close

कर्नाटक

कर्नाटकदेश

कुमारस्वामी ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दांवा पेश किया, बुधवार को ले सकते हैं मुख्यमंत्री पद की शपथ

KumaraSwami
  • कुमारस्वामी ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दांवा पेश किया,
  • बुधवार को ले सकते हैं मुख्यमंत्री पद की शपथ

बैंगलोर / कर्नाटक में बीजेपी की सरकार गिरने के बाद जेडीएस का सरकार बनाने का रास्ता साफ़ हो गया हैं जेडीएस के नेता एचडी कुमारस्वामी ने आज रात राज्यपाल बजूभाई वाला से मुलाकात की और पार्टी की तरफ़ से सरकार बनाने का दांवा पेश किया।

संभवत: कुमारस्वामी बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं।

read more
कर्नाटक

कर्नाटक का हाई वोल्टेज ड्रामा ख़त्म्, शक्ति परीक्षण से पहले ही येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा, जेडीएस खुश तो कांग्रेस को मिली नई ऊर्जा

Karnataka Vidhansabha
  • कर्नाटक का हाई वोल्टेज ड्रामा ख़त्म्, शक्ति परीक्षण से पहले ही येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा,
  • जेडीएस खुश तो कांग्रेस को मिली नई ऊर्जा

बैंगलोर / कर्नाटक के सियासी नाटक पर पूरे 55 घंटे बाद पर्दा गिर गया हैं येदियुरप्पा ने विधानसभा में बहुमत सिद्ध करने से पहले ही हथियार डाल दिये और राज्यपाल बजूभाई वाला को मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफ़ा सौप दिया। इसके बाद मौजूद कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों की खुशी साफ़ झलक रही थी ।इससे साफ़ होता हैं कि येदियुरप्पा समझ गये थे कि सदन में वे अपना बहुमत सिद्ध नही कर पायेंगे। येदियुरप्पा के इस्तीफ़े के बाद बीजेपी के सभी विधायक सदन से बाहर जाने लगे और उन्होंने सदन की समाप्ति पर होने वाले राष्ट्रीय गान में हिस्सा भी नही लिया।

इससे पूर्व सदन में अपने संबोधन में येदियुरप्पा ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि संवैधानिक मूल्यों पर कांग्रेस का कोई विश्वास नही है और सत्ता के लिये कांग्रेस कुछ भी कर सकती हैं जबकि कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को अपना जनमत दिया लेकिन कांग्रेस ने जेडीएस से मिलकर साजिश रची और ऐसा करके कांग्रेस और जेडीएस दौनो दलों ने कर्नाटक की जनता के साथ विश्वासघात किया है आगे वह उन्हें माफ़ नही करेगी।

खास बात हैं कर्नाटक मामले में सुप्रीम कोर्ट की भूमिका खास रही जिसने बहुमत सिद्ध करने के राज्यपाल के 15 दिन के फ़ैसले पर आपत्ति जताते हुए उसे बदल दिया और 24 घंटे में बहुमत सिद्ध करने के आदेश दिये जिससे बीजेपी को बहुमत सिद्ध करने के लिये जोड़तोड़ करने का समय नही मिला। यही बजह रही कि संभावित हार के चलते येदियुरप्पा ने शक्ति परीक्षण से पहले ही सदन में मुख्यमंत्री पद से अपने इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया जिससे कांग्रेस और जेडीएस के विधायको में खुशी छा गई साथ ही कर्नाटक और देश में कांग्रेस को जश्न मनाने का मौका मिल गया। साथ ही बीजेपी विधायको के राष्ट्रगान में शामिल नही होने से कांग्रेस को बीजेपी पर हमला करने का एक मौका भी मिल गया।

read more
कर्नाटक

येदियुरप्पा मुख्यमंत्री रहेंगे या कांग्रेस जेडीएस करेगी सीएम पद पर कब्जा, विधानसभा में कार्यवाही जारी, आज फ़ैसला

Karnataka Vidhansabha
  • येदियुरप्पा मुख्यमंत्री रहेंगे या कांग्रेस जेडीएस करेगी सीएम पद पर कब्जा,
  • विधानसभा में कार्यवाही जारी, आज फ़ैसला

बैंगलोर/ सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद कर्नाटक में सियासी गणित एकदम से बदल गया हैं येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बने रहने के लिये अब सिर्फ़ 24 घंटे में अग्निपरीक्षा से गुज़रना होगा देखना दिलचश्प होगा कि यह जादुई आँकड़ा पाने के साथ बहुमत सिद्ध करने के लिये बीजेपी 7 विधायकों का अतिरिक्त संख्या बल का जुगाड़ कैसे करती हैं। जबकि राज्यपाल बजूभाई वाला के के. जी. बौपया को प्रोटेम स्पीकर बनाने के फ़ैसले पर कांग्रेस ने नाराजी जाहिर करते हुए उसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कही हैं।

जैसा कि कर्नाटक की 224 विधानसभा में से 222 सीटो पर चुनाव हुए थे जिसमे बीजेपी को 104 कांग्रेस को 78 जेडीएस को 38 सीटों पर जीत मिली और 2 सीटों पर निर्दलीय चुनाव जीते थे। राज्यपाल ने जिस विधायक के. जी. बौपया को प्रोटोम स्पीकर (अस्थायी विधानसभा अध्यक्ष) बनाया है वह बीजेपी से है जिन्हें सदन में वोट देने का अधिकार नही होगा हाँ यदि पक्ष विपक्ष के बीच वोट संख्या यदि बराबर रहती है तभी यह अपने मत का प्रयोग कर सकते है इसके अलावा जेडीएस के एच. डी. कुमारस्वामी दो सीटो से जीते है जबकि उन्हें एक वोट देने का ही अधिकार होगा इस तरह अब 220 सीटों में बहुमत का आँकड़ा 111 रह जाता है जिसे पाने की चुनौती बीजेपी और येदियुरप्पा पर होगी अब देखना होगा कि इस जादुई आँकड़े को येदियुरप्पा कैसे पाते है। इसके लिये बीजेपी को कांग्रेस और जेडीएस के विधायको में सैंध लगाना होगी तो निर्दलीय विधायकों को भी घेरना होगा और हो सकता हैं लिंगायत वर्ग से आने वाले येदियुरप्पा कांग्रेस के 17 लिंगायत और 5 जेडीएस के लिंगायत समाज से आने वाले विधायकों पर नजर बनायेंगे और उन्हें तोड़ने में कामयाब हौंगे,जबकि मुख्यमंत्री के दूसरे दावेदार कुमारस्वामी वोकालिंगा समाज से आते हैं। और खासकर कांग्रेस के लिंगायत विधायक कुमारस्वामी को सीएम बनाने के पक्ष में नही थे।यह पिछले दिनों देखा भी गया था।

इधर कांग्रेस ने बीजेपी विधायक बौपया को प्रोटेम स्पीकर बनाने के राज्यपाल के निर्णय को गलत बताते हुए नाराजगी प्रकट की है कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के मुताबिक इस संवैधानिक पद पर सबसे सीनियर विधायक की नियुक्ति होती है और सदन में 8 – 8 बार विधायक बने सदस्य भी है लेकिन राज्यपाल ने तीसरी बार विधायक बने एक जूनियर को यह पद सौप दिया जिससे इस पद की गरिमा को ठेस लगी है कांग्रेस के सुरजेवाला ने मीडिया से कहा कि राज्यपाल के इस निर्णय को कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। जैसा कि कर्नाटक में कांग्रेस के आर. बी. देशपांडे और बीजेपी के उमेश कट्टी इस बार आँठवीं दफ़ा एमएलए चुनकर आये है और कांग्रेस का सोच था कि उम्र दराज देशपांडे प्रोटेम स्पीकर बनाये जायेंगे पर बौपाया के स्पीकर बनने से उसके इरादों पर पानी फ़िर गया इसी के चलते वह राज्यपाल के विरोध में उतर आई हैं।

इधर कर्नाटक विधानसभा में कार्यवाही शुरू हो गई है निर्धारित समय तक 222 में से 220 विधायक विधानसभा में मौजूद थे एक बीजेपी और एक कांग्रेस का विधायक मौजूद नही रहा इस दौरान विधायको के शपथ ग्रहण करने की कार्यवाही चल रही थी और शाम 4 बजे विधायकों के फ़्लोर टेस्ट की कार्यवाही होगी।

read more
कर्नाटक

सुप्रीम कोर्ट ने राज्यपाल के फ़ैसले को बदला, प्रोटेम स्पीकर के सामने कल फ़्लोर टेस्ट के दिये आदेश, येदियुरप्पा संकट में 111 का आंकड़ा पेश करने की चुनौती

Supreme-Court
  • सुप्रीम कोर्ट ने राज्यपाल के फ़ैसले को बदला,प्रोटेम स्पीकर के सामने कल फ़्लोर टेस्ट के दिये आदेश,
  • येदियुरप्पा संकट में 111 का आंकड़ा पेश करने की चुनौती

नई दिल्ली,बैंगलोर / कर्नाटक का सियासी नाटक अब नये मौढ पर आ गया हैं सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद अब येदियुरप्पा की मुश्किलों में इजाफ़ा ही नही हुआ बल्कि उनकी कुर्सी पर भी संकट आ गया है, सुप्रीम कोर्ट ने बहुमत सिद्ध करने के लिये उन्हें 24 घंटे का समय दिया है और एस सी ने प्रोटेम स्पीकर नियुक्त कर उसके सामने कल शनिवार को शाम चार बजे तक येदियुरप्पा को अपने विधायको की परेड कराने के आदेश दिये है अब सबाल यह है कि येदियुरप्पा बहुमत सिद्ध करने के लिये 111 विधायकों का संख्या बल कहा से लायेंगे और क्या वे 2008 वाला चमत्कार दोहरा पायेंगे, या फ़िर उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी से बेआबरू होकर उतरना होगा।

सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बैंच ने कांग्रेस और बीजेपी की दलीले सुनने के बाद आज कहा कि बीजेपी और येदियुरप्पा को15 दिन की बजाय कल शनिवार 4 बजे तक अपना बहुमत सिद्ध करना होगा और इसके लिये उन्हें प्रोटेम स्पीकर के सामने अपने विधायको का फ़्लोर टेस्ट कराना होगा।इस दौरान बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी ने सोमवार तक का समय मांगा पर एस सी ने उनकी यह मांग ठुकरादी, वही बीजेपी ने यह भी कहा कि कांग्रेस और जेडीएस के एमएलए शहर से दूर रिसोर्ट में इन्होंने भेज दिये है उनको आने में समय लग सकता है पर सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को भी कोई तवज्जों नही दी।

read more
कर्नाटकदेश

येददुयुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस राज्यपाल के फ़ैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गई, एससी ने बीजेपी से विधायकों की सूची मांगी

Yeddyurappa
  • येददुयुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली,
  • कांग्रेस राज्यपाल के फ़ैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गई,
  • एससी ने बीजेपी से विधायकों की सूची मांगी,

बैंगलोर / कर्नाटक में बीजेपी के सरकार बनाने के दांवे के बाद राज्यपाल बजूभाई बाला ने येददीयुरप्पा को सरकार बनाने का न्योंता कल दिया था आज येददीयुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली राज्यपाल ने येदुरप्पा को सदन में बहुमत सिद्ध करने के लिये 15 दिन का वक्त दिया है परन्तु सबाल यह है कि 104 विधायक रखने वाली बीजेपी सदन में कैसे अपना बहुमत सिद्ध कर सकेंगी?

इधर कांग्रेस भी राज्यपाल के इस फ़ैसले के खिलाफ खुलकर सामने आ गई हैं उसका कहना है जेडीएस (38) और कांग्रेस ( 78) और 1 निर्दलीय के साथ उसके संख्या बल 117 हैं उसके कहने के बावजूद राज्यपाल ने उनक गठबंधन को ना बुलाकर बीजेपी को बुलाया जो संवैधानिक मूल्यों का हनन है और बीती रात कांग्रेस ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया देश के मुख्य न्यायाधीश अरुण मिश्रा ने इसके लिये तीन जजों की बैंच गठित की और देर रात पौने दो बजे इस मामले की सुनवाई शुरू हुई कांग्रेस की तरफ़ से मनोज मनु सिंधवी ने अपनी दलील देते हुए कहा कि आरजेडी के साथ हमारे पास 117 विधायकों का संख्या बल है हमें राज्यपाल ने नही बुलाया और जो बहुमत में नही है उसे बुलाया राज्यपाल को ऐसी क्या जल्दी थी, इसके जबाव में बीजेपी का पक्ष रखते हुए मुकुल रोहतगी ने कहा कि बीजेपी सबसे बड़े दल के रूप में सामने आई इसलिये उसे राज्यपाल ने बुलाया वही राज्यपाल के फ़ैसले पर रोक नही लगाई जा सकती जबाव में सिंधवी ने कहा कि राज्यपाल का फ़ैसली जुडीशियल रिव्यु के तहत आता है इसलिये सुप्रीम कोर्ट को अधिकार है वह उसे बदल सकती हैं।

जजों की बैंच ने सरकारिया फ़ैसले का हवाला देते हुए कहा कि बीजेपी को अपना पक्ष रखना होगा कोर्ट जिसे परखेगा सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी से उन विधायकों की सूची भी माँगी है जिसके आधार पर सदन में वह अपना बहुमत सिद्ध करेगी सुप्रीम कोर्ट ने कल होने वाली सुनवाई में यह सूची देने के आदेश दिये है।

अब देखना होगा कि बीजेपी 104 के अलावा किन विधायको के नाम सुप्रीम कोर्ट को देती हैं इधर जेडीएस ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद फ़रोक्त का आरोप लगाया है साथ ही अपने विधायकों को वह केरल या कोच्चि ले जाने की तैयारी में है।

read more
कर्नाटकदेश

कर्नाटक में मतदान शुरू, करीब 5 करोड़ मतदाता करेंगे 2654 प्रत्याशियों के भाग्य फ़ैसला, सुरक्षा के व्यापक प्रबन्ध

Election

कर्नाटक में मतदान शुरू, करीब 5 करोड़ मतदाता करेंगे 2654 प्रत्याशियों के भाग्य फ़ैसला, सुरक्षा के व्यापक प्रबन्ध

बेंगलुरू / कर्नाटक में 222 विधानसभा सीटों के लिये आज मतदान हो रहा हैं फ़र्जी वोटर आई डी मिलने की बजह से चुनाव आयोग ने राजराजेश्वरी नगर विधानसभा सीट का चुनाव टाल दियस है कर्नाटक में सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक वोटिंग होना है कर्नाटक में 4.96 करोड़ मतदाता 2654 प्रत्याशियों के भाग्य का फ़ैसला अपने मतदान से आज करेंगे जैसा कि 15 मई को नतीजे आने है। जानकारी के मुताबिक शाम 4 बजे तक करीब 55 फ़ीसदी से अधिक मतदान हो चुका था। शाम 5 बजे तक 64.5 फ़ीसदी मतदान हो चुका है।

कर्नाटक चुनाव के लिये पुलिस और प्रशासन ने सुरक्षा के व्यापक प्रबन्ध किये है और प्रदेश में एक लाख 40 हजार सुरक्षा कर्मी और केन्द्रीय सुरक्षा बल के जवान तैनात किये गये ,जैसा कि कर्नाटक में 56 हजार 696 पोलिंग बूथ बनाये गये है खास तौर पर क्रीटीकल पोलिंग बूथस पर सुरक्षा के विशेष इन्जामात चुनाव आयोग ने किये है।

read more
कर्नाटक

कांग्रेस ने अम्बेडकर और दलितों का अपमान किया कहा मोदी ने… सिद्धारमैया के गढ़ में अमित शाह का रोड शो

amit-shah

कांग्रेस ने अम्बेडकर और दलितों का अपमान किया कहा मोदी ने… सिद्धारमैया के गढ़ में अमित शाह का रोड शो

बदामी-  कर्नाटक में चुनावी घमासान जारी है आज चुनाव प्रचार के अंतिम दिन बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने बदामी जो कांग्रेस नेता और मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का चुनाव क्षेत्र है उसमें रोड शो किया जिसमें लगा कि बीजेपी ने इस रोड शो में पूरी ताकत झोक दी और भारी सख्या में इसमें भीड़ जुटी। इस मौके पर अमित शाह ने कहा कि बीजेपी को कर्नाटक में व्यापक समर्थन मिल रहा हैं और बीजेपी 130 सीटे जीतेगी और कर्नाटक में सरकार बनायेगी।बदामी में रोड शो कर बीजेपी ने कांग्रेस के गढ़ में सैंध लगाने की जोरदार कोशिश की है जिससे सिद्धारमैया की मुश्किलों में इजाफ़ा हो सकता हैं।

इधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एससीएसटी को एप पर भेजे संदेश में कहा है कि कांग्रेस ने दलित वर्ग को हमेशा वोट बैन्क के रूप में ही उपयोग किया,और कांग्रेस ने अम्बेडकर का अपमान ही नही किया बल्कि उन्हें बदनाम भी किया मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने अम्बेडकर को 1952 के लोकसभा और 1953 के उपचुनाव में हराने के लिये पूरी शक्ति लगा दी थी,जिससे साफ़ है कांग्रेस ने कभी भी दलितो का सम्मान नही किया वह दलित विरोधी पार्टी रही है मोदी ने अपने संदेश में कहा कि बीजेपी ने दलितों को कानूनी हक दिया इज्जत दी साथ ही उनके हित में मुद्रा स्टेन्ड अप जैसी अनेक योजनाएं दी जिससे दलित समाज अपने बलबूते अपने पेरो पर खड़ा हो और आर्थिक रूप से मजबूत हो सके।

read more
कर्नाटकदेश

कर्नाटक चुनाव- कांग्रेस ने 218 प्रत्याशियों की सूची जारी की, मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी सीट से लड़ेंगे चुनाव

Siddaramaiah Minister
  • कर्नाटक चुनाव- कांग्रेस ने 218 प्रत्याशियों की सूची जारी की,
  • मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, चामुंडेश्वरी विधानसभा सीट से लड़ेंगे चुनाव

नई दिल्ली / कांग्रेस ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिये आज 218 प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, चामुन्डेश्वरी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। जैसा कि कर्नाटक में कुल 224 विधानसभाओं मे चुनाव सम्पन्न होना है।

कांग्रेस ने जारी सूची में 40 सीटों पर लिंगायत और 30 सीटों पर वोकालिगों समाज के लोगों को टिकट दिया है इसके साथ ही 11 पर महिला और 11 सीटो पर मुस्लिमों को अपना प्रत्याशी बनाया है, और 2-2 सीटो पर जैन और ईसाई समाज के उम्मीदवार बनाये है कांग्रेस ने मुख्यमंत्री सीतारमैया के बेटे डाँ. यतीन्द्र को वरुण विधानसभा सीट से अपना प्रत्याशी घोषित किया है। जैसा कि कर्नाटक में 12 मई को मतदान और 15 मई को मतगणना होगी।

read more
कर्नाटक

कर्नाटक चुनाव के लिये भाजपा ने 72 प्रत्याशियों की सूची जारी की

BJP

कर्नाटक चुनाव के लिये भाजपा ने 72 प्रत्याशियों की सूची जारी की

नई दिल्ली /भारतीय जनता पार्टी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिये 72 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी।

नई दिल्ली स्थित पार्टी के कार्यालय पर आज राष्ट्रीय चुनाव समिति की बैठक सम्पन्न हुई जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह विशेष रूप से मौजूद थे। जैसाकि कर्नाटक में आगामी 12 मई को विधानसभा चुनाव होंगे।

read more
कर्नाटकदिल्ली

कर्नाटक में चुनाव की तारीख का ऐलान, 12 मई को मतदान और 15 मई को होगी मतगणना, एक चरण में होंगे 224 सीटो पर चुनाव, चुनाव की तारीख लीक होने से बबाल 

Election Commision
  • कर्नाटक में चुनाव की तारीख का ऐलान,
  • 12 मई को मतदान और 15 मई को होगी मतगणना
  • एक चरण में होंगे 224 सीटो पर चुनाव, चुनाव की तारीख लीक होने से बबाल 

नई दिल्ली / चुनाव आयोग ने आज कर्नाटक विधानसभा चुनावों की तारीख का ऐलान कर दिया है, कर्नाटक में 12 मई को मतदान होगा और 15 मई को मतगणना होगी। प्रत्याशी 17 अप्रेल से अपना नामाकंन पत्र दाखिल कर सकेंगे।

चुनाव आयुक्त के मुताबिक 12 मई को कर्नाटक में होने वाले चुनाव के लिये 4.96 करोड़ मतदाता अपने मत का उपयोग करेंगे, जिसके लिये 56 हजार 696 पोलिंग बूथ बनाई जायेंगी, चुनाव आयुक्त ने बताया कि 97 फ़ीसदी वोटर कार्ड अभी तक जारी हो चुके है, 17 से नोटीफ़िकेश्न जारी होगा और 17 अप्रेल से ही नामाकंन आवेदन भरना शुरू हो जायेगा,जबकि नाम बापिसी 27 अप्रेल तक होगी, आयुक्त ने बताया कि मतदान ईवीएम से हौगे जिसमें वीवीपेट का उपयोग किया जायेगा, आयोग के मुताबिक सभी 224 विधानसभा सीटो पर एक चरण में 12 मई को ही चुनाव सम्पन्न कराये जा रहे है।

चुनाव आयुक्त ने बताया कि प्रत्याशी चुनाव में 28 लाख तक की राशि व्यय कर सकते है पेड न्यूज और चुनाव खर्च पर आयोग विशेष नजर रखेगा,विकलांग सहित सभी मतदाताओ की सुविधा और सुरक्षा व्यवस्था का माकूल इंतजाम किया जायेगा, जिसके लिये मतदान केन्द्रों पर केन्द्रीय पुलिस बल की तैनाती की जायेगी,आयोग ने बताया कि संवेदनशील और क्रीटीकल पोलिंग बूथ पर खास इंतजाम रखने के निर्देश दिये है।

मीडिया के चुनाव की तारीख पहले से लीक होने के सबाल को चुनाव आयुक्त ने काफ़ी गम्भीरता से लिया और कहा कि चुनाव आयोग इसकी जाँच करेगा और यदि ऐसा पाया गया तो कडी कार्यवाही की जायेगी। जैसा कि बीजेपी के आई टी सेल प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीटर पर पहले ही 12 मई को चुनाव की तारीख की बात बता दी थी। उन्हें कैसे मालूम हुआ? यह बड़ा सबाल है। वही इसमें चुनाव आयोग की भूमिका पर भी प्रश्न चिन्ह लगता है क्योंकि तारीख तो चुनाव आयोग ही तय करता हैं फ़िर उसके यहाँ से यह जानकारी कैसे लीक हो गई।

read more