close
मध्य प्रदेशविदिशा

और नही बच सका 7 साल का मासूम लोकेश, मंगलवार को गिरा था बोरवेल में, 24 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद आया था बाहर

7 year boy died fallen borewell hole
7 year boy died fallen borewell hole

विदिशा / मप्र के विदिशा जिले के गांव खेरखेड़ी में मंगलवार को 60 फूट गहरे बोरवेल में गिरे 7 साल के मासूम लोकेश अहिरवार की जान नही बच सकी काफी मशक्कत के बाद जब उसे बोरवेल से बाहर निकाला गया तब उसकी मौत हो चुकी थी। कलेक्टर ने जांच कर जिले के खुले हुए सभी बोरवेल्स को। एक सप्ताह में ढकने के आदेश दिए जबकि मुख्यमंत्री ने इस पर दुख प्रकट करते हुए परिवार को 4 लाख की आर्थिक मदद की घोषणा की हैं।

विदिशा जिले की लटेरी तहसील में आता है गांव खेराखेड़ी, कल मंगलवार को सुबह इसका परिवार इस खेत में मजदूरी करने आया था 11 बजे करीब बंदरों को भगाने के दौरान 7 साल का लोकेश इस 60 फूट गहरे बोरवेल में गिर गया और करीब 43 फीट पर जाकर फंस गया।

इसकी सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन सक्रिय हुआ और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ जेसीबी के बाद दो पोकलेंन मशीनों की मदद से NDRF ने ऑपरेशन शुरू किया आज सुबह 8 बजे तक अंतिम 50 फीट गहरा गड्ढा करके बराबरी की गहराई पर टीम पहुंची और 5 फीट की टनल बनाकर बच्चे को बोरवेल से बाहर निकाला गया। प्रशासन ने तुरंत वहां मोजूद चाइल्ड स्पेशलिस्ट और मेडिकल स्टॉफ को गड्डे के पास बुलाया और बच्चे को उन्हे सौंपा मेडिकल टीम एंबुलेंस से तुरंत उसे लेकर अस्पताल रवाना हो गई। इस समय कलेक्टर उमाशंकर भार्गव लटेरी एसडीएम हर्षल चौधरी और एएसपी समीर यादव मौके पर मोजूद थे।

जैसा कि घटना के 24 घंटे बाद लोकेश वोरवेल से बाहर आया मेडिकल टीम उसे लेकर लटेरी के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र लेकर पहुंची और उसे सीधा आईसीयू में ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों की टीम ने चेकअप के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। और पोस्टमार्टम के बाद उसके शव को उसके परिजनों को सौप दिया गया।

जैसा कि घटना के 24 घंटे बाद लोकेश वोरवेल से बाहर आया मेडिकल टीम उसे लेकर लटेरी के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र लेकर पहुंची और उसे सीधा आईसीयू में ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों की टीम ने चेकअप के बाद उसे मृत घोषित कर दिया, चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे की मौत 12 घंटे पहले ही हो गई थी,बाद में पोस्टमार्टम के बाद उसके शव को उसके परिजनों को सौप दिया गया जिन्होंने उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

जबकि प्रशासन के अधिकारी घटना स्थल पर बच्चे के मूवमेंट की बात करते रहे थे। कलेक्टर ने इस घटना के बाद आदेश जारी किया है कि जिले में जितने भी वोरावेल है उन्हें एक सप्ताह के अंदर ढकने की व्यवस्था की जाएं।

राहुल की दादी ऊषाबाई का कहना है हम सुबह खेत में मजदूरी का काम करने गए थे इस बीच अचानक मेढ़ पर बंदर आ गए मेरा नाती उन्हे भगाने दौड़ा और खेत में बने वोरवेल में गिर गया।

इधर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर इस घटना पर कहा कि विदिशा जिले की लटेरी तहसील के खेराखेडी गांव में 7 साल के बच्चे राहुल की मौत दुखद घटना है मेने प्रशासन को आवश्यक निर्देश दिए है जल्द परिवार को उचित मुआवजा दिया जायेंगा।

Alkendra Sahay

The author Alkendra Sahay

A Senior Reporter

Leave a Response

error: Content is protected !!