close
दिल्लीदेश

राज्यसभा में हंगामा करने वाले 8 सांसद निलम्बित

Sansad Bhavan
  • राज्यसभा में हंगामा करने वाले 8 सांसद निलम्बित…

  • विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव खारिज ..

  • लोकतंत्र के लिये शर्मनाक…कहा सभापति ने

नई दिल्ली – राजसभा में आज कार्यवाही के दौरान सभापति वैंकेया नायडू ने कहा कि रविवार को राज्यसभा में सांसदों ने जो हंगामा किया यह बेहद शर्मनाक एवं निदंनीय है यह लोकतंत्र के इतिहास का काला दिन था। उन्होंने साफ कहा कुछ सदस्यों ने सदन की गरिमा को गिराया बल्कि कोरोना नियमों का भी उल्लंघन हुआ जो गलत होने के साथ गंभीर बात भी है।

रविवार को भारी हंगामे के बीच केंद्र के नये दो कृषि बिल ध्वनिमत से पास कर दिये गये थे बाकी एक बिल सोमवार को पेश होगा कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के उदबोधन के बाद जब बिल पास करने की प्रक्रिया शुरू हुई तभी वेल में आकर सदस्य हंगामा करने लगे और प्रक्रिया के दौरान विपक्ष मत विभाजन की मांग करने लगा इसके लिये उपसभापति तैयार नही हुए तो टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन ने उपाभापति की आसंदी के पास आकर नियमावली फाड़ दी और माइक तोड़ने का प्रायास किया जबकि आप सांसद संजय सिंह टेबल पर चढ़कर नारेबाजी करने लगे इस बीच मार्शल बुलाने पड़े और सदन 15 मिनट के लिये स्थगित करना पड़ा था।

आज राज्यसभा की कार्यवाही सभापति वैंकेया नायडू की अध्यक्षता में प्रारंभ हुई और कल धमाचौकड़ी मचाने वाले 8 सांसदों को सदन से एक सप्ताह के लिये निलंबित किये जाने की घोषणा की गई निलंबित सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, राजीव साटव, निपुन बोरा, केके रागेश, नजीर हुसैन, डोला सेन और ए करीम शामिल है।

बीते दिन दो कृषि बिल पास होने के बाद विपक्ष की 12 पार्टियों ने उपसभापति हरवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया था और कहा था कि सांसदों के लोकतांत्रिक मूल्यों की इस दौरान उपेक्षा हुई हैं लेकिन सभापति ने आज विपक्ष की यह आपत्ति रूल 226 के कंडक्ट के तहत खारिज कर दी और उसमें कहा कि सदन में सदस्यों का व्यवहार ठीक नही था वो कुछ सुनने और कहने के लिये तैयार ही नही थे उल्टा उन्होंने उपसभापति हरवंश से दुर्व्यवहार किया।

Leave a Response

error: Content is protected !!