में करीब एक हजार स्थानों पर छापेमारी की गई जैसा कि गोल्डी बरार सिद्धू मूसवाला हत्याकांड का मुख्य आरोपी है और कनाडा में रहकर भारत में अपने गैंग को कंट्रोल कर अपना नेटवर्क चलाता है।

read more
देशपंजाबलुधियाना

पंजाब के लुधियाना के औद्योगिक इलाके में जहरीली गैस का रिसाव, 2 बच्चों सहित 11 की मौत, रेस्क्यू जारी

Poison Gas

लुधियाना/ लुधियाना के औद्योगिक क्षेत्र ग्यासपुरा में आज सुबह अचानक जहरीली गैस रिसने से दो बच्चों सहित 11 लोगो की मौत हो गई जबकि 12 लोग बेहोश मिले है इलाके को सील करने के बाद स्थानीय प्रशासन और एनडीआरएफ की टीमें सर्च कर रही है संदेह है कि इस गैस की चपेट में और लोग भी आए हो सकते हैं। लेकिन फिलहाल यह पता नहीं चल सका है कि जहरीली गैस कोन सी हैं और इसका स्रोत कहा से हैं।

प्रशासन के मुताबिक लुधियाना के ग्यासपुरा औद्योगिक क्षेत्र के सुआ रोड स्थित एक इमारत में दूध डेयरी है आज सुबह सबा सात बजे जब कुछ लोग वहां दूध लेने गए तो एक के बाद एक बेहोश होते गए,बताया जाता है इस इमारत के ऊपरी भाग में भी लोग रहते है और इस बिल्डिंग पर गोयल कोल्ड ड्रिंस का बोर्ड भी लगा हैं। अभी तक इस जहरीली गैस की चपेट में आकर 5 महिला 4 पुरुष और 10 और 13 साल के दो बच्चों की मौत हो चुकी है लुधियाना की एसडीएम स्वाति सिंह के मुताबिक अभी तक 12 लोग बेहोश मिले है जिन्हें तुरंत अस्पताल रवाना कर दिया गया है।

घटना की खबर मिलते ही पुलिस मेडिकल,फायर ब्रिगेड और एनडीआरएफ की टीमें मौके पर पहुंच गई और घटना की गंभीरता को देखते हुए इमारत और उसके आसपास के इलाके को सील कर दिया गया है बताया जाता है घटनास्थल के 300 मीटर के दायरे में जो घर और ढाबे है वहां भी इस जहरीली गैस का असर हुआ है और लोग बेहोशी की हालत में मिले हैं प्रशासन अब ड्रोन की मदद से पूरे प्रभावित क्षेत्र का सर्च अभियान शुरू कर दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक ग्यासपुरा के जिस सुआ रोड की जिस इमारत में गैस रिसने की जानकारी मिली है उसमे ऊपर के हिस्से में भी लोगों के रहते है उनके बेहोश होने की भी आशंका जताई जा रही है इसलिए रेस्क्यू टीम स्पेशल ड्रेस और मास्क लगाकर उसके नजदीक जाने की कोशिश कर रही हैं।

फिलहाल यह पता नही चला है कि जिस गैस का रिसाब हुआ वह जहरीली गैस कोनसी है जबकि इस गैस की गंध सीवरेज जैसी है इसकी जांच के लिए मशीनें और तकनीक जानकारों को बुलाया गया है पुलिस कमिश्नर मनदीप सिद्धू के मुताबिक सीवरेज गैस में मिले तेजाब की बजह से ऐसा हो सकता है उसमें किसी घातक केमिकल के मिले होने से गैस जहरीली हो सकती है लेकिन जांच के बाद ही इसकी पुष्टि हो सकती हैं।

read more
पंजाबमोहाली

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल का निधन, मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में ली अंतिम सांस, अंतिम संस्कार कल

Prakash Singh Badal

मोहाली/ पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री एवं शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल अब नहीं रहे 95 साल की उम्र में उनका निधन हो गया बताया जाता है पिछले दिनों से वे बीमार थे और सांस लेने में दिक्कत के चलते उन्हें मंगलवार को मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान मंगलवार को रात 8 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। जानकारी के मुताबिक उनका अंतिम संस्कार पंजाब के मुक्तसर के बादल गांव में गुरुवार को होगा। उनके निधन पर केंद्र सरकार ने दो दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की हैं।

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख प्रकाश सिंह बादल की राजनेतिक पारी की शुरूआत 1947 में हुई थी जब वे 20 साल की छोटी उम्र में सरपंच बने उसके बाद राजनीति और जनसेवा से आपने आजतक मुंह नही मोड़ा वे 1957 में शिरोमणि अकाली दल से चुनाव लडा और पहली बार विधायक बने और 10 बार विधायक का चुनाव जीते 43 साल की उम्र में पंजाब के पहली बार मुख्यमंत्री बने और 2012 में 84 साल की उम्र में सबसे बुजुर्ग सीएम बने इस तरह वे 1970 और 2017 के बीच 5 बार पंजाब के सीएम रहे जबकि 7 दशक तक वह पंजाब की राजनीति के जरिए राष्ट्रीय राजनीति के केंद्र में रहे जबकि 1977 में मुरारजी देसाई की सरकार में उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री की जिम्मेदारी सम्हाली।

प्रकाश सिंह बादल वह नेता रहे जिन्होंने इमरजेंसी के दौरान 18 महिने जेल में बिताए यहां तक वे अपनी इकलोती बेटी की शादी में भी शरीक नहीं हुए चाहते तो उन्हें पेरोल मिल सकती थी ऐसे जननेता थे बादल जो खुद को पार्टी का एक सच्चा सिपाही बताते थे इतना ही नहीं पंजाब के जनमुद्दों को लेकर वह करीब 16 साल जेल में रहे। इसी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में उन्हें भारत का नेल्सन मंडेला बताया था। साथ ही 2019 के लोकसभा चुनाव में पर्चा दाखिल करने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें चरण छूकर आशीर्वाद भी लिया था।श्री बादल को केंद्र सरकार ने 2015 में पद्म विभूषण सम्मान से नवाजा था लेकिन किसान आंदोलन के समर्थन में उसे उन्होंने लौटा दिया था।

पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बाद के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा वे भारतीय राजनीति की महान हस्ती थे उन्होंने हमारे देश के लिए बहुत योगदान दिया रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है जबकि लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने उन्हें शोक श्रृद्धांजलि देते हुए कहा कि उनके निधन से राजनीति के एक युग का अंत हों गया।

read more
देशपंजाब

मोगा के गुरुद्वारे से खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल गिरफ्तार, समर्थकों की मौजूदगी में सरेंडर का प्लान, पंजाब पुलिस ने किया फेल, NSA के तहत कार्यवाही

मोगा/ पंजाब पुलिस ने 36 दिन से फरार खालिस्तानी समर्थक और वारिश द पंजाब के प्रमुख अमृतपाल सिंह को मोगा के रोडे गांव स्थित गुरुद्वारे से रविवार सुबह तड़के गिरफ्तार कर लिया है। बताया जाता है, अमृतपाल समर्थकों के साथ शक्ति प्रदर्शन कर सिरेंडर करने की फिराक में था, लेकिन पंजाब पुलिस ने इसे पहले ही गिरफ्तार कर उसका यह प्लान फेल कर दिया बाद में पंजाब पुलिस उसे लेकर असम की डिब्रू गढ़ जेल लेकर रवाना हो गई। पुलिस ने अमृतपाल के खिलाफ एनएसए के तहत कार्यवाही को अंजाम दिया।

भगोड़ा अमृतपाल सिंह मोगा के रोडे गांव के गुरुद्वारे में प्रवचन देने के लिए शनिवार की रात को आया था और अपने समर्थकों की भीड़ के साथ पुलिस के सामने आत्मसमर्पण करने की फिराक में था जिसके चलते उसके करीबियों ने पंजाब पुलिस से संपर्क किया लेकिन पंजाब पुलिस पहले से ही उसकी घेराबंदी के दौरान उसके गुरुद्वारे में होने का इनपुट मिला था पुलिस जानती थी कि उसका क्या प्लान है और इस दौरान माहौल बिगड़ने की पूरी संभावना थी पुलिस ने गोपनीय तरीके से अपने बनाएं प्लान को अमली जामा पहनाया और रविवार की सुबह तड़के अमृतसर के एसएसपी सतिंदर सिंह और आईजी इंटेलीजेंस के नेतृत्व में पुलिस टीम ने रोडे गांव के गुरुद्वारे पर अचानक दबिश दी और अमृतपाल को गिरफ्तार कर लिया।

जैसा कि अमृतपाल सिंह पिछले 36 दिन से फरार था और पुलिस से बचता घूम रहा था गत 23 फरवरी को पंजाब के अजनाला पुलिस थाने पर उसने अपने सैकड़ों खालिस्तानी समर्थको के साथ हमला बोला था और एक समर्थक को पुलिस कस्टडी से छुड़ाकर ले गया था पुलिस ने इसके बाद उसके खिलाफ मामला कायम किया था और अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए वह फरार हो गया और उसके पीछे लगी पुलिस जब पहुंचती वह आपने लोगों की मदद से गायब हो जाता और आगे निकल जाता था।

इस बीच 20 अप्रेल को अमृतपाल की एनआरआई पत्नी किरणदीप कोर को अमृतसर एयरपोर्ट पर इमिग्रेशन अधिकारियों ने रोक लिया था बताया जाता है वह लंदन जा रही थी, बाद में श्रीरामदास जी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर किरणदीप से करीब दो घंटे पूछताछ की गई, बाद में उसे उसके घर छोड़ दिया गया था।

इस दौरान अमृतपाल ने कहा कि यह मेरी गिरफ्तारी अंत नहीं शुरूआत है यह जरनेल सिंह भिंडरावाले का जन्म स्थल है उसी जगह से हम अपने उद्देश्य के साथ जुड़कर आगे बढ़ रहे है इस समय हम अहम मोड़ पर खड़े है एक महीने से जो हुआ वह सभी ने देखा है यदि गिरफ्तारी की बात होती तो उसके कई तरीके थे हम सहयोग करते हम दुनिया की कचहरी में दोषी हो सकते है सच्चे वाहे गुरु की कचहरी में नहीं इस धरती पर अभी तक लड़े आगे भी लड़ते रहेंगे और जो झूठे केस है उनका सामना करेंगे गिरफ्तारी अंत नहीं शुरूआत है।

पंजाब पुलिस के मोगा आईजी सुखचैन सिंह ने प्रेस कान्फ्रेस में कहा कि अमृतलाल ने सरेंडर नहीं किया बल्कि उसे पुलिस की कड़ी नाकेबंदी के बाद गिरफ्तार किया गया है इसकी गिरफ्तारी में पंजाब पुलिस और इंटेलिजेंस का कोर्डीनेशन काम आया और उनके ज्वाइंट ऑपरेशन में उसकी गुरुद्वारे के बाहर गिरफ्तारी की गई है। आईजी ने कहा इसके खिलाफ एनएसए के तहत कार्यवाही की गई है बताया जाता है पंजाब पुलिस बठिंडा में मेडीकल कराने के बाद अमृतपाल को सुरक्षा के बीच एयरलिफ्ट कर असम की डिब्रूगढ़ जेल ले जा रही है। बताया जाता है डिब्रूगढ़ जेल में अमृतपाल के एक खास सहयोगी सहित 9 समर्थक पहले से ही बंद हैं।

read more
चंडीगढ़देशपंजाब

4 दिन बाद भी अमृतपाल पुलिस की गिरफ्त से बाहर, हाईकोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार, CCTV फुटेज में भेष बदलकर मोटर साइकिल से फरार होता दिखा अमृतपाल

चंडीगढ़, जालंधर / खालिस्तान समर्थक और इसके नाम से लोगों को बरगलाकर देश के खिलाफ एकजुट करने वाला अमृतपाल सिंह 4 दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है जबकि पूरी पंजाब पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया हैं वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हे पुलिस ने सुरक्षा के व्यापक प्रबंध के साथ उसके चाचा, फायनेंसर और ड्राईवर सहित 116 खालिस्तानी समर्थक और सहयोगियों को गिरफ्तार किया है साथ ही उसके संगठन “वारिश पंजाब द” के नशा मुक्ति केंद्रों से हथियारों का जखीरा भी बरामद किया हैं। पुलिस के मुताबिक उसकी घेराबंदी के लिए बॉर्डर्स पर पुलिस के साथ बीएसएफ को तैनात किया गया है।

पुलिस का दावा है कि अमृतपाल प्राईवेट आर्मी, आनंदपुर खालसा फोर्स (एकेएफ) भी बना रहा था अमृतपाल सिंह की संस्था “बारिश पंजाब दे” के नशा मुक्ति केंद्रों पर रेड में 12 बोर की राइफले अन्य हथियारों सहित कारतूस बरामद किए है जब्त किए हथियारों पर एकेएफ का निशान बना था हाल में उसने दिल्ली से 33 बुलेट प्रूफ जोकेट भी खरीदी थी पुलिस का कहना है उसके इरादे नेक नहीं थे,चंडीगढ़ के डीसी विनयप्रताप सिंह के मुताबिक पंजाब में हाई अलर्ट के साथ शहर में धारा 144 लगा दी गई है साथ ही इंटरनेट और एमएसएस बंद है और धरना प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है उन्होंने बताया चंडीगढ़ मोहाली सहित 9 सीमाओं पर पुलिस के साथ बीएसएफ की टुकड़ी भी तैनात की गई है उनके के मुताबिक पुलिस ने अमृतलाल के कथित सलाहकार और फायनेंसर दलजीत सिंह कलसी उर्फ सरबजीत सिंह को गुरुग्राम से गिरफ्तार कर लिया साथ ही अमृतपाल के चाचा और ड्राइवर की भी गिरफ्तारी हो चुकी है इस तरह अभी तक पुलिस ने 116 खालिस्तानी समर्थक और अमृतपाल के सहयोगियों को गिरफ्तार लिया है। पुलिस ने अमृतापाल सिंह पर अभी तक एनएसए सहित 4 एफआईआर दर्ज की है। साथ ही उसके 4 खास साथियों को पुलिस ने असम की डिब्रूगढ़ की जेल भेजा है।

बताया जाता है अमृतपाल सिंह अब पुलिस बचकर से भागता फिर रहा है जालंधर से वह पहले मर्सडीज कार से भागकर शाहकोट पहुंचता है और वहां से गाड़ी बदलकर ब्रेजा कार में सबार होकर एक अंदरूनी गांव के अंदर के रास्ते पर पहुंचता है इस दौरान कार में यह पीछे बैठता है और उसके साथ उसके चाचा सहित 3 अन्य लोग भी थे ब्रेजा कार में कपड़े बदलता है धार्मिक चोला उतार कर डार्क पेंट शर्ट पहनता है नीली पगड़ी उतार कर गुलाबी रंग की पगड़ी पहनता है और अपनी लंबी दाढ़ी को भी चेहरे पर चिपका कर छोटी कर लेता है साथ ही शरीर एक डार्क शॉल से ढक लेता है जिससे पुलिस उसे इस बदली हुई हुलिया में पहचान नहीं पाएं जिस ब्रेजा कार से यह गांव पहुंचा वहां उसके चार सहयोगी बुलेट और लोकूना मोटरसाइकिल लिए मिले और वह कार से उतारकर एक मोटरसाइकिल पर बिठाकर गांव की लिंक रोड से भगा ले गए एक मोटर साइकिल पर तीन दूसरी पर एक साथी के साथ अमृतपाल चश्मा लगाकर बैठकर फरार होते देखा गया। नेशनल चैनल एनडीटीवी को यह सीसीटीवी फुटेज हाथ लगे है जो तस्वीर सामने आई है वह शनिवार 18 मार्च की बताई जाती है जिसमें अमृतापाल सिंह एक के बाद एक गाड़ियां बदलता हुआ मोटर साइकिल से फरार हो गया।

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में अमृतापाल केस की सुनवाई के दौरान अदालत ने पंजाब पुलिस को कड़ी फटकार लगाई है अदालत ने कहा कि 80 हजार पुलिस कर्मी होने के बावजूद अमृतापाल सिंह वह कैसे फरार हो गया और उसे पुलिस की कहानी पर भरोसा नहीं है क्योंकि इतनी ज्यादा पुलिस बल होते हुए वह कैसे भाग गया।

पुलिस ने अमृतपाल सिंह के 5 खास और भरोसेमंद लोगों पर एनएसए लगाया है इनमें उसका फायनेंसर दलजीत सिंह, चाचा हरजीत सिंह, गुरमीत सिंह, भगवंत सिंह और पीएम बजोक शामिल हैं।

खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल केस में अब NIA की एंट्री हो गई हैं उसके पास इसके खास और खालिस्तानी समर्थकों की पूरी लिस्ट है जिनकी जांच एनआईए की 8 टीमें कर रही है जो इसका ISI लिंक और उनसे रिश्ते का भी पता चला रही है एनआईए ने 458 करीबियों की अभी तक पहचान की है और उन्हे A,B,C तीन केटेगिरी में बांटा है A केटेगिरी में 142 लोग है B केटेगिरी में 231 लोग है जबकि बाकी 85 लोग C केटेगिरी में शामिल है।

NIA टीम की लगातार छापेमारी चल रही है जो फिलहाल पंजाब के अमृतसर तरन तारन, जालंधर और गुरूदासपुर में रेड मार रही है साथ ही एनआईए विदेशी फंडिंग की भी जांच कर रही है और यूनाइटेड स्टेट इंग्लैंड जर्मनी आस्ट्रेलिया इटली सहित अन्य देशों से आनंदपुर खालसा फोर्स (AKF) के संबंध और उसको दी फंडिंग का पता लगा रही है। इसके अलावा उन फायनेंस कंपनियों की पहचान एनआईए कर रही है जिससे इसको करोड़ों का ट्रांजेक्शन हुआ है साथ ही 2 हवाला कारोबारियों का भी पता चला है साथ ही इसके संगठन से जुड़े समर्थकों की 9 राज्यों में खोजबीन की जा रही है इसके लिए एनआईए की 28 टीमें कार्यरत हैं।

read more
error: Content is protected !!