close

दिल्ली

दिल्लीदेश

सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया केस की पुन: सुनवाई से किया इंकार, फ़ैसले को लेकर बीजेपी कांग्रेस आमने सामने

Supreme-Court
  • सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया केस की पुन: सुनवाई से किया इंकार
  • फ़ैसले को लेकर बीजेपी कांग्रेस आमने सामने…
  • बीजेपी ने कहा इसके पीछे राहुल की साजिश

नई दिल्ली / सुप्रीम कोर्ट ने आज जज लोया मामले में दायर पुर्न विचार याचिका को खारिज करते हुए जाँच से इंकार कर दिया, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जज लोया की मौत स्वाभाविक थी और पहले ही सारे तथ्य साफ़ हो चुके है फ़िर से सुनवाई की अब कोई बजह नही है,एससी ने कड़ी टिप्पड़ी करते हुए यह भी कहा कि पुर्न विचार याचिका सीधा न्यायपालिका पर हमला है और राजनीतिक एजेंडा चलाने के लिये इसे दायर किया गया हैं।लेकिन सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने सामने आ गये हैं।

बीजेपी का पक्ष रखते हुए केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर खुलकर हमला बोला। प्रेस कांन्फ़्रेस में उन्होंने कहा कि अप्रत्यक्ष रूप से याचिका लगाने में राहुल गांधी का हाथ है और ये हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी को बदनाम करने की साजिश है। प्रसाद ने आरोप लगाया कि इस केस के जजो के खिलाफ कांग्रेस ने गलत बयानी कर सुप्रीम कोर्ट को भी नही छोड़ा जो गलत है।

इधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यह मायूस करने वाला फ़ैसला है किसी ने जज लोया की मौत पर शंका जताई है तो उसकी शंका का समाधान क्या नही होना चाहिये,उन्होने कहा कि ऐसा करके जज लोया की मौत पर सबाल बरकरार रहेंगे जो भी ठीक नही है।

इधर याचिका कर्ता तहसीन पूनावाला ने केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के प्रेस कांन्फ़्रेस के दौरान फ़ैसले की मूल प्रति दिखाने पर सबाल खड़े किये है उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की साइट हेक होने से धीमी हो गई है फ़िर उनके पास यह फ़ैसले की प्रति कहा से आ गई? जबकि याचिका कर्ता होने के नाते हमें पहले मिलना चाहिये हमें अभी तक नही मिली।

read more
उत्तर प्रदेशदिल्लीदेश

दलित मुद्दे पर बीजेपी को उनके सांसद उदित राज ने भी घेरा, कहा दलितों को पुलिस पीटने के साथ फ़र्जी मुकदमे लाद रही है

mayavati
  • दलित मुद्दे पर बीजेपी को उनके सांसद उदित राज ने भी घेरा,
  • कहा दलितों को पुलिस पीटने के साथ फ़र्जी मुकदमे लाद रही है
  • दलितो पर अत्याचार देश में इमरजेंसी से बदतर हालात कहा मायावती ने…
  • योगी, अम्बेडकर की मूर्ति तोड़ने वालों के खिलाफ़ सख्त…

नई दिल्ली – लखनऊ / एससीएसटी एक्ट और दलित उत्पीड़न मामले में बीजेपी खुद अब अपनों के निशाने पर आ गयी है चार सांसदो के बाद अब बीजेपी सांसद उदित राज ने भी इस मामले में नाराजी जताते हुए प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी है। वही बीएसपी प्रमुख मायावती ने भी आज मोदी सरकार और बीजेपी पर हमला बोला और कहा कि बीजेपी का दलित और अम्बेड्कर प्रेम केवल दिखावा है आज देश में इमरजेंसी से भी बदतर हालात है।

एससीएसटी एक्ट में बदलाव और दलितों की हालत और उनके आंदोलन को लेकर पहले बीजेपी के चार सांसदों अशोक दौहरे, सावित्री कुमारी फ़ुले, यशवंत सिंह और छोटेलाल सखवार ने सबाल उठाये थे जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उन्होंने चिन्ता भी जाहिर की तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यविधि पर भी सबाल उठाये थे,लेकिन अब इस मुद्दे पर उनके एक और सांसद उदित राज ने भी अपनी नाराजी प्रकट की है उन्होंने कहा कि 2 अप्रेल के दलित आंदोलन और भारत बंद के बाद तीन अप्रेल से लगातार दलित समाज के कर्मचारी और अन्य लोगों को परेशान किया जा रहा हैं, और वे पुलिस के कहर और अत्याचार के शिकार हो रहे है पुलिस पकड़ कर उन्हें थाने ला रही हैं और पीट रही है उदित राज ने कहा कि दलितों पर फ़र्जी मामले भी दर्ज किये जा रहे हैं।

इधर बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा हैं कि आज देश में दलितों पर अत्याचार हो रहा है देश और उत्तर प्रदेश में डाँ बाबासाहेब अम्बेड्कर की मूर्तिया तोडी जा रही है मायावती ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि बीजेपी का दलितों के प्रति सहानुभूति और बाबा साहेब अम्बेड्कर के प्रति प्रेम दिखावा है क्योंकि आज देश के हालात इमरजेंसी से भी बदतर हो जाने से दलित समाज के लोगो की हालत अत्याधिक खराब है। मायावती ने कहा कि आज बीजेपी के जो सांसद दलित अत्याचार के विरोध में आवाज उठा रहे हैं यह उनका केवल दिखावा है मायावती के मुताबिक उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर दलित समाज पर लगे सभी फ़र्जी मुकदमे बापस लिये जायेंगे और जिन अधिकारियों का हाथ है उन्हें भी बख्शा नही जायेगा।

उत्तर प्रदेश के बीजेपी सांसदो की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से नाराजगी के चलते आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें तलब किया और मोदी और योगी के बीच मुलाकात में इस पर चर्चा हुई।इसके बाद मुख्यमंत्री योगी ने तत्काल एक्शन लेते हुए सभी एस. पी. और एएसपी के नाम एक सर्क्यूलर जारी किया और डाँ अम्बेड्कर की मूर्तियाँ तोड़ने वालों के खिलाफ सख्ती से निपटने की हिदायत दी।

इधर डां अम्बेड्कर के पोते आनंद राज ने बीजेपी को घेरते हुए कहा है कि दलित और अम्बेड्कर का अपमान करने वालों के खिलाफ संसद में किसी भी सांसद और राजनीतिक पार्टी ने आवाज क्यों नही उठाई आज उनके बारे में कहकर केवल वे अपनी राजनीतिक रोटिया सेक रहे है, उन्होंने कहा है कि इनके दिखाने के दाँत अलग और खाने के दाँत अलग है इससे यह बात साबित होती हैं।

read more
दिल्लीदेश

सीबीएसई पेपर लीक मामला, कक्षा 10 गणित का पेपर दोबारा नही होगा

CBSE
  • सीबीएसई पेपर लीक मामला, कक्षा 10 गणित का पेपर दोबारा नही होगा
  • तीनो आरोपियों की दो दिन बड़ी रिमांड, एसएससी पेपर लीक के चार और आरोपी पकड़े

नई दिल्ली / बच्चों को राहत देने वाली खबर है कि सीबीएसई की कक्षा 10 वीं गणित का पेपर अब नही होगा शिक्षा सचिव ने यह जानकारी दी है ।गणित के इस पेपर के आउट होने के बाद इसे दोबारा कराने का निर्णय पहले लिया गया था। जबकि 12 वीं कक्षा का इकोनोमिक्स का पेपर लीक करने के तीनों दोषियों को कोर्ट ने दो दिन की रिमांड पर क्राइम ब्रांच पुलिस को सौप दिया है।क्राइम ब्रांच ने कोर्ट के सामने दलील दी कि इनके खिलाफ़ पुख्ता सबूत इकट्ठा करने के लिये इन तीनो आरोपी रोहित ऋषभ और तौकीद तीनो को दो दिन की रिमांड दे जिससे वह बवाना स्थित कोचिंग के संचालक और अन्य टीचर्स से आमने सामने पूछताछ कर सके।

इधर एसएससी पेपर लीक धांधली मामले में पुलिस ने चार आरोपियों नीरज शर्मा कुशल नेगी अनूप और वासिद को गिरफ़्तार करने में सफ़लता अर्जित की है इस मामले में दिल्ली पुलिस ने पहले भी चार लोगों को पकड़ा था।पुलिस ने जिन आरोपियो को गिरफ़्त में लिया है यह आधुनिक तकनीक के जानकार है इन्होंने एक सोफ़्ट वेयर ईजाद किया और अपनी कम्प्यूटर लेब के जरिये मुख्य आरोपियो की सहायता करते थे।

read more
दिल्लीदेश

SC-ST एक्ट में बदलाव के खिलाफ दायर याचिका की सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट ने 10 दिन बाद का समय दिया

Supreme Court

एससीएसटी एक्ट में बदलाव के खिलाफ दायर याचिका की सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट ने 10 दिन बाद का समय दिया

नई दिल्ली / सुप्रीम कोर्ट ने आज एससीएसटी एक्ट के संशोधन मामले में सुनवाई की । इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम किसी के खिलाफ नही है वही उसने 20 मार्च के पूर्व के फ़ैसले में फ़िलहाल कोई बदलाव नही किया और वह पहले की स्थिति में ही है सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई 10 दिन बाद करने की बात भी कही।जैसा कि केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने इस संशोधन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पुर्नविचार याचिका दाखिल की है।

इधर आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सरकार एससीएसटी एक्ट में किसी तरह का बदलाव नही चाहती और वह इसे पूर्व स्थिति में ही रखने की पक्षधर है।इस दौरान विपक्ष लोकसभा में एससीएसटी एक्ट में बदलाव को लेकर लगातार हंगामा और शोरगुल करता रहा।

read more
दिल्लीदेश

मोदी सरकार ने एससीएसटी एक्ट में संशोधन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पुर्न विचार याचिका दायर की, एससी ने मंजूर की याचिका

Supreme-Court
  • मोदी सरकार ने एससीएसटी एक्ट में संशोधन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पुर्न विचार याचिका दायर की,
  • एससी ने मंजूर की याचिका

नई दिल्ली / एससीएसटी एक्ट के बारे में सुप्रीम कोर्ट के संशोधन के खिलाफ केन्द्रीय सरकार ने आज पुर्नविचार याचिका दाखिल की है जिसे सुप्रीम कोर्ट ने मंजूर कर लिया है।

जैसा कि सुप्रीम कोर्ट ने 20 मार्च 2018 को दिये अपने फ़ैसले में एससीएसटी एक्ट में बदलाव किया था। इस संशोधन के तहत सीधे तौर पर अपराधिक मामला दर्ज करने पर रोक लगा दी थी, और प्रकरण दर्ज करने से पूर्व वरिष्ठ अधिकारी की सहमति का प्रावधान जोड़ दिया था, दलितों के खिलाफ अपराध की प्राथमिक जाँच के अधिकार डीएसपी को इसके साथ ही एफ़आईआर के बावजूद स्वत: या सीधी गिरफ़्तारी पर पाबंदी, आम लोगों की गिरफ्तारी जाँच के बाद और अग्रिम जमानत को मंजूरी देना प्रमुख है।

परंतु सबाल उठता है कि केन्द्रीय सरकार ने रीपिटीशन लगाने में बिलम्ब क्यों किया जब दलित संगठनों ने इसके विरोध में भारत बंद का आव्हान किया ठीक उसी दिन सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पुर्नविचार याचिका दाखिल की है यदि वह पहले ही यह कदम उठाती तो हो सकता था कि दलित संगठन भारत बंद को वापस ले लेते और देश में 10 लोगों की मौत नही होती ना ही आगजनी तोड़फोड़ और हिंसा का यह ताण्डव होता।

इधर केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गहलोत ने सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सरकार एससीएसटी वर्ग के हितो के सरंक्षण के लिये कृतसंकल्पित है और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तुरंत बाद सरकार इसके लिये पुर्नविचार याचिका दाखिल करने का मन बना चुकी थी, लेकिन कोर्ट की चार दिन की छुट्टी की बजह से याचिका दाखिल करने में देरी हो गई।

read more
दिल्ली

धांधली के खिलाफ एसएससी छात्रों का संसद पर मार्च, सीबीआई से जाँच की मांग, 210 छात्र गिरफ़्तार

SSC Delhi Protest

धांधली के खिलाफ एसएससी छात्रों का संसद पर मार्च, सीबीआई से जाँच की मांग, 210 छात्र गिरफ़्तार

नई दिल्ली-  एसएससी परीक्षा में धांधली को लेकर आंदोलन कर रहे हजारों छात्रों ने आज संसद पर अपना मार्च निकाला, इस दौरान सड़क पर जाम की स्थिति निर्मित हो गई मौके पर मौजूद पुलिस बल ने आंदोलनकारी छात्रों को खदेड़ने के लिये पहले हल्के बल का प्रयोग किया लेकिन छात्रों के सड़क से नही हटने और उग्र नारेबाजी के दौरान पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया, जिससे स्थिति और बिगड़ गई इस दौरान छात्रों और पुलिस के बीच कई बार झड़प होते भी देखी गई पुलिस ने करीब 210 एसएससी के छात्र छात्राओं को गिरफ़्तार कर लिया है।

जैसा कि करीब एक महिने से एसएससी छात्र परीक्षा प्रश्न पत्रों के लीक होने और परीक्षा में धांधली के खिलाफ दिल्ली मे आंदोलन कर रहे है देश के हजारों परीक्षार्थी इस आंदोलन में शिरकत कर रहे है उनकी मांग है कि इस मामले की जाँच सीबीआई करे और सरकार उन्हें लिखित में आश्वासन दें, जबकि सरकार जाँच की बात तो कर रही है परंतु उसने लिखित में किसी तरह का आश्वासन नही दिया हैं। इसी को लेकर छात्र अपनी माँग पर अड़े हुए हैं और उनका आंदोलन जारी है।

read more
दिल्ली

सीबीएसई पेपर लीक मामले को लेकर छात्र और पालकों का जंतर मंतर पर जोरदार प्रदर्शन, सीबीएसई की साख पर बट्टा लगा माना जावडेकर ने फ़ेल चौकीदार लीक सरकार, कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला

Prakash Javadekar
  • सीबीएसई पेपर लीक मामले को लेकर छात्र और पालकों का जंतर मंतर पर जोरदार प्रदर्शन
  • सीबीएसई की साख पर बट्टा लगा माना जावडेकर ने
  • फ़ेल चौकीदार लीक सरकार, कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला

नई दिल्ली / देश की शिक्षा की सबसे जानी मानी सरकारी संस्था सीबीएसई आज अविश्वनीय रूप लेती जा रही है पहले 12 वीं एकाँन्टेन्सी का पेपर लीक होता हैं तो शोर मचने पर सरकार और सीबीएसई ने भरोसा दिया कि आगे ऐसा नही होगा लेकिन बुद्धवार को कक्षा 12वीं अर्थशास्त्र ( इकोनोमिक्स) और कक्षा 10 के गणित विषय का पेपर लीक हो गया जबकि बच्चे पेपर दे चुके थे और खबर आई कि ये पेपर दोबारा हौंगे बच्चों पर जैसे बज्रपात हो गया क्योंकि उन्होंने पेपर देने से पहले काफ़ी मेहनत की थी, और सीबीएसई ने एक झटके में उनके सपनों को तोड़ दिया। बताया जाता है करीब 20 लाख बच्चों के भविष्य पर इसका प्रभाव पड़ेगा। दोबारा पेपर कराने के निर्णय के विरोध में आज हजारों छात्र छात्राओं के साथ उनके अभिभावको ने दिल्ली के जंतर मंतर पर जोरदार प्रदर्शन किया।

इधर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने आज कहा पेपर लीक होने से सीबीएसई की साख पर बट्टा लगा है उन्होंने कहा कि मैं खुद एक पेरेट्स होने के नाते बच्चों और उनके अभिभावको की पीड़ा को समझता हूं केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जिन्होंने यह गुनाह किया है उन्हें बख्शा नही जायेगा उन्होंने सख्त कार्यवाही के साथ नई नीति के तहत परीक्षा व्यवस्था की बात कही हैं और पेपर लीक मामले की एस आई टी से जाँच की घोषणा भी की है जावडेकर ने इसे गम्भीर मामला बताते हुए परीक्षा नियंत्रित करने के दोषियो पर सख्त कार्यवाही की बात भी कही है।परंतु सबाल उठता है जब 15 मार्च को एकाँउन्टेन्सी का पेपर लीक हुआ था उसके बाद सीबीएसई और सरकार ने कड़े कदम क्यों नही उठाये ?
इधर दिल्ली के जंतर मंतर पर पेपर लीक मामले के खिलाफ आज छात्र उनके अभिभावकों और टीचर्स ने जोरदार विरोध प्रदर्शन किया, सीबीएसई के दोबारा पेपर कराने के विरोध में हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया।छात्रों का कहना था हमारा क्या दोष है हम पेपर क्यों दें। इस मौके पर जंतर मंतर पर हजारों छात्र अपने पालको के साथ मौजूद थे।

जबकि दिल्ली पुलिस ने दो एफ़ आई आर दर्ज की है पुलिस ने दिल्ली के राजेन्द्र नगर और उत्तम नगर सहित अनेक कोचिन्ग सेन्टरों पर छापेमारी की और कुछ संचालकों को पकड़ा हैं, इस मामले की 25 लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही और पुलिस उन 10 छात्रों को भी गिरफ़्त में लेगी जिन्होंने पेपर लीक होने के साथ सबसे पहले उसको अन्य लोगों को भेजा था।

जबकि कांग्रेस ने इस पेपर लीक मामले को लेकर मोदी सरकार को कटघरे में खडा करते तीखा हमला किया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि मोदी उनकी एच आर डी मिनिस्ट्री और सीबीएसई के गठजोड और उनके फ़ैसलो से यह स्थिति बनी है जिसने परीक्षा के चार जोन को खत्म कर एक जोन बनाया, ऐसा क्यों किया गया ? सुरजेवाला ने कहा कि यह सरकार रोजगार नौकरी और शिक्षा सभी में फ़ेल साबित हुई है उन्होंने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि, फ़ेल चौकीदार लीक सरकार, आज मोदी सरकार की यही परिभाषा बची है।

read more
दिल्लीदेश

बीजेपी के खिलाफ़ साथ देने के लिये सोनिया से मिली ममता, बीजेपी के बागी नेताओं से भी की मुलाकात…वन टू वन का फ़ार्मूला होगा बीजेपी को हराने का कहा ममता ने

Mamta Banerji
  • बीजेपी के खिलाफ़ साथ देने के लिये सोनिया से मिली ममता,
  • बीजेपी के बागी नेताओं से भी की मुलाकात…
  • वन टू वन का फ़ार्मूला होगा बीजेपी को हराने का कहा ममता ने

नई दिल्ली / टीएमसी प्रमुख और प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बीजेपी के विकल्प के रूप में सभी विपक्षी राजनीतिक पार्टियों को एकजुट करने में जी जान से जुट गई है बुद्धवार को उन्होंने कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से मुलाकात की,बाद में उन्होंने कहा कि आज देश का लोकतंत्र खतरे में है और बीजेपी को सत्ता से बाहर करने के लिये विपक्ष को उससे वन टू वन फ़ाईट करने की जरूरत है।वही उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी से इस बारे में बात हुई है।

2019 के चुनाव के लिये मोदी सरकार के खिलाफ़ विपक्ष को एकजुट कर व्यापक मोर्चा बनाने निकली ममता बनर्जी कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से मिलने उनके निवास 10 जनपथ पहुंची,और उनके हालचाल जाने और उनके मुताबिक उन्होंने सोनिया से इस बाबत राजनीतिक चर्चा भी की।

ममता ने उसके बाद प्रेस को बताया कि सोनियाजी के परिवार से उनके पुराने रिश्ते है,उन्होंने उनकी तबियत जानने के साथ उनसे राजनीतिक चर्चा भी की, और उन्होंने भाजपा को हराने के लिये कांग्रेस का साथ मांगा, उन्होंने कहा कि, नरेंद्र मोदी की सरकार को उखाड़ फ़ैकने के लिये कांग्रेस को साथ देना चाहिये, ममता ने बताया कि सोनिया गांधी भी चाहती है कि देश हित में भाजपा को सत्ता से हटाना होगा, ममता ने कहाकि आज देश का लोकतंत्र खतरे में है यदि विपक्ष एकजुट नही होता तो स्थिति और बिगड़ जायेगी।ममता ने कहा कि हम वन टू वन फ़ार्मूले पर काम करेंगे, जिस प्रान्त या क्षेत्र में जिस राजनीतिक पार्टी का वर्चस्व होगा वही उस जगह एकजुट होकर बीजेपी के खिलाफ़ चुनाव में उतरेगी।उन्होंने साफ़ कहा कि 2019 के चुनाव में हमारे मोर्चे की रणनीति बीजेपी बनाम अदर्स की होगी।

खास बात है ममता ने विपक्ष के साथ भाजपा और मोदी के रवैये से नाराज उनकी पार्टी के बागी नेताओं को साधने से भी गुरेज नही की, इससे पूर्व उन्होने बीजेपी नेता जसवन्त सिन्हा अरुण शौरी और शत्रुघन सिन्हा से भी मुलाकात कर बीजेपी खेमे में हलचल मचा दी,ममता ने उनसे चर्चा करते हुए मोदी सरकार के खिलाफ़ विपक्षी मोर्चे में शामिल होने का उन्हें निमंत्रण दिया। इस मौके पर जसवन्त सिन्हा ने कहा कि ममता बनर्जी का काम सराहनीय है और हमारा समर्थन उनके साथ है, वही शौरी ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया में कहा मोदी सरकार हर मोर्चे पर विफ़ल रही है और उसके वायदे थौथे साबित हुए है ।शत्रुघन सिन्हा का कहना था कि यह पार्टी विरोधी गतिविधि नही है हम देश की रक्षा के लिये ममता बनर्जी के साथ आये है।

खास बात है ममता कांग्रेस का साथ तो लेना चाहती है परंतु विपक्षी मोर्चे की कमाम कांग्रेस को सौपने पर कतई राजी नही है।मंगलवार को ममता और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के बीच इस बारे में लम्बी चर्चा भी हुई, और ममता ने पवार को इस मोर्चे का नेतृत्व करने की पेशकश भी की थी, परंतु पवार ने इस बारे में कोई जल्दबाजी नही करने की सलाह देते हुए इस मुद्दे को बाद में सुलझाने की बात कही थी।

read more
कर्नाटकदिल्ली

कर्नाटक में चुनाव की तारीख का ऐलान, 12 मई को मतदान और 15 मई को होगी मतगणना, एक चरण में होंगे 224 सीटो पर चुनाव, चुनाव की तारीख लीक होने से बबाल 

Election Commision
  • कर्नाटक में चुनाव की तारीख का ऐलान,
  • 12 मई को मतदान और 15 मई को होगी मतगणना
  • एक चरण में होंगे 224 सीटो पर चुनाव, चुनाव की तारीख लीक होने से बबाल 

नई दिल्ली / चुनाव आयोग ने आज कर्नाटक विधानसभा चुनावों की तारीख का ऐलान कर दिया है, कर्नाटक में 12 मई को मतदान होगा और 15 मई को मतगणना होगी। प्रत्याशी 17 अप्रेल से अपना नामाकंन पत्र दाखिल कर सकेंगे।

चुनाव आयुक्त के मुताबिक 12 मई को कर्नाटक में होने वाले चुनाव के लिये 4.96 करोड़ मतदाता अपने मत का उपयोग करेंगे, जिसके लिये 56 हजार 696 पोलिंग बूथ बनाई जायेंगी, चुनाव आयुक्त ने बताया कि 97 फ़ीसदी वोटर कार्ड अभी तक जारी हो चुके है, 17 से नोटीफ़िकेश्न जारी होगा और 17 अप्रेल से ही नामाकंन आवेदन भरना शुरू हो जायेगा,जबकि नाम बापिसी 27 अप्रेल तक होगी, आयुक्त ने बताया कि मतदान ईवीएम से हौगे जिसमें वीवीपेट का उपयोग किया जायेगा, आयोग के मुताबिक सभी 224 विधानसभा सीटो पर एक चरण में 12 मई को ही चुनाव सम्पन्न कराये जा रहे है।

चुनाव आयुक्त ने बताया कि प्रत्याशी चुनाव में 28 लाख तक की राशि व्यय कर सकते है पेड न्यूज और चुनाव खर्च पर आयोग विशेष नजर रखेगा,विकलांग सहित सभी मतदाताओ की सुविधा और सुरक्षा व्यवस्था का माकूल इंतजाम किया जायेगा, जिसके लिये मतदान केन्द्रों पर केन्द्रीय पुलिस बल की तैनाती की जायेगी,आयोग ने बताया कि संवेदनशील और क्रीटीकल पोलिंग बूथ पर खास इंतजाम रखने के निर्देश दिये है।

मीडिया के चुनाव की तारीख पहले से लीक होने के सबाल को चुनाव आयुक्त ने काफ़ी गम्भीरता से लिया और कहा कि चुनाव आयोग इसकी जाँच करेगा और यदि ऐसा पाया गया तो कडी कार्यवाही की जायेगी। जैसा कि बीजेपी के आई टी सेल प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीटर पर पहले ही 12 मई को चुनाव की तारीख की बात बता दी थी। उन्हें कैसे मालूम हुआ? यह बड़ा सबाल है। वही इसमें चुनाव आयोग की भूमिका पर भी प्रश्न चिन्ह लगता है क्योंकि तारीख तो चुनाव आयोग ही तय करता हैं फ़िर उसके यहाँ से यह जानकारी कैसे लीक हो गई।

read more
दिल्ली

राहुल का मोदी और बीजेपी पर सीधा हमला, लोगों का भरोसा खत्म 2019 के चुनाव में फ़ँस जायेंगे मोदी, हत्यारोपी है पार्टी अध्यक्ष कहा राहुल ने

Rahul Gandhi
  • राहुल का मोदी और बीजेपी पर सीधा हमला,
  • लोगों का भरोसा खत्म 2019 के चुनाव में फ़ँस जायेंगे मोदी,
  • हत्यारोपी है पार्टी अध्यक्ष कहा राहुल ने

नई दिल्ली / कांग्रेस के अधिवेशन में आज अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार पर जमकर हमला बोला,और कहा कि मोदी का चेहरा बदल गया है गुजरात से तो निकल गये लेकिन खुली चेतावनी दी कि 2019 का चुनाव मोदी फ़ेस नही कर पायेंगे, और फ़ँस जायेंगे। राहुल इतने पर ही नही रुके उन्होंने बीजेपी और आरएसएस की तुलना सत्ता के नशे में चूर कौरवों और कांग्रेस और अपनी तुलना पाण्डवों से करते हुए कहा कि हम सच्चाई के साथ है। राहुल ने बिना नाम लिये बीजेपी पर हमला करते हुए तल्ख टिप्पडी की और कहा कि इस पार्टी का अध्यक्ष हत्या का आरोपी हैं।क्या हमारे देश की जनता इसे स्वीकार करेगी,राहुल ने कहा कि एक तरफ़ किसान आत्महत्या कर रहे है युवा बेरोजगार है और नरेन्द्र मोदी योगा करा रहे है।

कांग्रेस अधिवेशन में आज राहुल गांधी ने कप्तानी भरा भाषण दिया राहुल ने कांग्रेस की पिच पर मौका लगाकर खूब चौके छक्के जडे,उन्होने बीजेपी सरकार और मोदी पर तंज कसे तो कटांक्ष भी खूब किये।राहुल ने कहा कि एक तरफ़ नोटबंदी और जीएसटी से लोग परेशान है विदेश के मुकाबले हमारे यहाँ ज्यादा टेक्स है पर मोदीजी नही मान रहे हैं वे अपनी जिदद पर अडे हुए है और देश और विदेश में अपना फ़ैसला ठीक बताते नही थकते,उन्होंने कहा एक तरफ़ किसान परेशान है आत्महत्या कर रहा है और लाखों नोजवान बेरोजगारी से त्रस्त है वही हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन्डिया गेट पर योगा कराते है,राहुल यही नही रुके बीजेपी को भ्रष्टाचार पर घेरते हुए उन्होंने कहा मोदीजी की गाड़ी को धकेला गाड़ी स्टार्ट होती हैें एक तरफ़ नीरव मोदी दूसरी तरफ़ ललित मोदी लोगों के देखते देखते तेजी से आगे दोड जाती, लोग टापते रह जाते है।उन्होंने कहा कि मोदीजी पर जिन्होंने भरोसा किया उनका भरोसा खत्म हो गया है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि में शुरू से ही मंदिर जाता रहा हूं गुजरात के चुनावों में बीजेपी ने खूब हल्ला मचाया में मंदिर ही नही गुरुव्दारा चर्च और मस्जिद भी हम जाते है, हम नफ़रत नही करते गुस्सा नही करते हम प्यार में विश्वास करते है।उन्होंने देश के युवाओ नोजवानो का आव्हान करते हुए कहा कि हमारा स्टेज आपके लिये खाली है।

राहुल ने कुछ ऐसा भी कहा जो आज तक नही कहा गया क्या राहुल आम कांग्रेस कार्यकर्ताओं को उनका हक दिला पायेगे यह सबाल जरूर उठता है, राहुल ने कहा कि हमारे कार्यकर्ता कडी मेहनत कर पार्टी के लिये खून पसीना एक करता है परन्तु बड़े नेता पेराशूट से उतरते है उनके सामने पैसे की दीवाल खडी कर उनको उनका हक नही देने देते और आम कार्यकर्ता को चुनाव के समय टिकट नही मिल पाता पर आगे ऐसा नही होगा हम दीवार को ढहा दैंगे,और मेहनत करने वाले कार्यकर्ता को टिकट जरूर दैन्गे,पर राहुल की इस बात पर बड़े नेताओं के पेट में दर्द जरूर हुआ होगा।

कुल मिलाकर कांग्रेस इस अधिवेशन के जरिये पार्टी और कार्यकर्ताओं में जोश भरने की फ़िराक में नजर आ रही है राहुल गांधी की कोशिश कार्यकर्ताओं मे 2019 के चुनावो के लिये भरोसा भरना भी था। उसी की जमीन तैयार करने के लिये राहुल ने वो सभी आज कहा जो आज तक किसी ने नही कहा,यही बजह रही कि मोदी के साथ बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी राहुल ने नहीं छोड़ा, दौनो उनके निशाने पर रहे।

खास बात रही कि कांग्रेस ने अपने राष्ट्रीय अधिवेशन में इस बात पर मंथन नही किया कि वह देश के चुनावों में लगातार हार क्यों रही है,और ना ही इससे निपटने की उसने कोई रणनीति ही बनाई।

read more